Home /News /madhya-pradesh /

महाआर्यमन सिंधिया ने जय विलास पैलेस में तलवार से काटे केक, राजनीति में एंट्री पर दिया बड़ा बयान

महाआर्यमन सिंधिया ने जय विलास पैलेस में तलवार से काटे केक, राजनीति में एंट्री पर दिया बड़ा बयान

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेटे महाआर्यमन ने बुधवार को अपना 26वां जन्मदिन धूमधाम से कार्यकर्ताओं के बीच मनाया.

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेटे महाआर्यमन ने बुधवार को अपना 26वां जन्मदिन धूमधाम से कार्यकर्ताओं के बीच मनाया.

Gwalior News : ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के बेटे महाआर्यमन (Mahaaryman Scindia) अमेरिका की येल यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर ग्वालियर लौट आए हैं. 17 नवंबर को उन्होंने अपना 26 वां जन्मदिन समर्थकों के साथ जय विलास पैलेस में मनाया. इस मौके पर महाआर्यमन ने कहा मैं सालों बाद अब स्थाई रूप से ग्वालियर आ गया हूं. मैं जनता से मिल रहा हूं लोगों को समझूंगा उसके बाद राजनीति करूंगा.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. सियासी मैदान में एक और बेटे की एंट्री होने वाली है. ये हैं केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के बेटे महा आर्यमन. महाआर्यमन हाल ही में अमेरिका से पढ़ाई कर लौटे हैं. महाआर्यमन बुधवार को 26 साल के हो गए. पहली बार सार्वजनिक रूप से उनका जन्मदिन मनाया गया. ग्वालियर के जय विलास पैलेस के कैंपस में वो पिता ज्योतिरादित्य के समर्थकों के साथ नजर आए. आतिशबाज़ी के बीच करीब आधा सैकड़ा यानि 50 केक उन्होंने काटे. केक पर लिखा था – युवराज साहब Happy Birthday.

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य के बेटे महाआर्यमन सियासी मैदान में उतरते नज़र आ रहे हैं. महाआर्यमन ने अपना 26 वां जन्मदिन सार्वजनिक रूप से मनाया. जयविलास पैलेस में जोरदार आतिशबाज़ी के बीच आधा सैंकड़ा से ज्यादा केक काटे. इस मौके पर ग्वालियर चंबल अंचल से युवाओं की फौज महाआर्यमन को बधाई देने महल में पहुंची.

दीपावली की तरह आतिशबाज़ी
बुधवार को सिंधिया परिवार के युवा सदस्य महा आर्यमन सिंधिया का 26 वां जन्मदिन मनाया गया. ग्वालियर चंबल सम्भाग के कोने कोने से सैकड़ों समर्थक जय विलास महल में जुटे थे. जन्मदिन के मौके पर महल में जोरदार आतिशबाज़ी की गई. महल में सिंधिया परिवार के केक के साथ ही आधा सैकड़ा से ज्यादा समर्थक मंडलियां केक लेकर पहुंची थीं. महाआर्यमन ने समर्थकों के लाए एक बड़े केक को तलवार से काटा.

पहले लोगों को समझ रहा हूं, फिर राजनीति करूंगा…
जन्मदिन के इस आयोजन को सिंधिया परिवार की नयी पीढ़ी के राजनीति में एंट्री से पहले सार्वजनिक जीवन की ट्रेनिंग माना जा रहा है. सियासी गलियारों में ये भी कयास लगाएं जाने लगे हैं कि कहीं ये 2023-24 के विधानसभा और फिर लोकसभा चुनाव में महा आर्यमन को उतारने की तैयारी तो नहीं.

पहले लोगों को समझ लूं…फिर राजनीति समझूंगा
अपने पहले सार्वजनिक जन्मदिन के मौके पर महाआर्यमन ने कहा कि वो अपने लोगों के बीच आकर खुश हैं. सियासत में आने के सवाल पर महाआर्यमन ने कहा मैं सालों बाद अब स्थाई रूप से ग्वालियर आ गया हूं. मैं जनता से मिल रहा हूं लोगों को समझूंगा उसके बाद राजनीति करूंगा.

महा आर्यमन को लांच करने के संकेत
केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पिछले महीने अपने बेटे महाआर्यमन को जल्द राजनीति में लाने के संकेत दिए थे. सिंधिया महाअष्टमी के मौके पर महाआर्यमन को अपने साथ लेकर सार्वजनिक कार्यक्रमों में आए थे. बंगाली समाज के पूजा कार्यक्रम में उन्होंने कहा भी था कि सिंधिया परिवार की अगली पीढ़ी अब आपके सामने है. चैंम्बर ऑफ कॉमर्स के कार्यक्रम में ज्योतिरादित्य के साथ महाआर्यमन मंच पर थे. ज्योतिरादिय ने व्यापारियों के समूह को सम्बोधित करते हुए कहा था कि..” हमने 20 साल राजनीति में सफर तय कर लिया, अब हम भी बुड्ढे होते जा रहे हैं, 26 साल के नौजवान पुत्र हो गए हमारे. बंगाली समाज के पूजन में सिंधिया ने मंच से कहा था कि”बंगाली परिवार 100 पहले ग्वालियर में बसे थे. सिंधिया परिवार का बंगाली समाज से निकटतम सम्बंध रहा है. मैं बचपन में माता पिता के साथ यहां पूजा करता था. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आगे कहा परिवार ने पीढ़ी दर पीढ़ी विजयापरम्परा निभाई है. अब सिंधिया परिवार की अगली पीढ़ी परंपरा का निर्वहन करने के लिए आपके सामने है”

सिंधिया समर्थकों ने किया स्वागत
महाआर्यमन की सियासी पारी के लिए पिता ज्योतिरादित्य के फैंस भी तैयार दिख रहे हैं. राज्यमंत्री OPS भदौरिया का कहना है सिंधिया राजपरिवार की चौथी पीढ़ी के रूप मे महाआर्यमन भी मानसिक रूप से तैयार हैं. महाराज सिंधिया की बढ़ती व्यस्तता के कारण युवराज आर्यमन ग्वालियर चंबल की जम्मेदारी संभालते नज़र आएंगे. सिंधिया के कट्टर समर्थक संजय शर्मा ने कहा युवराज महाआर्यमन के जन्मदिन में जुटी भीड़ ये बताती है कि सिंधिया परिवार के युवराज के लिए भी लोग पलक फावड़े बिछाकर इंतज़ार कर रहे हैं.

सियासत में सिंधिया परिवार की चौथी पीढ़ी 
भारत के इतिहास में राजशाही के दौर में सिंधिया राज परिवार का खासा रुतबा था. आज़ादी के  बाद देश की सियासत में सिंधिया राज परिवार का रसूख बरकरार है. कांग्रेस से सियासत शुरू करने वाली राजमाता ने जनसंघ और भाजपा को मजबूती देने में अहम रोल निभाया. इसी दौरान माधवराव 26 साल की उम्र में अपनी मां की पार्टी जनसंघ से सांसद बने. बाद में माधवराव ने कांग्रेस का दामन थामा 9 बार सांसद और तीन बार केंद्रीय मंत्री बने. माधव राव के बाद उनकी राजनीतिक विरासत को ज्योतिरादित्य ने आगे बढ़ाया. ज्योतिरादित्य 4 बार कांग्रेस सांसद और 2 बार केंद्रीय मंत्री बने. 2020 में भाजपा में शामिल हुए. ज्योतिरादित्य राज्यसभा से सांसद बने और मोदी सरकार में नागरिक उड्डयन मंत्री की जिम्मेदारी निभा रहे हैं.

जानिए महाआर्यमन को
देश के नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेटे महाआर्यमन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं. उनके पिता 2020 में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे. 26 साल के ग्वालियर राजघराने के वारिस अभी राजनीति के गुर सीख रहे हैं. उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव में मां प्रियदर्शिनी सिंधिया के साथ उन्होंने लोकसभा चुनाव में अपने पिता के लिए चुनाव प्रचार किया था. हालांकि उनके पिता यह चुनाव हार गए थे. महाआर्यमन ने भी अपने पिता की तरह ही दून स्कूल से पढ़ाई की है. आगे की पढ़ाई के लिए वह अमेरिका चले गए. उन्होंने अमेरिका की येल यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है. यह ग्रेजुएशन उन्होंने मार्च 20219 में पूरा किया. ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में जाने के फैसले के दौरान महाआर्यन के ट्वीट ने खासी सुर्खियां बटोरी थीं. उन्होंने पिता के फैसले पर गर्व करते हुए ट्वीट किया था. यह पहला मौका था जब सिंधिया खानदान की चौथी पीढ़ी सियासी तौर पर मुखर नजर आई थी. ट्वीट के जरिये महाआर्यमन ने लिखा था, “इतिहास गवाह है कि मेरा परिवार कभी भी सत्ता का भूखा नहीं रहा. जैसा कि हमने वादा किया था कि हम भारत और मध्य प्रदेश में प्रभावी बदलाव लाएंगे.”

Tags: Bjp madhya pradesh, Gwalior news, Jyotiraditya Scindia, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर