लाइव टीवी

ग्वालियर कांग्रेस दफ्तर से हटायीं ज्योतिरादित्य की फोटो, MLA मुन्नालाल गोयल कहां हैं!
Gwalior News in Hindi

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 16, 2020, 7:29 PM IST
ग्वालियर कांग्रेस दफ्तर से हटायीं ज्योतिरादित्य की फोटो, MLA मुन्नालाल गोयल कहां हैं!
ग्वालियर कांग्रेस दफ्तर से ज्योतिरादित्य की फोटो हटायीं

  • Share this:
ग्वालियर.ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) के बीजेपी (bjp) में जाने के बाद अब जिला कांग्रेस (congress) कार्यालय से उनकी तस्वीरें हटा दी गई हैं. सीएम (cm) बनने के डेढ़ साल बाद अब कमलनाथ की फोटो लगा दी गयी है. उधर इमरती देवी के सरकारी बंगले पर अब भी महिला बाल विकास मंत्री की नेम प्लेट चस्पा है, तो उधर ग्वालियर के एक वकील ने कांग्रेस विधायक मुन्नालाल गोयल को लेकर हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर कर दी है. गोयल सिंधिया समर्थकों के साथ बेंगलुरु में हैं. याचिका में कहा गया है कि गोयल 9 दिन से लापता हैं, उनके साथ अनहोनी की आशंका है.

कांग्रेस दफ्तर से महाराज हटे नाथ आए...
ग्वालियर जिला कांग्रेस दफ्तर से आखिरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर 18 साल बाद हटा दी गई हैं. सिंधिया की जगह अब सीएम कमलनाथ ने ले ली है. जिला कांग्रेस कार्यालय में कमलनाथ की फोटो लगा दी गयी है. ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के बाद जिला कांग्रेस कार्यालय से सोमवार को उनकी तस्वीरें पूरी तरह से हटा दी गई हैं. एमपी में कांग्रेस की सरकार बनने के डेढ़ साल बाद सोमवार को पहली बार सिंधिया के फोटो हटाकर सीएम कमलनाथ के फोटो जिला कांग्रेस कार्यालय में लगाए गए हैं.कांग्रेस दफ्तर से ज्योतिरादित्य सिंधिया के फोटो तो हटा दिए, लेकिन स्व. माधवराव सिंधिया की तस्वीरें जरूर लगी हुई हैं.

जिला अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा का कहना है कमलनाथ प्रदेश अध्यक्ष हैं, लिहाजा उनका फोटो लगाया गया है, सिंधिया गए तो उनको फोटो हटा दिया है. 2002 में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पार्टी की विधिवत सदस्यता ली थी, तब से ही उनके फोटो ग्वालियर जिला कांग्रेस कार्यालय में लगे थे. 2018 में एमपी में कांग्रेस सरकार बनने के बाद भी जिला कांग्रेस कार्यालय में सीएम कमलनाथ के फोटो नहीं लगाए गए थे.



इमरती अब भी महिला एवं बाल विकास मंत्री...।
सिंधिया समर्थक छह मंत्रियों को कमलनाथ की सिफारिश पर राज्यपाल ने पद से हटा दिया है. लेकिन इसके बाद भी ग्वालियर में सरकारी बंगले पर इमरती देवी की नेम प्लेट ज्यों की त्यों लगी है. ओल्ड झांसी रोड स्थित 44 नंबर बंगला पूर्व मंत्री इमरती देवी के नाम एलॉट है, कांग्रेस से बगावत कर सिंधिया का समर्थन करने वाले मंत्रियों के साथ ही इमरती देवी ने भी मंत्री पद से इस्तीफा दिया था. इस्तीफा देने वाले बाकी मंत्रियों के बंगले की नेम प्लेट हटा दी गई हैं.

गोयल के लिए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका
हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ में कांग्रेस विधायक मुन्नालाल गोयल को लेकर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की गई है. गोयल सिंधिया समर्थक विधायकों के साथ बेंगलुरु में हैं. एडवोकेट उमेश बोहरे ने हाईकोर्ट में ये याचिका दायर की है. इसमें आरोप लगाया है कि कांग्रेस के विधायक मुन्नालाल गोयल को बीजेपी ने बंधक बनाया है. उनके साथ अनहोनी भी हो सकती है. परिवालों का विधायक से संपर्क नहीं हो पा रहा है. याचिका में कहा गया है कि गोयल के क्षेत्र की जनता 9 दिन से परेशान है. याचिका में मध्य प्रदेश के प्रमुख सचिव ,गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक, एसपी ग्वालियर ,बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा ,विनय सहस्त्रबुद्धे और सीबीआई को पार्टी बनाया गया है. हाईकोर्ट में 19 मार्च को इस मामले की सुनवाई होगी.

ये भी पढ़ें-

राज्यपाल ने लिखी कमलनाथ को चिट्ठी, 17 मार्च को कराएं फ्लोर टेस्ट

MP विधानसभा की कार्यवाही 26 मार्च तक स्थगित, नहीं हुआ फ्लोर टेस्‍ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 16, 2020, 7:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर