लाइव टीवी

MP के इस नगर निगम के पास गौशाला के लिए नहीं है फंड, संतों ने दी आंदोलन की चेतावनी
Gwalior News in Hindi

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 28, 2020, 6:24 PM IST
MP के इस नगर निगम के पास गौशाला के लिए नहीं है फंड, संतों ने दी आंदोलन की चेतावनी
ग्वालियर नगर निगम ने लाल टिपारा गौशाला को बंद करने का फैसला किया

कमलनाथ सरकार ने प्रदेश में 1000 गौशालाएं (Cowshed) बनाने की घोषणा की थी लेकिन ग्वालियर निगम के पास पहले से चल रही गौशाला चलाने के लिए भी फंड नहीं है. संतों ने कहा है कि यदि लाल टिपारा गौशाला बंद हुई तो वो आंदोलन करेंगे

  • Share this:
ग्वालियर. एक तरफ तो प्रदेश सरकार 1000 गौशाला खोलने की तैयारी कर रही है, लेकिन ग्वालियर नगर निगम के अधिकारी देश में मॉडल के तौर पर विकसित हो रही लाल टिपारा गौशाला को बंद करने पर तुले हैं. प्रदेश में मॉडल गौशाला के रुप में पहचानी जाने वाली ग्वालियर (Gwalior) की लाल टिपारा गौशाला में जल्द ही ताले पड़ सकते हैं. फंड की कमी से जूझ रहे नगर निगम ने सरकार से गौशाला संचालन के लिए बजट देने या इसे ग्रामीण इलाके में शिफ्ट करने की मांग की है. निगम अब गौशाला नंदाताल के पास बनने वाले गौ-अभ्यारण्य में शिफ्ट करने की योजना बना रहा है उधर गौशाला बंद होने की आशंका से भड़के ग्वालियर अंचल के संतों ने कहा गौशाला बंद हुई तो आंदोलन करेंगे.

निगम कमिश्नर ने कहा- फंड की कमी है, गौशाला चलाना मुश्किल
निगम कमिश्नर संदीप माकिन ने नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे को पत्र लिखकर गौशाला को संचालित करने में असमर्थता जताई थी. दरअसल निगम द्वारा गौशाला की व्यवस्थाओं के लिए 15 करोड़ रुपए का अतिरिक्त बजट देने की मांग की है. बजट न मिलने पर गौशाला की जिम्मेदारी पशुपालन विभाग को सौंपने या फिर गौशाला को शिफ्ट करने की गुजारिश की है.

15 करोड़ महीने का है खर्च



निगम कमिश्नर का कहना है कि फंड की कमी है, सरकार से गायों के लिए जितना फंड मिलता है वो बहुत कम है, गौशाला की व्यवस्थाओं, कर्मचारियों और अन्य खर्चों को मिला लें तो निगम को करीब 15 करोड़ रुपए महीना खर्च करना पड़ रहा है, ऐसे में नगर निगम अब गौशाला को नंदाताल के पास बनने वाले गौ-अभ्यारण्य में शिफ्ट करने की योजना बना रहा है.

नाराज संतों ने आंदोलन की दी चेतावनी
लाल टिपारा गौशाला को बंद करने की खबर को सुनकर साधु-संतों में नाराजगी है. संतों ने कहा है कि अगर गौशाला बंद की गई या दूसरी जगह शिफ्ट की जाती है तो संत समाज सड़कों पर उतर कर आंदोलन करेगा. महंत स्वामी देवप्रकाश गिरी महाराज का कहना है कि एक तरफ तो कमलनाथ सरकार गायों की सुरक्षा के लिए गौशाला बनाने की बात कर रही है तो वहीं दूसरी ओर नगर निगम गौवंश को बेघर करने का काम कर रहा है. अगर ऐसा हुआ तो संत समाज गौमाता के लिए लड़ाई लड़ेगा.

पशुपालन मंत्री बोले- गायों को शिफ्ट करेंगे
मध्य प्रदेश सरकार के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव का कहना है कि लाल टिपारा गौशाला में इस समय क्षमता से अधिक गाय हैं जिसकी वजह से उनका पालन पोषण करना मुश्किल हो रहा है. शायद इस वजह से निगमायुक्त ने चिट्ठी लिखी है लेकिन चिट्ठी में क्या लिखा है इनकी मुझे जानकारी नहीं है. मंत्री लाखन सिंह का कहना है कि लाल टिपारा गौशाला को बंद नहीं किया जायेगा. क्षमता से ज्यादा निराश्रित गोवंश को नंदा ताल शिफ्ट किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें -
तहसीलदार पर हमला करने वाले रेत माफिया को अस्पताल में मिल रहा VIP ट्रीटमेंट
कांग्रेस नेता की कार चुरायी तो 24 घंटे में पकड़े गए चोर, टेस्ट ड्राइव के बहाने बनाते थे डुप्लीकेट चाभी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 28, 2020, 6:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,709

     
  • कुल केस

    6,412

     
  • ठीक हुए

    503

     
  • मृत्यु

    199

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 10 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,152,323

     
  • कुल केस

    1,604,718

    +1,066
  • ठीक हुए

    356,660

     
  • मृत्यु

    95,735

    +42
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर