Home /News /madhya-pradesh /

अब अंबाला सेंट्रल जेल की मिट्टी से गोडसे की मूर्ति बनाएगी हिंदू महासभा, वहीं हुई थी नाथूराम को फांसी

अब अंबाला सेंट्रल जेल की मिट्टी से गोडसे की मूर्ति बनाएगी हिंदू महासभा, वहीं हुई थी नाथूराम को फांसी

Gwalior : हिंदू महासभा के कार्यकर्ता अंबाला जेल से वहां की मि्ट्टी लाए हैं जहां गोडसे को फांसी दी गयी थी

Gwalior : हिंदू महासभा के कार्यकर्ता अंबाला जेल से वहां की मि्ट्टी लाए हैं जहां गोडसे को फांसी दी गयी थी

Hindu Mahasabha News : हिंदू महासभा के एक के बाद एक लिए जा रहे फैसले चर्चा का विषय बन रहे हैं. अब वो अंबाला जेल की मिट्टी से नाथूराम गोडसे की मूर्ति बनाने जा रही है. ये मिट्टी अंबाला से लायी गयी है जहां गोडसे को 15 नवंबर 1949 को फांसी दी गयी थी. महासभा ये मूर्ति अपने दफ्तर में लगाएगी.

अधिक पढ़ें ...

    ग्वालियर. 16 नवंबर. हिंदू महासभा फिर नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) के कारण चर्चा में है. उसने ऐलान किया है कि वो अंबाला सेंट्रल जेल से लायी गयी मिट्टी से नाथूराम गोडसे की प्रतिमा बनाएगी. महासभा के कार्यकर्ता पिछले हफ्ते अंबाला (Ambala) गए थे. वहां की जेल से ये मिट्टी लाए थे. इसी जेल में नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को महात्मा गांधी की हत्या के अपराध में 15 नवंबर 1949 को फांसी दी गई थी.

    हिंदू महासभा ने ऐलान किया है कि वो हरियाणा की अंबाला सेंट्रल जेल से लाई गई मिट्टी से नाथूराम गोडसे की प्रतिमा बनाएगी. यही प्रतिमा ग्वालियर में स्थापित की जाएगी. दक्षिणपंथी संगठन ने यह टिप्पणी सोमवार को की। महासभा के कार्यकर्ता पिछले हफ्ते अंबाला की जेल से मिट्टी लाए थे जहां गोडसे और नारायण आप्टे को महात्मा गांधी की हत्या के अपराध में फांसी दी गई थी.

    बलिदान धाम बनाएंगे
    हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ जयवीर भारद्वाज ने पत्रकारों से कहा कि इस मिट्टी से गोडसे और आप्टे की प्रतिमा बना कर उन्हें ग्वालियर में महासभा के कार्यालय में स्थापित किया जाएगा. महासभा के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को मेरठ (उत्तर प्रदेश) के ‘बलिदान धाम’ में गोडसे और आप्टे की प्रतिमाएं स्थापित कीं. उन्होंने कहा, हम हर राज्य में इस तरह के बलिदान धाम का निर्माण करेंगे.

    ये भी पढ़ें- MP के इस गांव में अचानक पहुंचे सचिन तेंदुलकर, उमड़े फैन्स, भावुक होकर बोले- आज अगर पिता जिंदा होते…

    2017 में भी हुई थी कोशिश
    उन्होंने कहा ग्वालियर जिला प्रशासन ने यहां महासभा के कार्यालय में स्थापित गोडसे की प्रतिमा को 2017 में जब्त कर लिया था, उसे अब तक नहीं लौटाया गया. भारद्वाज ने आरोप लगाया कि 1947 में देश के विभाजन के लिए कांग्रेस जिम्मेदार थी, जिसके कारण बड़े पैमाने पर लोगों की हत्या हुई.

    कोई कार्यक्रम नहीं
    इस बीच, ग्वालियर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र सिंह तोमर ने कहा कि गोडसे के फांसी दिवस पर यहां हिंदू महासभा का कोई सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं हुआ. अब तक यहां कोई प्रतिमा नहीं लगाई गई है और संगठन की गतिविधियों पर पुलिस नजर रखे हुए है.

    गोडसे बयान अध्ययन माला
    इससे पहले हिंदू महासभा ने ग्वालियर में गोडसे का मंदिर और गोडसे ज्ञानशाला बनाने की कोशिश की थी. उसी ने अब “गोडसे बयान अध्ययन माला” शुरू की है. इसके जरिए वो गोडसे के फांसी से पहले दिए बयान को लाखों लोगों तक पहुंचाएगी. ये अध्ययन शाला उसने दौलतगंज स्थित भवन में खोली है. (भाषा के इनपुट के साथ)

    Tags: Ambala news, Gwalior news, Hindu Mahasabha, Nathuram Godse

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर