ज्योतिरादित्य सिंधिया के कहने पर CM शिवराज ने अपने मंत्री को पहनाई चप्पल, देखें Video
Gwalior News in Hindi

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कहने पर CM शिवराज ने अपने मंत्री को पहनाई चप्पल, देखें Video
ग्वालियर में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आग्रह पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को पहनाई चप्पल. (वीडियो ग्रैब)

मध्य प्रदेश के मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) ने कुछ महीने पहले संकल्प लिया था कि जब तक उनके क्षेत्र के लोगों की दिक्कतें दूर नहीं होंगी, तब तक वे चप्पल नहीं पहनेंगे. आज ग्वालियर में BJP की सभा में मंत्री ने पहनी चप्पल.

  • Share this:
ग्वालियर. मध्य प्रदेश के मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) अपने अलग अंदाज के लिए जाने जाते हैं. कभी नालों की सफाई की बात हो या फिर कभी सड़क या शौचालय की सफाई करते नेताजी, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजनीति में अलहदा अंदाज के लिए जाने जाते हैं. अपने इसी अंदाज को कायम रखते हुए प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कुछ महीने पहले चप्पल न पहनने की सौगंध ले ली थी. अपने इलाके की समस्याओं को दूर करने के लिए उन्होंने यह संकल्प लिया था. मगर अब लगता है कि मंत्री जी के इलाके की समस्याओं का समाधान हो गया. इसीलिए आज ग्वालियर में हुई बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की सभा में मंत्री तोमर ने चप्पल पहन ली. 'महाराज' की मौजूदगी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने प्रद्युम्न सिंह तोमर को चप्पल पहनाकर आशीर्वाद दिया.

पिछले कई महीनों से चप्पल त्याग कर काम कर रहे प्रद्युम्न सिंह तोमर ने सैकड़ों लोगों के समक्ष चप्पल पहनकर सेवा का संकल्प लिया. इस मौके पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बाकायदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आग्रह किया कि प्रद्युम्न सिंह तोमर को चप्पल पहनाकर आशीर्वाद दें. सीएम शिवराज ने भी मंत्री तोमर को चप्पल पहनाने के बाद कहा कि अब चप्पल पहनकर करो सेवा. तोमर ने कुछ महीने पहले संकल्प लिया था कि जब तक क्षेत्र के लोगों की दिक्कतें खत्म नहीं होंगी, तब तक चप्पल नहीं पहनेंगे.


इसी साल मार्च में जब प्रदेश में सत्ता-संघर्ष शुरू हुआ और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लिया, तो सबसे पहले इस्तीफा देने वाले मंत्रियों में प्रद्यु्म्न सिंह तोमर का नाम शामिल था. सिंधिया समर्थक खेमे के प्रमुख मंत्रियों में से एक तोमर ने अपने नेता के भाजपा में जाने के तुरंत बाद ही बीजेपी का दामन थाम लिया था. इसके बाद जब शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ, तो तोमर को भी मंत्री बनाया गया. अब जबकि प्रदेश में उपचुनाव की सरगर्मियां बढ़ गई हैं, तोमर को फिर से उपचुनाव का टिकट मिलने का पूरा भरोसा है. बीजेपी की तरफ से भी तोमर को फिर से चुनाव मैदान में उतारने की मंशा स्पष्ट हो चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज