इंदौर में जर्जर मकान पर बवाल, ग्वालियर में ख़तरनाक अस्पताल पर किसी का ध्यान नहीं
Gwalior News in Hindi

इंदौर में जर्जर मकान पर बवाल, ग्वालियर में ख़तरनाक अस्पताल पर किसी का ध्यान नहीं
जयारोग्य अस्पताल की जर्जर इमारत

ग्वालियर नगर निगम ने शहर के लश्कर, मुरार, उपनगर ग्वालियर, हजीरा में स्थित 81 जर्जर इमारतों और भवनों की पहचान की है.इन सभी भवन मालिकों को निगम ने नोटिस दिए हैं

  • Share this:
इंदौर के एक जर्जर मकान को लेकर बवाल कटा रहा, लेकिन ग्वालियर में तो जयारोग्य अस्पताल की एक इमारत 21 साल पहले मृत घोषित की जा चुकी है. बावजूद इसके उसमें आज तक अस्पताल चल रहा है.
ग्वालियर में कुल 81 मकान जर्जर घोषित किए जा चुके हैं. ये बारिश में कभी भी ढह सकते हैं.
21 की लिस्ट - ये जर्जर मकान शहर के लश्कर, उपनगर ग्वालियर, हजीरा, मुरार इलाके में हैं. इन भवनों को ढहाने के लिए नगर निगम ने कार्रवाई भी शुरू कर दी. फिलहाल भवन मालिकों को नोटिस जारी किए हैं, जवाब तलब होने के बाद मकान ढहाए जाएंगे.
अस्पताल अति ख़तरनाक-ग्वालियर अंचल के सबसे बड़े सरकारी जयारोग्य अस्पताल पर किसी का ध्यान नहीं है. यहां सैकड़ों जिंदगी खतरे में हैं. 100 पुरानी बिल्डिंग को करीब 21 साल पहले 1998 में पीडब्ल्यूडी ने कंडम घोषित कर दिया था. बावजूद इसके दो दशक से जयारोग्य अस्पताल बदस्तूर इसी बिल्डिंग में चल रहा है. इस अस्पताल में रोज़ करीब 10 से 15 हजार मरीज औऱ लोग आते-जाते हैं.
पत्थर बरसते हैं-बारिश आते ही तेज आंधी तूफान और बारिश में पुराने पत्थर टूटकर गिरते हैं. कई बार लोग जख्मी भी हो चुके हैं. गजराराजा मेडिकल कालेज से संबंद्ध जयारोग्य अस्पताल की इस जर्जर इमारत में मेल सर्जिकल, मेडिसिन सहित कई वॉर्ड हैं. इसमें हर वक्त सैकड़ों मरीज़ और उनके अटेंडेंट वार्डो में मौजूद होते हैं.
ग्वालियर नगर निगम ने शहर के लश्कर, मुरार, उपनगर ग्वालियर, हजीरा में स्थित 81 जर्जर इमारतों और भवनों की पहचान की है.इन सभी भवन मालिकों को निगम ने नोटिस दिए हैं. ऐसी इमारतों में चलने वाली दुकानें सहित अन्य व्यावसायिक गतिविधियों को रोकने के लिए भी कहा गया है. निगम अफसरों का कहना है नोटिस का जवाब आने के बाद निगम अगली कार्रवाई करेगा.



ये भी पढ़ें-दिग्विजय का PM पर तंज, कहा- अगर कार्रवाई होती, तो देता बधाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading