• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • सर्दी का सितम : पशु-पक्षियों के लिए बनाए गए Airproof बाड़े और खाने में गर्म मटन-चिकन

सर्दी का सितम : पशु-पक्षियों के लिए बनाए गए Airproof बाड़े और खाने में गर्म मटन-चिकन

शीतलहर में ग्वालियर चिड़ियागर में जानवरों के लिए खास इंतज़ाम

शीतलहर में ग्वालियर चिड़ियागर में जानवरों के लिए खास इंतज़ाम

ग्वालियर चिड़ियाघर (gwalior zoo) में जो शेर और बाघ बूढ़े हो चले हैं उन्हें बाड़े के अंदर ही रखा गया है. इस साल रिकॉर्ड तोड़ सर्दी (cold wave) पड़ रही है यही वजह है कि 15 जनवरी तक चिड़ियाघर में बड़े जानवरों का नियमित चैकअप भी किया जा रहा है

  • Share this:
ग्वालियर.ग्वालियर चंबल अंचल (gwalior-chambal) में इन दिनों सर्दी से इंसान तो इंसान जानवरों का भी बुरा हाल है. ग्वालियर चिड़ियाघर (zoo) के पशु-पक्षी परेशान हैं. उन्हें सर्दी से बचाने के लिए चिड़ियाघर प्रबंधन ने ऐसे-ऐसे इंतज़ाम कर रखे हैं जो हर इंसान को आसानी से मयस्सर नहीं हैं. हीटर (heater) और अलाव से लेकर खान-पान का भी विशेष इंतज़ाम किया गया है.

ग्वालियर चंबल अंचल में सर्दी ने सबको परेशान कर रखा है. यहां न्यूनतम तापमान 3 से 5 डिग्री के बीच चल रहा है. तीन दिन पहले 2.2 डिग्री तक पारा गिर गया था. इंसान तो अपना इंतज़ाम कर रहा है लेकिन पशुओं का क्या किया जाए. आम पशु तो भगवान भरोसे ही हैं लेकिन ग्वालियर चिड़ियाघर में उन्हें सर्दी से बचाने के लिए खास इंतज़ाम किए गए हैं.

550 पशु-पक्षियों का कुनबा
चिड़ियाघर में करीब 550 पशु-पक्षी हैं. इनमें से 110 हिरण, 7 टाइगर, 4 तेंदुआ, 2 शेर, 3 हिप्पो, 6 भालू , 30 मगर-घडि़याल सहित कई बड़े जानवर है. जानवरों को कड़ाके की सर्दी से बचाने के लिए इनके बाड़ों को एयरप्रूफ बनाया गया है. इसके अलावा 14 बड़े हीटर 24 घंटे जलाए जा रहे हैं. इनके बाड़ों का तापमान 15 डिग्री के आसपास रखा जा रहा है. हिरणों के बाड़े में रात में बड़े मैदान में अलाव जलाया जा रहा है. पक्षियों के बाड़ों को केनवास और घांस के कंबल से ढंका गया है.यहां 500- 500 वॉट के बल्व जलाकर उन्हें गर्मी दी जा रही है.

मैथी-लहसून, गर्म चिकन-मटन
चिड़ियाघर में गर्मी के इंतजाम के साथ ही जानवरों को सेहतमंद रखने के लिए ऐसा खाना दिया जा रहा है जो उनकी तासीर गर्म रखे. पक्षियों को खाने के लिए सीजनल फल, अदरक दी जा रही है, तो शाकाहरी जानवरों को मैथी-बरसीम और लहसून परोसा जा रहा है. उधर मांसाहरी जानवरों को गर्म और ताजा चिकन,मटन औऱ अंडे खाने के लिए दिए जा रहे हैं. इसके साथ ही रात के वक्त पीने के लिए जानवरों के लिए गर्म पानी का इंतजाम किया गया है. चिड़ियाघर के डॉ. गौरव परिहार का कहना है कि दिसंबर और जनवरी का महीना जानवरों के लिए परेशानी भरा रहता है, यही वजह है कि सर्दी के दिनों में जानवरों को हीटर, कंबल, कैनवास के साथ ही गर्म खाना देकर ठंड से बचाया जा रहा है.

सूना है चिड़ियाघर
ग्वालियर चिड़ियाघर में जो शेर और बाघ बूढ़े हो चले हैं उन्हें बाड़े के अंदर ही रखा गया है. इस साल रिकॉर्ड तोड़ सर्दी पड़ रही है यही वजह है कि 15 जनवरी तक चिड़ियाघर में बड़े जानवरों का नियमित चैकअप भी किया जा रहा है. अभी ठंड में जानवर भी दुबके हुए हैं. सर्दी का असर कम होते ही वो उछल-कूद कर देंगे और पक्षियों की चहचहाहट शुरू हो जाएगी.

ये भी पढ़ें-मालवा में भी ज़बरदस्त शीतलहर, इंदौर के बजाए अहमदाबाद में प्लेन की लैंडिंग

काली मिर्च में मिलावट, माल को A-1 ग्रेड सर्टिफिकेट देने पर NCDEX के CEO पर PE

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज