लाइव टीवी

हिन्‍दू महासभा को महात्‍मा गांधी के बारे में 'आपत्तिजनक' पर्चे बांटना पड़ा भारी, पुलिस ने 4 लोग किए गिरफ्तार

भाषा
Updated: November 29, 2019, 8:00 PM IST
हिन्‍दू महासभा को महात्‍मा गांधी के बारे में 'आपत्तिजनक' पर्चे बांटना पड़ा भारी, पुलिस ने 4 लोग किए गिरफ्तार
हिंदू महासभा ने 15 नवम्बर को ग्‍वालियर में संगठन के कार्यालय में गोडसे की बरसी मनायी थी.

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के बारे में ‘आपत्तिजनक’ शब्दों वाले पर्चे बांटने के आरोप में पुलिस ने हिन्‍दू महासभा (Hindu Mahasabha) के चार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है.

  • Share this:
ग्वालियर. मध्य प्रदेश के ग्वालियर में करीब एक पखवाड़े पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के बारे में ‘आपत्तिजनक’ शब्दों वाले पर्चे कथित तौर पर वितरित करने को लेकर पुलिस ने हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) के चार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है. यह जानकारी कोतवाली थाना प्रभारी विवेक अष्ठाना (Vivek Ashtana) ने दी. यह कार्रवाई भाजपा की लोकसभा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर (MP Pragya Singh Thakur) द्वारा महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को लेकर बुधवार को लोकसभा में आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर हंगामे के बीच आयी है. बता दें, हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने 15 नवंबर को ग्‍वालियर में संगठन के कार्यालय में गोडसे की बरसी मनाई थी.

थाना प्रभारी ने किया खुलासा
कोतवाली थाना प्रभारी विवेक अष्ठाना ने बताया, ‘हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने इससे एक दिन पहले इलाके में कुछ पर्चे वितरित किए थे. इस पर्चे को लेकर कोतवाली में कुछ गांधीवादी लोगों ने अपनी भावनाएं आहत होने की शिकायत की थी.' उन्होंने कहा कि इसके बाद पुलिस ने जांच की और शुरुआत में एक कार्यकर्ता नरेश बाथम एवं अन्य कार्यकर्ताओं के खिलाफ धारा 153 (क) के तहत मामला दर्ज किया. इस मामले की जांच में तीन लोगों पवन माहौर, किशोर और आनंद माहौर के नाम भी सामने आए थे.

अष्ठाना ने आगे बताया, ‘अब पुलिस ने इन चारों को गिरफ्तार कर लिया है. किशोर और आनंद को दो दिन पहले गिरफ्तार किया गया, जबकि नरेश और पवन को 28 नवंबर की शाम को गिरफ्तार किया गया. हिन्‍दू महासभा के कार्यकर्ताओं ने गत 15 नवंबर को ग्वालियर के दौलतगंज स्थित कार्यालय में नाथूराम गोडसे और सहषड्यंत्रकर्ता नारायण आप्टे की तस्वीर की ‘आरती’ की थी.

महात्मा गांधी की हत्या के लिए गोडसे और आप्टे को 15 नवंबर 1949 को अंबाला की जेल में फांसी दी गई थी.


हिन्‍दू महासभा ने किया था ये काम
15 नवंबर 2017 को हिन्‍दू महासभा ने 'प्राण प्रतिष्ठा' का अनुष्ठान करने के बाद ग्‍वालियर के दौलतगंज स्थित अपने कार्यालय में गोडसे की आवक्ष प्रतिमा स्थापित की थी. यद्यपि व्यापक आक्रोश के बाद ग्वालियर जिला प्रशासन ने प्रतिमा जब्त कर ली थी.ये भी पढ़ें :-

BJP की मीटिंग में महिला आरक्षण को लेकर पूर्व मंत्री ने उठाई आवाज, कांग्रेस ने ली चुटकी
इंदौर के एक और थाने में BJP सांसद प्रज्ञा सिंह के खिलाफ देशद्रोह की शिकायत दर्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 7:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर