Home /News /madhya-pradesh /

KBC 13: बिना लाइफ लाइन लिए ग्वालियर की 53 साल की गीता गौर बनी करोड़पति, ऐसा है उनका जीवन संघर्ष

KBC 13: बिना लाइफ लाइन लिए ग्वालियर की 53 साल की गीता गौर बनी करोड़पति, ऐसा है उनका जीवन संघर्ष

geeta singh gaur kbc:ग्वालियर की गीता सिंह गौर ने केबीसी में जीते एक करोड़.

geeta singh gaur kbc:ग्वालियर की गीता सिंह गौर ने केबीसी में जीते एक करोड़.

Geeta Gingh Gaur gwalior: ग्वालियर की रहने वाली गीता सिंह गौर ने KBC (kaun banega crorepati) में एक करोड़ रुपए जीतकर मिसाल कायम की है. वह चंबल के उस गांव से आती हैं जहां पर लड़कियों को घर से बाहर भी नहीं निकलने दिया जाता है. उन्होंने अपनी इच्छाशक्ति से पढ़ाई पूरी की 16 साल की मेहनत के बाद केबीसी के हॉट सीट तक पहुंची.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के ग्वालियर (Gwalior) की रहने वाली 53 साल की गीता सिंह गौर ने KBC (kaun banega crorepati) में एक करोड़ रुपए जीतकर साबित कर दिया कि अगर आपका इरादा पक्का है तो किसी भी उम्र और परिस्थितियों में कामयाबी हासिल की जा सकती है. दरसअल गीता उस सोच को बदलना चाहती है, जिसमे गृहणी की पहचान सिर्फ चार दिवारी में सीमित माना जाता है. यही वजह है कि गीता ने खुद की पहचान बनाने के लिए 16 साल तक मेहनत की और सदी के महानायक अमिताभ के सामने हॉट सीट पर बैठकर एक करोड़ रुपए रुपए जीत लिए. गीता इसे अपनी जिंदगी की सेकेंड इंनिग कहती है. ग्वालियर चंबल अंचल में 53 वर्षीय गीता सिंह गौर और महिलाओं के लिए मिसाल बनी है, क्योंकि 53 वर्ष की उम्र में महिलाएं अपने पारिवारिक कामकाज में व्यस्त रहती हैं, लेकिन गीता सिंह गौर ने अपनी प्रबल इच्छा शक्ति और लगन के कारण यह मुकाम हासिल किया है.

गीता सिंह गौर ने कहा कि जब मन में इच्छाशक्ति और लग्न होती है तो हर काम आसान हो जाता है और इसी के जरिए आज मैंने यह मुकाम हासिल किया है. गीता का कहना है कि उसे गृहणी के रूप में रिश्तेदार ही जानते थे. मन में यह बात खलती थी कि गृहणियों को सिर्फ घर के कामकाज के काबिल ही माना जाता था. गीता इस धारणा को बदलना चाहती थी. गीता अपनी खुद की पहचान बनाना चाहती थी. इसके लिए गीता ने KBC को बेहतर मंच माना. उन्होंने कहा कि मेरी हमेशा से इच्छा थी कि मैं KBC की हॉट सीट पर जाऊं और यही वजह है कि मैं 16 साल से लगातार प्रयास कर रही थी.

जिंदगी की सेकेंड इनिंग में अपने सपने पूरे करना चाहती हैं गीता

गीता सिंह गौर की दोनों बेटियों की शादी हो चुकी है. घर में व्यस्तता के चलते गीता सिंह गौर ने सामान्य ज्ञान और अपने प्रदेश की जानकारी पर हमेशा वह तैयारी करती रही. गीता सिंह गौर का कहना है कि जब वह घर में फ्री होती है तो वह सिर्फ किताबें और अखबार पढ़ना पसंद करती हैं और यही वजह है कि आज उन्होंने KBC 13 में एक करोड़ जीते हैं. उनका कहना है इस उम्र में अक्सर महिलाएं अपने सभी सपनों को दबा देती हैं. हताश और निराश होकर घर बैठ जाती हैं, लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए. जब उनके सपने हैं तो उनको आखिरी पड़ाव तक पूरा करने की कोशिश करनी चाहिए. मेहनत करने से सभी सपने पूरे होते हैं.

ये भी पढ़ें: दूसरे विश्व युद्ध में गंवाए पैर, फिर बलवंत सिंह ने सिस्टम से लड़ी जंग, अब 50 साल बाद मिलेगी पेंशन

चंबल के बारे में अमिताभ को बताया तो कहा जल्द आऊंगा ग्वालियर

गीता सिंह गौर मुरैना जिले की रहने वाली हैं और उनकी परवरिश और पढ़ाई-लिखाई भी मुरैना हुई है. वह चंबल के उस गांव से आती हैं जहां पर लड़कियों को घर से बाहर भी नहीं निकलने दिया जाता है. ऐसे में गीता सिंह गौर ने उच्च शिक्षा प्राप्त की और अपने सपनों को भी साकार किया. गीता सिंह गौर ने बताया कि जब केबीसी के सेट पर पहुंची तो अमिताभ बच्चन भी अंचल के बारे में जानकारी ली. जब मैंने बताया कि मैं चंबल से आती हूं तो वह बहुत खुश हुए और कहा चंबल के बारे में बहुत नाम सुना है. मैं जब ग्वालियर आऊंगा तो आपके पास ही आऊंगा.

Tags: Gwalior news, KBC 13, Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर