Home /News /madhya-pradesh /

जेल में कैदियों से परिजनों को मिलने के लिए चुकाने पड़ते हैं पैसे

जेल में कैदियों से परिजनों को मिलने के लिए चुकाने पड़ते हैं पैसे

लता वानखेड़े, अध्यक्ष, राज्य महिला आयोग 
फोटो- ईटीवी

लता वानखेड़े, अध्यक्ष, राज्य महिला आयोग फोटो- ईटीवी

ग्वालियर जेल में अपने गुनाहों की सजा काट रहे कैदियों से मिलने के लिए उनके परिजनों को पैसे चुकाने पड़ते हैं. कैदियों से मिलने जेल पहुंचने वाले उनके परिवारवालों से 30 से 40 रुपए तक का सुविधा शुल्क वसूला जाता है.

    मध्य प्रदेश की ग्वालियर जेल में अपने गुनाहों की सजा काट रहे कैदियों से उनके परिजनों को मिलने के लिए पैसे चुकाने पड़ते हैं. दरअसल कैदियों से मिलने जेल पहुंचने वाले उनके परिवारवालों से 30 से 40 रुपए तक का सुविधा शुल्क वसूला जाता है. सुविधा शुल्क के नाम पर जेल के संतरी मिलने आने वालों से खुलेआम वसूली करते हैं.

    जो लोग रिश्वत दे देते हैं उनकी मुलाक़ात हो जाती है, लेकिन जो गरीब पैसा देने में अक्षम होते हैं उन्हें कैदियों से नहीं मिलने दिया जाता. भ्रष्टाचार के इस खुले खेल में जेलर से लेकर निचले तबके के जेलकर्मी सभी शामिल हैं.

    खुलेआम लिए जा रहे सुविधा शुल्क को जब मीडिया ने कैमरे में कैद किया तो जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया. वसूली करने वाले जेलकर्मियों से जब इस मामले में बात की गई तो वे साफ़ मुकर गए.

    जेलर अतुल सिन्हा भी सवालों से बचते नज़र आए. पड़ताल में पता चला कि जेल में कैदियों के साथ अमानवीय व्यवहार भी किया जाता है. जेल में महिलाओं और अन्य कैदियों के साथ मारपीट भी किया जाता है.

    मामले की भनक लगते ही गुना पहुंची राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष लता वानखेड़े ने भी जेल का निरीक्षण किया और इस गंभीर मामले को लेकर जेलर को फटकार भी लगाई, हालांकि जेलर अतुल सिन्हा पर इस फटकार का कितना असर हुआ इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब बुलाने के बाद भी जेलर साहब राज्य महिला आयोग अध्यक्ष के सामने उपस्थित नहीं हुए.

     

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर