Home /News /madhya-pradesh /

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बदला राज घराने का इतिहास, रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर किया नमन

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बदला राज घराने का इतिहास, रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर किया नमन

Jyotiraditya Scindia News: केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने महारानी लक्ष्मी बाई की समाधि पर नमन कर 160 साल पुराना इतिहास बदल दिया.

Jyotiraditya Scindia News: केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने महारानी लक्ष्मी बाई की समाधि पर नमन कर 160 साल पुराना इतिहास बदल दिया.

Jyotiraditya Scindia tribute to Rani Lakshmi Bai: ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को वह कदम उठाया जो आज तक उनके परिवार ने कभी नहीं उठाया था. उन्होंने राज घराने का 160 साल पुराना इतिहास बदल दिया. रविवार को वे रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर गए और सिर झुकाकर उन्हें नमन किया. सिंधिया ने ये कदम उठाकर अपने आलोचकों को चित कर दिया. दरअसल, सिंधिया राज परिवार आजादी के बाद से ही राजनेताओं के निशाने पर रहा है, लेकिन ज्योतिरादित्य के इस कदम से उन्हें करारा जवाब मिल गया.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को राज घराने का इतिहास बदल दिया. उन्होंने रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर सिर झुकाकर उन्हें नमन किया. 160 साल के इतिहास में ये पहला मौका था जब सिंधिया राज परिवार का मुखिया रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर उन्हें नमन करने गया हो. सिंधिया के इस कदम से उनके आलोचकों को भी करारा जवाब मिल गया. सिंधिया राज परिवार आजादी के बाद से ही राजनेताओं के निशाने पर रहा है, लेकिन ज्योतिरादित्य के इस कदम से वे चारों खाने चित हो गए.

बता दें, नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को एलिवेटेड रोड की साइट का निरीक्षण किया. उसके बाद वे रानी लक्ष्मीबाई समाधि पर इस प्रोजेक्ट का प्रजेंटेशन देखने पहुंचे थे. यहां पहुंचने के बाद सिंधिया ने प्रजेंटेशन के लिए लगे कैम्प में जाने की बजाए रानी लक्ष्मीबाई की समाधि की तरफ कदम बढ़ाए. सिंधिया को रानी की समाधि पर जाते देख उनके समर्थक प्रद्युम्न सिंह तोमर भी पीछे चल दिए. सिंधिया ने रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर सिर झुकाकर नमन किया. सिंधिया ने समाधि की परिक्रमा की और एक बार फिर से सिर झुकाकर रानी को नमन किया. ये घटना सिंधिया परिवार के लिहाज से ऐतिहासिक है.

सिंधिया परिवार पर खड़े होते रहे सवाल

ऐसी किवदंतियां हैं कि सिंधिया परिवार ने 1857 की क्रांति के दौरान रानी लक्ष्मीबाई का साथ नहीं दिया था. तत्कालीन सिंधिया शासक जयाजी राव सिंधिया को रानी के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था. रानी से हार के बाद जयाजी राव ग्वालियर किला छोड़कर आगरा चले गए थे. बाद में जयाजी राव के लिए अंग्रेज सेना से ग्वालियर में रानी लक्ष्मीबाई से युद्ध लड़ा था. इसमे रानी लक्ष्मीबाई की शहादत  हुई थी, उनके शहादत स्थल पर आज रानी लक्ष्मीबाई की समाधि बनी है. सिंधिया परिवार द्वारा रानी के साथ दगाबाजी करने की बातें कई किताबों में लिखी गई हैं. तब से  सिंधिया परिवार कई तरह के आरोप झेल रहा है. यही वजह है कि 160 साल के लंबे अरसे में सिंधिया परिवार ने कभी भी वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की शहादत को नमन नहीं किया और न ही उनके समाधि स्थल पर राज परिवार के किसी मुखिया ने कदम रखा.

Tags: Gwalior news, Jyotiraditya Scindia, Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर