लाइव टीवी

मुंह काला करने की धमकी दी तो पुलिस ने NSUI प्रदेश सचिव को पुराने मामले में जेल भेज दिया
Gwalior News in Hindi

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 18, 2020, 10:20 AM IST
मुंह काला करने की धमकी दी तो पुलिस ने NSUI प्रदेश सचिव को पुराने मामले में जेल भेज दिया
एनएसयूआई प्रदेश सचिव सचिन द्विवेदी ग्वालियर में गिरफ़्तार

पुलिस (police) ने सचिन द्विवेदी (Sachin Dwivedi) को बॉन्ड ओवर किया था. उन्हें भविष्य में विश्वविद्यालय में हंगामा, विरोध प्रदर्शन न करने की शर्त पर ज़मानत दी थी.

  • Share this:
ग्वालियर. NSUI के प्रदेश महासचिव सचिन द्विवेदी (Sachin Dwivedi) को पुलिस ने गिरफ्तार (Arrest) कर जेल (jail) भेज दिया है. मामला एक बॉन्ड की शर्तों का उल्लंघन करने का है. सचिन द्विवेदी शुक्रवार को जीवाजी यूनिवर्सिटी (Jiwaji University) में प्रदर्शन करने गए थे. जबकि उन्हें ऐसा करने की मनाही थी. प्रदर्शन के दौरान सचिन द्विवेदी और उनके कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय अफसरों का मुंह काला करने की धमकी दी थी.

धमकी दी तो पुलिस बुलाई
दरअसल सचिन NSUI कार्यकर्ताओं के साथ जीवाजी विश्वविद्यालय में रिजल्ट सहित अन्य गड़बड़ियों के विरोध में प्रदर्शन करने गए थे. प्रदेश महासचिव सचिन द्विवेदी और अन्य NSUI पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने रजिस्ट्रार दफ्तर का घेराव किया. रिजल्ट में गड़बड़ी, टेंडर प्रक्रिया में गड़बड़ी और सिक्योरिटी कंपनी तय करने में घोटाला सहित अन्य मामलों की शिकायत करते हुए प्रदर्शन किया. इस दौरान एनएसयूआई ने एक पत्र भी रजिस्ट्रार को सौंपा. उसमें लिखा था कि जीवाजी विश्वविद्यालय में व्याप्त गड़बड़ियों को जल्द दूर नहीं हुई तो आने वाले समय में भूख हड़ताल के साथ विश्वविद्यालय के अधिकारियों का मुंह भी काला किया जाएगा. इस पत्र को देखते ही जीवाजी विश्वविद्यालय प्रशासन ने पुलिस को खबर दी. खबर मिलते ही विश्वविद्यालय पुलिस मौके पर पहुंची और सचिन द्विवेदी सहित आधा दर्जन एनएसयूआई पदाधिकारियों को हिरासत में लेकर थाने ले आई.

थाना में हंगामा

पुलिस जब सचिन द्विवेदी और NSUI कार्यकर्ताओं को थाने लेकर पहुंची तो बाकी कार्यकर्ताओं ने उन्हें रिहा करने की मांग की. पुलिस ने एनएसयूआई के पांच पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को तो छोड़ दिया, लेकिन सचिन को बांडओवर के उल्लंघन के मामले में गिरफ्तार कर लिया. दरअसल NSUI महासचिव सचिन द्विवेदी पर पूर्व में आंदोलन और उपद्रव करने के कई मामले दर्ज हैं. इसके कारण पुलिस ने सचिन द्विवेदी को बाउंड ओवर किया था. उन्हें भविष्य में विश्वविद्यालय में हंगामा, विरोध प्रदर्शन न करने की शर्त पर ज़मानत दी थी. लेकिन शुक्रवार को जब सचिन फिर विश्वविद्यालय में हंगामा करने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

रात में ही जेल भेजा
विश्वविद्यालय पुलिस ने रात में ही सचिन द्विवेदी को एसडीएम कोर्ट में कलेक्ट्रेट में पेश किया. एसडीएम अनिल बनवारिया के चेंबर के बाहर एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की. रात में जब एसडीएम अनिल बनवारिया कलेक्ट्रेट पहुंचे, उन्होंने इस मामले को देखा और मामले की गंभीरता को देखते हुए सचिन द्विवेदी को रात में ही जेल भेजने के आदेश दे दिए.मैं निर्दोष हूं...
इस मामले में सचिन द्विवेदी का कहना है वह पूरी तरह से निर्दोष हैं. वो विश्वविद्यालय में शांतिपूर्ण तरीके से अपने पदाधिकारियों और अन्य कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत करने गए थे. लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन ने जानबूझकर उनको गिरफ्तार करने के लिए पुलिस को खबर दी.वहीं एसडीएम अनिल बनवारिया का कहना है सचिन ने बाॉन्डओवर की शर्तों का उल्लंघन किया है यही वजह की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया. और उन्हें जेल भेजा गया.

ये भी पढ़ें-...महज इस वजह से आदिवासी हॉस्टल के चौकीदार ने 7 साल के छात्र की कर दी हत्या

IAS अफसरों से बोले CM कमलनाथ-MP की अलग पहचान बनाना आप सबकी जिम्मेदारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 10:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर