मध्य प्रदेश: 20 रुपये चुराने का आरोपी 41 साल की कानूनी लड़ाई के बाद हुआ बरी

शनिवार को लगी लोक अदालत ने एक शख्स को 41 साल पहले 20 रुपये चुराने के मामले में बरी कर दिया है. शिकायतकर्ता ने जब शिकायत दर्ज कराई थी तब वह मात्र 20 साल के थे, जब फैसला हुआ तो वह 61 साल के हो चुके हैं.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 15, 2019, 6:37 PM IST
मध्य प्रदेश: 20 रुपये चुराने का आरोपी 41 साल की कानूनी लड़ाई के बाद हुआ बरी
20 रुपये चुराने के आरोप में 41 साल तक चला केस
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 15, 2019, 6:37 PM IST
मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. शनिवार को लगी लोक अदालत ने एक शख्स को 41 साल पहले 20 रुपये चुराने के मामले में बरी कर दिया है. बाबूलाल नाम के शख्स ने 1978 में शिकायत दर्ज कराई थी कि वह बस का टिकट लेने के लिए लाइन में खड़े थे. इस दौरान आरोपी इस्माइल खान ने उनकी जेब से 20 रुपये चुरा लिए थे.

शिकायतकर्ता ने जब शिकायत दर्ज कराई थी तब वह मात्र 20 साल के थे, जब फैसला हुआ तो वह 61 साल के हो चुके हैं. वहीं, आरोपी इस्माइल खान अब 68 साल के हो चुके हैं. अदालत के एक अधिकारी ने बताया कि न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी (जेएमएफसी) अनिल कुमार नामदेव ने ग्वालियर के रहने वाले आरोपी इस्माइल खान को 41 साल पुराने मामले में बरी कर दिया है. साथ ही उन्होंने आरोपी ने अदालत से कहा है कि भविष्य में वह किसी भी तरह की अवैध गतिविधियों में शामिल नहीं होगा.



तीन महीने से था जेल में-

शिकायतकर्ता बाबूलाल ने बताया कि 1978 में उन्होंने इस्माइल के खिलाफ मामला दर्ज कराया था लेकिन कुछ महीने बाद उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया. वह अदालत में सुनवाई के लिए आया करता था, लेकिन वह 2004 से आना बंद कर दिया. इसके बाद एक वारंट जारी किया गया था और आरोपी को अप्रैल 2019 में फिर से गिरफ्तार कर लिया गया.

आर्थिक स्थिति बेहद खराब-

बाबूलाल ने कहा कि इस्माइल के परिवार में कोई अन्य सदस्य नहीं है. वह अकेले रहता है और उसकी आर्थिक स्थिति बहुत खराब है. जमानत के लिए आवेदन दायर करने के भी इस्माइल के पास पैसे नहीं है. जिसके बाद न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी ने लोक अदालत में सुनवाई के लिए हम दोनों को बुलाया था और मामले में इस्माइल को बरी कर दिया.

ये भी पढ़ें- युवती के परिजन बोले- हमें ये शादी मंजूर नहीं, बेटी से मिलवाओ
Loading...

ये भी पढ़ें- आदिवासियों पर गोली चलाने की घटना पर घिरी कमलनाथ सरकार
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...