लोकसभा चुनाव 2019 : 'राजा' के समर्थक के नाम पर संदेह के दायरे में 'महाराजा' के मंत्री

ग्वालियर में कांग्रेस दो गुटों में बंटी रहती है, एक गुट ज्योतिरादित्य सिंधिया का है तो दूसरा गुट दिग्विजय सिंह का है. ग्वालियर के कांग्रेस प्रत्याशी अशोक सिंह को दिग्विजय गुट का माना जाता है. जबकि प्रदेश सरकार के तीन मंत्री और तीन विधायक सिंधिया खेमे से हैं

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: May 18, 2019, 7:35 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019 : 'राजा' के समर्थक के नाम पर संदेह के दायरे में 'महाराजा' के मंत्री
ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह
Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: May 18, 2019, 7:35 AM IST
ग्वालियर में पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले 8 फीसदी ज़्यादा वोटिंग होने के बावजूद कांग्रेस के मंत्री और विधाय़क सवालों के घेरे में हैं. लोकसभा चुनाव में 60 फीसदी मतदान हुआ जो 2014 को मुक़ाबले 8 फीसदी ज़्यादा है. लेकिन मंत्री और विधायकों के इलाकों में 2018 के विधानसभा चुनाव के मुकाबले 14 फीसदी तक कम वोटिंग हुई है. आरोप लग रहे हैं कि सिंधिया खेमे के मंत्रियों और विधायकों ने दिग्विजय खेमे के कांग्रेस प्रत्याशी अशोक सिंह के लिए काम नहीं किया. अगर यहां कांग्रेस को नाकामी मिलती है तो ये मामला तूल पकड़ेगा.
ग्वालियर लोकसभा क्षेत्र में 2014 के मुक़ाबले 2019 में वोटिंग परसेंटेंज 8 फीसदी ज़्यादा रहा. 2014 में 52 फीसदी वोटिंग हुई थी जो 2019 में बढ़कर 60 फीसदी रही. उसके बावजूद इलाके के मंत्री शक़ के दायरे में हैं. वजह ये है कि 2018 के विधानसभा चुनाव के मुक़ाबले कांग्रेस के मंत्रिय़ों औऱ विधायकों के इलाकों में लोकसभा में वोटिंग परसेंटेज 5 फीसदी तक गिरा है.
- मंत्री लाखन सिंह की भितरवार सीट पर विधानसभा में 72 फीसदी वोट पड़े थे. लोकसभा में 58 फीसदी वोटिंग हुई. यहां 14 फीसदी वोट घटे मतलब 35 हजार वोट कम पड़े.
- मंत्री प्रदुम्न की ग्वालियर सीट पर विधानसभा में 63 फीसदी वोट पड़े थे. लोकसभा में 58 फीसदी वोटिंग हुई. यहां 5 फीसदी वोट घटे मतलब 12 हजार वोट कम पड़े.

- मंत्री इमरती के इलाके में विधानसभा में 68 फीसदी वोट पड़े थे लोकसभा में 63 फीसदी वोटिंग हुई, यहां भी 5 फीसदी वोट घटे मतलब 14 हजार वोट कम पड़े.
- विधायक मुन्ना लाल के इलाके में भी विधानसभा चुनाव के मुकाबले लोकसभा में 4 फीसदी वोट कम पड़े, य़हां 54 फीसदी मतदान हुआ है विधानसभा में ये 58 फीसदी था.
कांग्रेस के मंत्रियों और विधायकों के इलाकों में 5 से लेकर 14 फीसदी तक वोट कम पड़े हैं. अगर कांग्रेस ग्वालियर सीट से जीत गयी तो सब सामान्य रहेगा. लेकिन अगर हार गयी तो सीधे मंत्री और विधायकों पर सवाल उठेंगे.
Loading...

ग्वालियर में कांग्रेस दो गुटों में बंटी रहती है, एक गुट ज्योतिरादित्य सिंधिया का है तो दूसरा गुट दिग्विजय सिंह का है. ग्वालियर के कांग्रेस प्रत्याशी अशोक सिंह को दिग्विजय गुट का माना जाता है. जबकि प्रदेश सरकार के तीन मंत्री और तीन विधायक सिंधिया खेमे से हैं. चर्चा है कि सिंधिया समर्थक मंत्री और विधायकों ने कांग्रेस प्रत्याशी अशोक सिंह की राह मुश्किल करने के लिए मेहनत नहीं की.यही वजह है कि उनके इलाकों में विधानसभा चुनाव के मुकाबले 15 से 35 हजार वोट कम पड़े.
ग्वालियर में कांग्रेस राजा-महाराजा गुट की खीचतान में उलझी है. सिंधिया खेमे के मंत्री और विधायकों के इलाकों में वोटिंग परसेंटेज गिरने से सवाल खड़े हो रहे हैं. अगर कांग्रेस को इस बार भी कामयाबी नहीं मिली तो हार का ठीकरा सिंधिया खेमे के मंत्री- विधायकों के सिर पर फूटेगा.

ये भी पढ़ें -जानिए कौन हैं अनिल सौमित्र, जिनके एक post ने खड़ा किया विवाद


  • एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स


  • LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी



Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार