होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

इस शहर में सचिन तेंदुलकर ने रचा था इतिहास, सम्मान में आज तक नहीं बदला बोर्ड पर डिस्प्ले स्कोर

इस शहर में सचिन तेंदुलकर ने रचा था इतिहास, सम्मान में आज तक नहीं बदला बोर्ड पर डिस्प्ले स्कोर

Sachin Tendulkar's record in Gwalior. सचिन के सम्मान में कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम का स्कोर बोर्ड आज भी 2010 के उस मैच का स्कोर दिखा रहा है.

Sachin Tendulkar's record in Gwalior. सचिन के सम्मान में कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम का स्कोर बोर्ड आज भी 2010 के उस मैच का स्कोर दिखा रहा है.

Interesting News. सचिन तेंदुलकर ने ग्वालियर की धरती पर 12 साल पहले इतिहास रचा था. साल 2010 में 24 फरवरी को भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच ग्‍वालियर में डे-नाइट वन डे मैच खेला गया था. सचिन ने दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों की जमकर सुताई की. सचिन तेंदुलकर ने 147 गेंदों पर नाबाद 200 रन बनाए. इस एतिहासिक पारी में उन्होंने 25 चौके और 3 छक्‍के लगाए. सचिन की ये पारी वनडे इतिहास के पहले दोहरे शतक के तौर पर दर्ज है.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. 24 फरवरी का दिन क्रिकेट और ग्वालियर के इतिहास में सुनहरा दिन माना जाता है. 12 साल पहले 24 फरवरी 2010 को भारतीय क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने वनडे में दोहरा शतक लगाया था. ग्वालियर के कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम (कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम ) में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए डे-नाइट वनडे मैच में सचिन ने 200 रन की नाबाद पारी खेली थी. वनडे में पहली डबल सेंचुरी लगाने पर सचिन को ग्वालियर क्रिकेट एसोसिएशन की तरफ से डेढ़ किलो चांदी का बल्ला देकर सम्मानित किया गया था. रूप सिंह स्टेडियम में 12 साल पहले हुए मैच का स्कोर बोर्ड आज भी वैसा ही लगा है जिसमें सचिन के नाम 200 रन दर्ज हैं.

क्रिकेट के भगवान ने ग्वालियर में रचा था इतिहास
सचिन तेंदुलकर ने ग्वालियर की धरती पर 12 साल पहले इतिहास रचा था. साल 2010 में 24 फरवरी को भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच ग्‍वालियर में डे-नाइट वन डे मैच खेला गया था. कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम में खेले गए मैच में भारतीय टीम के कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी का फैसला किया. सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सेहवाग सलामी जोड़ी के तौर पर मैदान में उतरे. भारत ने 25 रन के स्‍कोर पर वीरेंद्र सहवाग का विकेट खोया. सहवाग 9 रन बनाकर पवेलियन लौट गए. लेकिन किसी को नहीं पता था कि इतनी खराब शुरुआत करने वाली भारतीय टीम के नाम आज इतिहास लिखा जाना है. सहवाग के जाने के बाद सचिन तेंदुलकर ने मैच में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी शुरू कर दी. सचिन ने दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों की जमकर सुताई की. सचिन तेंदुलकर ने 147 गेंदों पर नाबाद 200 रन बनाए. इस एतिहासिक पारी में उन्होंने 25 चौके और 3 छक्‍के लगाए. सचिन की ये पारी वनडे इतिहास के पहले दोहरे शतक के तौर पर दर्ज है.

आज भी ज्यों का त्यों है स्कोर बोर्ड
ग्वालियर के रूप सिंह स्टेडियम में डे-नाइट मैच में सचिन ने नाबाद 200 रन की पारी खेली. सचिन के अलावा  दिनेश कार्तिक ने 85 रन ठोके तो  वहीं धोनी ने धुआंधार बल्लेबाज़ी करते हुए महज़ 35 गेंदों पर नाबाद 68 रन बनाए. इस मैच में भारत ने 50 ओवर तक बल्लेबाज़ी करते हुए तीन विकेट पर 401 रन का पहाड़ खड़ा कर दिया. लक्ष्य का पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीका महज़ 248 रनों पर ढेर हो गई. अफ्रीका के एबी डिविलियर्स ने 101 गेंदों पर नाबाद 114 रन की पारी खेलकर अफ्रीका का सम्मान बचाया. भारत ने इस मैच में अफ्रीका को 153 रन शिकस्त दी. लेकिन सचिन हमेशा के लिए हीरो बन गए. उन्हें मैन ऑफ दी मैच दिया गया. केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर क्रिकेट एसोसिएशन की तरफ से डेढ़ किलो वजनी चांदी का बल्ला देकर सम्मानित किया.बस उस दिन क्रिकेट का इतिहास रच गया था. रूप सिंह स्टेडियम में हुए उस मैच का स्कोर बोर्ड आज भी वैसा ही लगा है. उसमें सचिन के नाम 200 रन दर्ज हैं.

Tags: BCCI Cricket, Cricket news, Gwalior news, Sachin tendulkar

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर