सिंधिया का बड़ा बयान, कहा- दिसंबर तक देश में कोरोना टीकों की 200 करोड़ खुराक उपलब्ध होगी

उन्होंने कहा कि हालांकि, प्रदेश में अब कोरोना संक्रमण कम हो रहा है, लेकिन सावधान रहने की जरूरत है. (फाइल फोटो)

उन्होंने कहा कि हालांकि, प्रदेश में अब कोरोना संक्रमण कम हो रहा है, लेकिन सावधान रहने की जरूरत है. (फाइल फोटो)

ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने बताया कि फिलहाल मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं उनकी टीम ने कोरोना नियंत्रण का बेहतर काम किया है

  • Share this:

ग्वालियर. भाजपा नेता एवं राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने रविवार को कहा कि सभी लोगों का टीकाकरण (Vaccination) ही कोरोना से बचाव का तरीका है और इसके लिए दिसंबर तक देश में कोविड-19 टीकों की 200 करोड़ खुराक (200 Crore doses) उपलब्ध होगी. ग्वालियर में आयोजित संकट प्रबंधन समिति की बैठक में भाग लेने के बाद सिंधिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘‘सभी लोगों का टीकाकरण ही कोरोना से बचाव का तरीका है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस समय तेजी से टीकाकरण की जरुरत है और यह अभियान शहर के साथ गांव-गांव तक पहुंचाना होगा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी कहा है कि देश में दिसंबर तक टीकाकरण के लिए 200 करोड़ खुराक उपलब्ध रहेंगी, जो पूरे देश के नागरिकों के लिए पर्याप्त हैं.’’

सिंधिया ने बताया कि फिलहाल मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं उनकी टीम ने कोरोना नियंत्रण का बेहतर काम किया है और कई राज्यों से ऑक्सीजन टैंकर मंगाए. उन्होंने कहा कि हालांकि, प्रदेश में अब कोरोना संक्रमण कम हो रहा है, लेकिन सावधान रहने की जरूरत है. सिंधिया ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए अभी से तैयारी करनी होगी. अफसरों से इसके लिए अभी से काम करने के लिए कहा गया है. इस समय तेजी से टीकाकरण की जरूरत है और यह अभियान शहर के साथ गांव-गांव तक पहुंचाना होगा.

ब्लैक फंगस से शहर में ये पहली मौत है

वहीं, कल खबर सामने आई थी कि मध्य प्रदेश में कोरोना महामारी की सुनामी से हुई मौतों के बाद उज्जैन ( Ujjain) शहर में अब (ब्लैक फंगस) म्यूकोरमाइकोसिस अपने पैर पसार रहा है. कोरोना पीड़ित मरीजों को न सिर्फ कोरोना से बल्कि अब  ब्लैक फंगस से भी डर लगने लगा है. शहर में ब्लैक फंगस ( Black Fungus) मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है. इस बीच शहर के तेजनकर अस्पताल में भर्ती ब्लैक फंगस से पीड़ित 43  वर्षीय मोहम्मद इमरान की मौत हो गई. इमरान को एक आंख निकालने के बाद भी बचाया नहीं जा सका. ब्लैक फंगस से शहर में ये पहली मौत है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज