अपना शहर चुनें

States

इमरती देवी ने महिला एवं बाल विकास मंत्री पद से दिया इस्तीफा, CM के फैसले का इंतज़ार...

इमरती देवी हाल में हुए उप चुनाव में डबरा सीट से हार गयीं हैं.
इमरती देवी हाल में हुए उप चुनाव में डबरा सीट से हार गयीं हैं.

इमरती देवी (Imarti Devi) का कहना है कि मैंने इस्तीफा दे दिया है, अब इस्तीफा मानना या ना मानना सीएम (CM Shivraj) के हाथ में है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2020, 1:18 PM IST
  • Share this:
ग्वालियर. शिवराज सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री रहीं इमरती देवी (Imarti Devi) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इसकी पुष्टि खुद इमरती देवी ने की है. अब उन्हें सीएम शिवराज (CM Shivraj) की मंज़ूरी का इंतज़ार है.

महिला और बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने अपने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. इसकी पुष्टि खुद इमरती देवी ने की है. इमरती देवी डबरा विधानसभा से चुनाव लड़ी थीं और चुनाव में हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से मिलने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.इमरती देवी का कहना है कि मैंने इस्तीफा दे दिया है, अब इस्तीफा मानना या ना मानना सीएम के हाथ में है.

तब से अब तक
इमरती देवी ग्वालियर की डबरा सीट से हाल ही में हुए उपचुनाव में हार गयी थीं. वो इस बार बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ी थीं. इमरती उससे पहले तक कांग्रेस में थीं और लगातार इस सीट पर कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतती आ रही थीं. सिंधिया समर्थक इमरती देवी ने सिंधिया के बीजेपी में जाने के बाद दल बदल लिया था और विधायक पद से इस्तीफा दे दिया था. उनके इस्तीफे के बाद डबरा सीट खाली हो गयी थी और इस पर उप चुनाव हुआ था.इसमें वो अपने समधी सुरेश राजे से करीब ढाई हज़ार वोटों से हार गयी थीं. इमरती कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में भी महिला बाल विकास मंत्री थीं और दल बदलने के बाद शिवराज सरकार में भी उन्हें यही महकमा मिला था. लेकिन उप चुनाव हारने के बाद से उनके इस्तीफे की अटकलें लगायी जा रही थीं. इमरती देवी के बयानों से असल में चर्चाओं को बल मिला था जो उप चुनाव हारने के बाद उन्होंने दिये थे. इमरती देवी ने कहा था कि चुनाव हार गयी तो क्या हुआ मंत्री तो मैं बनी रहूंगी. फिर कहा था कि सरकार तो मेरी ही है.




3 मंत्री हार गए थे चुनाव
ग्वालियर चंबल-अंचल में तीन मंत्रियों एदल सिंह कंसाना, गिर्राज दंडोतिया और इमरती देवी को को हार का सामना करना पड़ा था. दो मंत्री पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं. सिंधिया की खास होने के कारण इमरती देवी के इस्तीफे को लेकर लगातार अटकलें लगायी जा रही थीं.इस्तीफ़ा ना देने के कारण कांग्रेस और भाजपा लगातार आमने-सामने बनी हुई थी. मामला तूल पकड़ने के बाद मंत्री ने स्थिति साफ की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज