Home /News /madhya-pradesh /

हिंदू के बिना भारत और भारत के बिना हिंदू की कल्पना नहीं, अखंडता जरूरी: RSS प्रमुख मोहन भागवत

हिंदू के बिना भारत और भारत के बिना हिंदू की कल्पना नहीं, अखंडता जरूरी: RSS प्रमुख मोहन भागवत

ग्वालियर में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि भारत और हिंदू कभी अलग नहीं हो सकते.

ग्वालियर में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि भारत और हिंदू कभी अलग नहीं हो सकते.

Gwalior News: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को ग्वालियर में जीवाजी विश्वविद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हिंदू के बिना भारत नहीं और भारत के बिना हिंदू नहीं. अखंड भारत की कल्पना हमारी सत्यता और ध्येय से पूरी होती है. इतिहास गवाह है, जब-जब हिंदू के अंदर हिंदुत्व का भाव या ताकत कम हुई तो हिंदू की संख्या कम हुई. भारत को हिंदू रहना है, तो अखंडता और एकात्मता जरूरी है.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. ‘हिंदू के बिना भारत नहीं और भारत के बिना हिंदू नहीं. अखंड भारत की कल्पना हमारी सत्यता और ध्येय से पूरी होती है. इतिहास गवाह है, जब-जब हिंदू के अंदर हिंदुत्व का भाव या ताकत कम हुई तो हिंदू की संख्या कम हुई. भारत को हिंदू रहना है, तो अखंडता और एकात्मता जरूरी है…,’ यह बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत ने शनिवार को कही. वे ग्वालियर में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे.

कार्यक्रम में जीवाजी विश्वविद्यालय के अटल बिहारी सभागार में आयोजित किया गया था. डॉ. मोहन भागवत के विशेष अतिथि थे. उन्होंने कहा कि देश को इसलिए ही भारत माता नहीं कहते हैं कि इससे हमें अन्न मिलता है. यह भारत माता हमें हमारा स्वभाव और संस्कार भी देती हैं. इसलिए भारत का स्व कभी भारत से अलग नहीं हो सकता. आज जिसको हम हिंदू धर्म, हिंदुत्व संस्कृति कहते हैं, उसके मूल हमें यहां से मिलते हैं. इस कार्यक्रम के बाद RSS प्रमुख भागवत वीरांगना लक्ष्मीबाई की समाधि पर गए और पुष्पांजलि अर्पित की. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान थे. उन्होंने राममंदिर से लेकर कई विषयों पर अपनी बात रखी.

हमारे संस्कार सत्य और संबंध से बने हैं- भागवत

कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि भारत ही एक मात्र ऐसा देश है, जिसके संस्कार सत्य और संबंध से बने हैं. यह जोड़ता है, तोड़ता नहीं. पश्चिमी देशों की तरह नहीं जो अपने हितों और स्वार्थ के लिए संबंध रखते हैं. उन्होंने उदाहरण दिया कि अमेरिका के साथ आपके संबंध तब तक अच्छे हैं जब तक उसे आपसे नुकसान नहीं है. यदि उसे नुकसान होगा, तो वह आपसे संबंध तोड़ने में सोचेगा नहीं. पश्चिमी देश सोचते हैं जो अपने लिए अनुकूल है, वह अपना है. जो अनुकूल नहीं है, उससे संबंध नहीं रखना. जो विरोध करता है, वह विरोधी है. उससे संबंध नहीं रखना है. विरोधी कोई गड़बड़ करता है, तो उसे समाप्त कर देना चाहिए. इस बयान पर जब लोगों ने तालियां बजाई, तो उन्होंने हंसते हुए कहा कि यह पश्चिमी देशों की संस्कृति के लिए कह रहा हूं. आप गलत न समझें. हमारी संस्कृति ऐसी नहीं है.

इस बात पर भी भागवत ने दिया जोर

डॉ. भागवत बोले- भारत क्यों टूटा, क्योंकि हिंदू अपने आप को भूल गए. मुसलमान खुद को भूल गए. अंग्रेजों ने दूसरा मुल्क पाकिस्तान के रूप में बना दिया. मुसलमान ​​कह सकते थे कि तुम अपने आप को हिंदू मत कहो, क्योंकि सारे वेद हमारी जमीन पर बने, जिससे तुम अपना हिंदू उच्चारण करते हो वह हिंदूकुश हमारे यहां है, लेकिन उन्हें पता था भारत है, तो हिंदू है. हिंदू है, तो हिंदुस्तान है.

Tags: Gwalior news, Mohan bhagwat, Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर