NCTE ने एमपी के 44 बीएड कॉलेजों को बंद करने का फैसला किया

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 26, 2019, 4:02 PM IST
NCTE ने एमपी के 44 बीएड कॉलेजों को बंद करने का फैसला किया
एनसीटीई ने मध्य प्रदेश के 44 बीएड कॉलेजों को बंद करने का फैसला किया

नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन (NCTE) ने ग्वालियर-चंबल अंचल (Gwalior-Chambal Region) के 10 बीएड कॉलेजों (BEd Colleges) सहित प्रदेश के 44 बीएड कॉलेजों को बंद करने का फैसला किया है. NCTE ने ये निर्णय (Decision) कॉलेजों द्वारा मानदंड का पालन नहीं करने के कारण लिया है.

  • Share this:
नया शिक्षण सत्र शुरू होने के साथ ही एमपी के बीएड कॉलेजों को झटका लगा है. नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन (NCTE) ने ग्वालियर-चंबल अंचल (Gwalior-Chambal Region) के दस बीएड कॉलेजों सहित प्रदेश के 44 बीएड कॉलेजों को बंद करने का फैसला लिया है. NCTE ने ये निर्णय कॉलेजों के द्वारा मानदंड का पालन नहीं करने के कारण लिया है.

कोर्ट जाने की तैयारी में कॉ़लेज
दरअसल एडमिशन प्रक्रिया पूरी होने के बाद आए इस निर्णय से कॉलेजों और नए एडमिशन लेने वाले छात्रों में अफरा तफरी की स्थिति है. कुछ कॉलेजों ने मानदंड पूरे कर तत्काल एनसीटीई से राहत की मांग की है, जबकि कुछ कॉलेज कोर्ट जाने की तैयारी में हैं. जबकि जीवाजी यूनिवर्सिटी के मुताबिक NCTE के इस आदेश से जीवाजी विश्वविद्यालय के 10 कॉलेजों की मान्यता गई है.

4 हज़ार छात्रों के भविष्य पर संकट

आपको बता दें कि प्रदेश में बीएड के 535 कॉलेज हैं. जिसमें से 44 कॉलेज अचानक बंद होने से सीधे तौर पर चार हजार छात्रों के भविष्य पर संकट आ गया है, क्योंकि हर कॉलेज में कम से कम सौ सीटे हैं. ज्यादातर कॉलेजों में 80 से 90 फीसदी तक सीटें भरी थीं. फिलहाल इस निर्णय से कॉलेजों के सामने सत्र 2019-20 शुरू करने का संकट हो गया है.

ये भी पढ़ें -
बीजेपी नेताओं के निधन पर बोलीं प्रज्ञा ठाकुर- विपक्ष करा रहा है जादू-टोना!
Loading...

INX मीडिया केस में ऐसे फंसते चले गए चिदंबरम, सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत, अब CBI कोर्ट पर आस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 26, 2019, 4:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...