ऐतिहासिक महाराज बाड़ा को हैरीटेज लुक देने का काम रुका, ये है कारण

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 27, 2019, 2:29 PM IST
ऐतिहासिक महाराज बाड़ा को हैरीटेज लुक देने का काम रुका, ये है कारण
ग्वालियर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के मामले में आई ये बड़ी रुकावट

ग्वालियर के ऐतिहासिक (Historical) महाराज बाड़े (Maharaj Bada) को हैरीटेज (Heritage) लुक देने के लिए प्रशासन 200 फुटकर दुकानदारों को यहां से हटाना चाहता है, लेकिन कांग्रेस विधायक (Congress Mla) की आपत्ति के बाद पिछले 6 महीने से यहां स्मार्ट सिटी योजना का काम रुका हुआ है.

  • Share this:
ग्वालियर (Gwalior) शहर का हृदय स्थल कहा जाने वाला महाराज बाड़ा (Maharaj Bada) इन दिनों राजनीति का अखाड़ा बना हुआ है. हालात ये हैं कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट (Smartcity Project) के तहत करोड़ों रुपए के काम रूके पड़े हुए हैं. यहां होने वाले कामों की योजना पहले ही बन चुकी थी, लेकिन सत्ता परिवर्तन के साथ यहां के कांग्रेस विधायक अब इस योजना में परिवर्तन चाहते हैं. उनकी आपत्ति यहां के करीब 200 फुटकर दुकानदारों को हटाए जाने को लेकर है. अब स्थानीय विधायक स्मार्टसिटी योजना में अपने हिसाब से बदलाव चाहते हैं, जिसके लिए स्थानीय प्रशासन तैयार नहीं है. लिहाज़ा यहां स्मार्टसिटी प्रोजेक्ट का काम पिछले 6 महीनों से रुका हुआ है.

हटाए जाएंगे 200 फुटकर दुकानदार
ग्वालियर का महाराज बाड़ा सिंधिया रियासतकालीन समय का बना हुआ है. यहां अलग-अलग देशों की वास्तु कला के हिसाब से ऐतिहासिक इमारतें हैं. वर्तमान में ये यहां का सबसे बड़ा व्यापारिक बाजार भी है. यही कारण है कि प्रशासन चाहता है कि इसको एक बार फिर हैरिटेज लुक दिया जाए. इसके लिए यहां की पार्किंग और यातायात व्यवस्था में भी बदलाव होने हैं. स्थानीय प्रशासन नगर निगम की मदद से करीब 200 फुटकर दुकानदारों को महाराज बाड़े से हटाकर किसी अन्य जगह पर ले जाना चाहता है. लेकिन ग्वालियर दक्षिण से स्थानीय कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक इन फुटपाथ वालों की रोजी रोटी का हवाला देते इस योजना में बदलाव चाहते हैं.

News - 200 से अधिक फुटकर दुकानों को महाराज बाड़ा से हटाने की योजना
200 से अधिक फुटकर दुकानों को महाराज बाड़ा से हटाने की योजना


स्मार्ट सिटी के नाम पर राजनीति
विधायक प्रवीण पाठक का कहना है कि जो विकास कार्य महाराज बाड़े पर किए जाने हैं. उनको लेकर यदि स्थानीय दुकानदार ही खुश नहीं हैं, ऐसे में यहां के विकास कार्यों का क्या फायदा ? वहां जो भी विकास कार्य होने हैं, उनमें आम लोगों की सहमति आवश्यक है.
वहीं ग्वालियर सांसद विवेक नारायण शेजवलकर का कहना है कि शहर में स्मार्ट सिटी के तहत जो विकास कार्य किए जा रहे हैं, उसमें कांग्रेस के विधायक और मंत्रियों को सपोर्ट करना चाहिए, ना कि अड़ंगे डालना चाहिए. अगर कोई बेहतर सुझाव है, तो उसे मानने में प्रशासन को कोई दिक्कत नही होगी. लेकिन केवल अपनी हठधर्मिता के चलते कोई परिवर्तन कराना बिल्कुल गलत है.
Loading...

प्रशासन दबाव में, शुरू नहीं हो पाया काम
वहीं प्रशासन दबाव में नजर आ रहा है. यही कारण है कि कई बार प्रशासन विधायक के साथ महाराज बाड़े का निरीक्षण कर चुका है, लेकिन अभी भी काम शुरू नहीं हो पाया है. हालांकि कलेक्टर ग्वालियर का कहना है कि सभी लोगों से बात की जा रही है. जिसमें सब की सुविधा होगी उसी के अनुसार काम किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें -
RBI सरकार को क्यों देता है हजारों करोड़ रुपये! जानें पूरा मामला
BJP विधायक की बेटी साक्षी मिश्रा लवमैरिज के बाद नाम बदलने को क्‍यों हुईं मजबूर?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 1:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...