Home /News /madhya-pradesh /

'भारत रत्‍न' बने अटल बिहारी वाजपेयी, राष्‍ट्रपति ने घर जाकर दिया सम्‍मान

'भारत रत्‍न' बने अटल बिहारी वाजपेयी, राष्‍ट्रपति ने घर जाकर दिया सम्‍मान

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब 'भारत रत्‍न' हो गए हैं। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने प्रोटोकॉल तोड़ते हुए अटल बिहारी के घर पर जाकर उन्‍हें देश के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान से सम्‍मानित किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहे। दिल्ली के कृष्ण मेनन मार्ग स्थित वाजपेयी के निवास पर उन्हें यह सम्मान दिया गया।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब 'भारत रत्‍न' हो गए हैं। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने प्रोटोकॉल तोड़ते हुए अटल बिहारी के घर पर जाकर उन्‍हें देश के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान से सम्‍मानित किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहे। दिल्ली के कृष्ण मेनन मार्ग स्थित वाजपेयी के निवास पर उन्हें यह सम्मान दिया गया।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब 'भारत रत्‍न' हो गए हैं। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने प्रोटोकॉल तोड़ते हुए अटल बिहारी के घर पर जाकर उन्‍हें देश के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान से सम्‍मानित किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहे। दिल्ली के कृष्ण मेनन मार्ग स्थित वाजपेयी के निवास पर उन्हें यह सम्मान दिया गया।

अधिक पढ़ें ...
  • News18
  • Last Updated :
    पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब 'भारत रत्‍न' हो गए हैं। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने प्रोटोकॉल तोड़ते हुए अटल बिहारी के घर पर जाकर उन्‍हें देश के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान से सम्‍मानित किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहे। दिल्ली के कृष्ण मेनन मार्ग स्थित वाजपेयी के निवास पर उन्हें यह सम्मान दिया गया।

    भाजपा के एक बड़े नेता ने अटल बिहारी को भारत रत्‍न मिलने की सूचना दी तो उनके चेहरे के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ। वह बस सूचना देने वाले भाजपा नेता को निहारते रहे।

    तीन बार पीएम बने अटल बिहारी
    भाजपा के साथ ही विभिन्न पार्टियों के राजनेता भी वाजपेयी को भारत रत्न देने की मांग कर रहे थे। वह साल 1996 में पहली बार देश के प्रधानमंत्री बने। इसके बाद साल 1998-2004 तक देश के प्रधानमंत्री रहे।

    वाजपेयी भारत रत्न पाने वाले देश के सातवें प्रधानमंत्री होंगे। इससे पहले पंडित जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, मोरारजी देसाई, लाल बहादुर शास्त्री तथा गुलजारीलाल नंदा को यह सम्मान मिल चुका है। लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदन मोहन मालवीय को भारत रत्न देने का वादा किया था। वह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक थे।

    क्या है भारत रत्नः
    भारत रत्न देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। इस अलंकरण से उन व्यक्तियों को सम्मानित किया जाता है, जिन्होंने देश के किसी भी क्षेत्र में उल्‍लेखनीय कार्य किया हो, अपने-अपने क्षेत्रों में उत्‍कृ‍ष्‍ट कार्य कर अपने देश का गौरव बढ़ाया हो, जिससे देश को अंतरराष्‍ट्रीय मान्‍यता प्राप्त हुई हो। भारत रत्‍न उच्‍चतम नागरिक सम्‍मान है, जो कला, साहित्‍य, विज्ञान, राजनीतिज्ञ, विचारक, वैज्ञानिक, उद्योगपति, लेखक और समाजसेवी को असाधारण सेवा के लिए तथा उच्च लोक सेवा को मान्‍यता देने के लिए भारत सरकार की ओर से दिया जाता है।

    भारत रत्न को क्या मिलता हैः
    भारत रत्न पाने वालों को भारत सरकार की ओर से एक प्रमाणपत्र और एक मेडल मिलता है। इस सम्मान के साथ कोई रकम नहीं दी जाती। भारत रत्न पाने वालों को विभिन्‍न सरकारी महकमे सुविधाएं मुहैया कराते हैं। उदाहरण के तौर पर भारत रत्न पाने वालों को रेलवे की ओर से मुफ़्त यात्रा की सुविधा मिलती है। भारत रत्न पाने वालों को अहम सरकारी कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए न्यौता मिलता है। राज्य सरकारें भारत रत्न पाने वाली हस्तियों को अपने राज्यों में सुविधाएं उपलब्ध कराती हैं। ये पुरस्कार पाने वाले अपने विजिटिंग कार्ड पर यह लिख सकते हैं कि 'राष्ट्रपति द्वारा भारत रत्न से सम्मानित' या 'भारत रत्न प्राप्तकर्ता'।

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर