Home /News /madhya-pradesh /

एनजीटी के सख्त आदेश, कमिश्नर को करनी पड़ी 6 किमी पदयात्रा

एनजीटी के सख्त आदेश, कमिश्नर को करनी पड़ी 6 किमी पदयात्रा

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने नगर पालिका और जिला प्रशासन को गुना जिले की गुनिया नदी को पुर्नजीवित करने के आदेश दिए हैं.

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने नगर पालिका और जिला प्रशासन को गुना जिले की गुनिया नदी को पुर्नजीवित करने के आदेश दिए हैं.

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने नगर पालिका और जिला प्रशासन को गुना जिले की गुनिया नदी को पुर्नजीवित करने के आदेश दिए हैं.

    नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने नगर पालिका और जिला प्रशासन को गुना जिले की गुनिया नदी को पुर्नजीवित करने के आदेश दिए हैं. इसी के चलते कमिश्नर ने 6 किमी की पदयात्रा कर नदी किनारे अतिक्रमण और साफ़-सफाई का जायज़ा लिया.

    नाले में तब्दील हो चुकी गुनिया नदी के अस्तित्व को लेकर कमिश्नर ओमशंकर श्रीवास्तव ने नगरपालिका से 50 वर्षों पुराने रिकॉर्ड को भी तलब किया. वहीं, एनजीटी की सख्ती को देखते हुए अब नगर पालिका ने भी नदी की सफाई शुरू करवा दी है. इससे पूर्व कलेक्टर भी 4-5 किमी पैदल यात्रा कर चुके हैं.

    विलुप्त होने की कगार पर पहुंची प्राचीन गुनिया नदी के संरक्षण के लिए पर्यावरण प्रेमियों के साथ साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव के भाई व पूर्व सांसद लक्ष्मण सिंह भी मैदान में कूद पड़े हैं.

    यही नहीं, नदी का जायज़ा लेने राघौगढ़ से गुना पहुंचे लक्ष्मण सिंह ने नगरपालिका पर आरोप लगाते हुए कहा कि नगर पालिका को पर्यावरण से कुछ भी लेना देना नहीं है, बल्कि पालिका ने स्वयं नदी किनारे अतिक्रमण करवाया है और बिना प्लानिंग के निर्माण कार्य भी करवा दिया है.

    पूर्व सांसद ने जनप्रतिनिधियों की खिंचाई करते हुए कहा कि सांसद एवं विधायकों ने भी नदी संरक्षण को लेकर कोई कदम आगे नहीं बढ़ाया. जिसका जवाब चुनाव के दौरान जनता जरूर देगी.

    आपके शहर से (ग्वालियर)

    Tags: Guna district, Guna News

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर