Home /News /madhya-pradesh /

know how notorious mba btech pass thug bihar brothers used to trap victims in lottery by fake phone calls cgpg

MBA- B.tech पास हाईटेक चोर! सगे भाई करते थे ठगी, जानें कैसे एक कॉल से फंसाते थे शिकार

Gwalior Lottery Thug Case: क्राइम ब्रांच ने ग्वालियर की एक महिला से लॉटरी के नाम पर ठगी करने वाले दो भाइयों को गिरफ्तार किया है,

Gwalior Lottery Thug Case: क्राइम ब्रांच ने ग्वालियर की एक महिला से लॉटरी के नाम पर ठगी करने वाले दो भाइयों को गिरफ्तार किया है,

Gwalior Big Crime: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh News) के ग्वालियर (Bihar Thug Brothers Arrested) में क्राइम ब्रांच ने एक शातिर ठग गिरोह का पर्दाफाश किया है. दरअसल, 2019 में ग्वालियर की एक महिला ने शिकायत दर्ज कराई थी कि इन आरोपियों ने एक फर्जी वेबसाइट बनाई है. इसके जरिए उन्होंने 10 लाख रुपये की कार लॉटरी में जीतने का झांसा दिया और 4 लाख रुपये एंठ लिए. इस शिकायत के बाद कार्रवाई करते हुए टीम फरीदाबाद पहुंची और पूरे फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश किया. पुलिस ने आरोपियों के पास से 9 लेपटॉप, 25 मोबाइल, 40 सिम सहित कई दस्तावेज बरामद किए हैं.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. MBA और B Tech पास बिहार के 2 भाइयों की जोड़ी ने देशभर में लॉटरी के नाम पर ठगी का जाल फैला रखा था. बिहार के छपरा निवासी दोनों भाई दिल्ली में कॉल सेंटर की आड़ में देशभर के लोगों के साथ करोड़ों रुपये की ठगी कर चुके हैं. लड़कियों के जरिए ग्राहकों को फोन लगाकर कार, बाइक, फ्रीज़, AC लॉटरी में खुलने का झांसा देते थे. फिर उनसे रजिस्ट्रेशन शुल्क, कस्टम ड्यूटी के नाम वसूली करते थे. उसके बाद सिम को बंद कर देते थे. क्राइम ब्रांच ने आरोपियों के पास से 9 लेपटॉप, 25 मोबाइल, 40 सिम सहित कई दस्तावेज बरामद किए हैं. जालसाज भाईयों की जोड़ी ने ग्वालियर की महिला को 10 लाख रुपये की कार खुलने के नाम पर साढ़े चार लाख रुपये की ठगी की तो क्राइम ब्रांच ने इस गैंग का भंडाफोड़ कर दिया.

दरअसल, साल 2019 में ग्वालियर की महिला जाफरीन नाज़ ने क्राइम ब्रांच में शिकायत दर्ज कराई थी कि आरोपियों ने एक फर्जी शॉपिंग वेबसाइट बनाई थी. फिर उन्होंने 10 लाख रुपये की कार उपहार में खुलने का झांसा देकर  साढ़े चार लाख रुपये की ठगी की थी. जब ग्वालियर में क्राइम ब्रांच ने 2 साल पहले हुए इस ठगी के मामले में हरियाणा के फरीदबाद में दबिश दी तो देशभर में लॉटरी के नाम पर ठगी करने वाली गैंग का भंडाफोड़ हुआ. क्राइम ब्रांच ने फरीदाबाद(हरियाणा) के अशोका एन्क्लेव पार्ट 2 के एक दफ्तर पर दबिश दी. यहां एक कॉल सेंटर संचालित होता मिला. पुलिस टीम ने वहां काम करने वाले लड़के- लड़कियों से पूछताछ की तो इस कॉल सेंटर के दोनों संचालक दोनों आरोपी बिहार के छपरा के रहने वाले मिले. बिहार के रविशेखर MBA और चंद्रभूषण प्रताप B. Tech पास आउट है. क्राइम ब्रांच ने दोनों आरोपियों को दबोच लिया.

अचछी डिग्री लेकर लोगों को ठगने का काम करते थे दोनों भाई

पकड़े गए रविशेखर MBA और चंद्रभूषण प्रताप B. Tech पास आउट है. दोनों सगे भाई है, जल्द रइस बनने के लिए दोनों ने ठगी का खेल शुरू कर दिया. दोनों भाइयों ने कई लड़के लड़कियों को अपने यहां काम पर रखा, लड़कियां ग्राहकों को फोन लगाकर लकी ड्रॉ निकलने की जानकारी देते थे. फिर झांसे में आने वाले ग्राहकों से रजिस्ट्रेशन शुल्क, तो कभी कस्टम ड्यूटी सहित अंत टैक्स के नाम पर रुपये की वसूली करते थे. ग्राहक से अलग-अलग खातों में रुपए ऑनलाइन ट्रांसफर कराते थे. जब ग्राहक इनकी जालसाज़ी समझ जाते तो आरोपी उस सिम को बंद कर देते थे.

ये भी पढ़ें: मोबाइल का नेट पैक हुआ खत्म, मजदूर पिता नहीं करा पाया रिचार्ज, 14 साल के बेटे ने उठाया खौफनाक कदम

एसपी अमित सांघी ने बताया कि दोनों आरोपियों से कुल 9 लेपटॉप, 25 मोबाइल, 40 सिम बरामद हुई है. दोनों भाइयों ने पूछताछ में बताया कि वो 2018 से ठगी का धंधा कर रहे थे. कॉल सेंटर पर काम करने वाली लड़कियों के जरिये लॉटरी में टीवी, फ्रिज, एसी, कार आदि निकलने के नाम पर लोगों को कॉल करवाया जाता था. फिर इनाम घर भिजवाने के नाम पर रुपये ट्रांसफर करवाए जाते थे. इनके ऑफिस से मिले दस्तावेजों की जांच पर से खुलासा हुआ कि दोनों ने देशभर में हजारों लोेगों से लॉटरी लगने के नाम पर करोड़ों की ठगी की है. दोनों आरोपियों ने “डायरेक्ट सेविंग” एजेंट बनकर लोन देने की आड़ में फर्जी कॉल सेंटर चला रखा था. कॉल सेंटर में एक दर्जन से अधिक कर्मचारियों की तैनाती थी. आरोपियों ने ठगी के रुपयों से दिल्ली में 10 कमरों का आलीशान कॉल सेंटर बनाया था.

Tags: Crime in MP, Gwalior news, Mp news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर