Home /News /madhya-pradesh /

पाक के आतंकी अड्डों पर बम बरसाने वाले मिराज 2000 ने ग्वालियर से भरी थी उड़ान!

पाक के आतंकी अड्डों पर बम बरसाने वाले मिराज 2000 ने ग्वालियर से भरी थी उड़ान!

जिस मिराज फाइटर प्लेन ने जैश के आतंकी ठिकानों को नेस्तनाबूद किया, बताया जा रहा है कि उनमें से 3 ने ग्वालियर के महाराजपुर एयरफोर्स स्टेशन से उड़ान भरी थी. इस एयरबेस में सुखोई, मिराज और फाइटर प्लेन मौजूद हैं.

    एय़र स्ट्राइक में पाकिस्तान के आतंकी कैंपों पर बम बरसाने वाले 12 फाइटर प्लेन मिराज में से क्या कुछ ने ग्वालियर के महाराजपुरा एयरफोर्स स्टेशन से उड़ान भरी थी.इन्हीं मिराज प्लेन से POK में जैश के आतंकी कैंप पर 1000 किलो के बम बरसाए गए.

    POK में भारतीय वायुसेना के जिस मिराज फाइटर प्लेन ने जैश के आतंकी ठिकानों को नेस्तनाबूद किया, बताया जा रहा है कि उनमें से 3 ने ग्वालियर के महाराजपुर एयरफोर्स स्टेशन से उड़ान भरी थी. इस एयरबेस में सुखोई, मिराज और फाइटर प्लेन मौजूद हैं.

    ये भी पढ़ें - एयर स्ट्राइक के बाद शहीद अश्विनी के पिता बोले, 'अभी और कार्रवाई करे सरकार'

    बताया जा रहा है कि पुलवामा हमले के बाद अगले ही दिन 15 फरवरी को पीएम मोदी झांसी जाने के लिए ग्वालियर के एयरफोर्स स्टेशन आए थे. उस दौरान उन्होंने एयरफोर्स स्टेशन पर वायु सेना अफसरों की अहम बैठक ली थी. उसी वक्त ये तय हो गया था कि  पाकिस्तान के खिलाफ भारत बड़ी कार्रवाई की तैयारी में है, जिसमें महाराजपुरा एयरबेस का अहम रोल रहेगा. उसी दिन से एयरफोर्स स्टेशन में सैन्य तैयारी शुरू हो गई थी.

    ये भी पढ़ें - शहीद अश्विनी की मां बोलीं थीं - का कहूं बेटा...दो दिन पहले ही तो 'उससे' बात हुई थी

    ग्वालियर का ये महाराजपुरा एयरफोर्स स्टेशन 1942 में बना था और अब तक हुए युद्धों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुका है. 1965, 1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध में इसी एयरफोर्स स्टेशन से लड़ाकू विमानों ने उड़ान भरी थी. 1999 के कारगिल वार में भी ग्वालियर एयरफोर्स स्टेशन से गए लड़ाकू विमानों ने बम बरसाए थे.

    ग्वालियर का ये एयरफोर्स स्टेशन देश का एकमात्र एयरबेस है, जहां फाइटर प्लेन में हवा में ईधन भरा जा सकता है. यानी अगर युद्ध के दौरान उड़ान के वक्त किसी फाइटर प्लेन को ईधन की जरूरत पड़ी तो इस एयरबेस पर तुरंत दूसरा जेट प्लेन हवा में जाकर ही उसे रिफ्यूल कर सकता है.

    पिछले साल सितंबर में हिंदुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड ने एयरफोर्स के साथ मिलकर यहां लड़ाकू विमान 'तेजस' में हवा में ही ईंधन भरकर इतिहास रचा था.10 सितंबर 2018 को 20 हजार फीट की ऊंचाई पर भारतीय वायु सेना के एमकेआइ टैंकर विमान IL-78 से तेजस एलएसपी-8 में 1900 किलोग्राम ईंधन भरा गया था.

    Tags: Air Strike, CRPF, Gwalior Air force Station, Pulwama attack, Surgical Strike

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर