लाइव टीवी

इस वजह से शिवराज के धाकड़ मंत्री जयभान सिंह पवैया को मिली थी हार, ऐसे हुआ खुलासा

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 14, 2019, 5:15 PM IST
इस वजह से शिवराज के धाकड़ मंत्री जयभान सिंह पवैया को मिली थी हार, ऐसे हुआ खुलासा
अपने लोगों की वजह से ही चुनाव हारे थे पवैया.

विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में ग्वालियर से बीजेपी उम्‍मीदवार जयभान सिंह पवैया (Jaibhan Singh Pawaiya) की हार का वायरल ऑडियो से खुलासा हुआ है. पवैया को यहां कांग्रेस के प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradhuman Singh Tomar) ने हराया था.

  • Share this:
भोपाल. क्या विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में बीजेपी की हार की वजह अपनी ही पार्टी के जयचंद थे? फिलहाल ये सवाल इसलिए खड़ा हो रहा है, क्योंकि ग्वालियर में कांग्रेस और बीजेपी के दो पार्षदों के बीच बातचीत का ऑडियो वायरल हो रहा है. इसमें भाजपा पार्षद अपनी विरोधी पार्टी (कांग्रेस) के पार्षद को ये कहते हुए सुनाई दे रहे रहे हैं कि उसने ग्वालियर सीट से कांग्रेस उम्मीदवार को 5 लाख का पैकेज दिया था. दरअसल ये ऑडियो ग्वालियर में वार्ड 14 से कांग्रेस पार्षद विनोद (Vinod Yadav) यादव और वार्ड 13 से बीजेपी पार्षद धर्मेंद्र तोमर (BJP Councilor Dharmendra Tomar) के बीच का है. मजेदार बात ये है कि दोनों ही पार्षद अपनी-अपनी पार्टी के दिग्गज नेताओं के करीबी माने जाते हैं.

बीजेपी पार्षद पर लगे थे ये आरोप
विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा पार्षद धर्मेंद्र तोमर पर कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में काम करने के आरोप लगे थे. चुनाव नतीजों में बीजेपी उम्मीदवार को यहां से हार का मुंह देखना पड़ा था. हालांकि न्यूज़ 18 इस ऑडियो की किसी भी तरह से पुष्टि नहीं करता है.

ग्वालियर सीट पर कौन कौन था उम्मीदवार ?

ग्वालियर सीट से बीजेपी उम्मीदवार जयभान सिंह पवैया (Jaibhan Singh Pawaiya) थे. जबकि कांग्रेस ने यहां से प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradhuman Singh Tomar) को मैदान में उतारा था. विधानसभा चुनाव में प्रद्युम्न सिंह तोमर ने बीजेपी उम्मीदवार को शिकस्त दी थी. भाजपा के जयभान सिंह पवैया शिवराज सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री थे. जबकि चुनाव जीतने के बाद प्रद्युम्न सिंह
तोमर कमलनाथ सरकार में खाद्य मंत्री बने हैं. यही नहीं, पवैया संघ के करीबी माने जाते हैं और ग्वालियर में नरेंद्र सिंह तोमर के साथ इनका छत्तीस का आंकड़ा माना जाता है. जबकि प्रद्युम्न सिंह तोमर पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी माने जाते हैं.

बहरहाल, बीजेपी के जिस पार्षद का ऑडियो वायरल हुआ है वो मुरैना से सांसद और केंद्रीय कृषी मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के करीबी माने जाते हैं. जबकि कांग्रेस पार्षद विनोद यादव ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक हैं.ये भी पढ़ें-
कमलनाथ के मंत्री ने दिग्‍विजय सिंह के भाई को दी नसीहत, बोले-उनके बाल गायब हो गए लेकिन...

राम के नाम पर कमलनाथ सरकार को मिला BJP का साथ, ये है वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 5:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर