Home /News /madhya-pradesh /

कंक्रीट मिक्सर में बना मालपुए का घोल, भंडारे में 20 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में परोसा खाना, देखें Video

कंक्रीट मिक्सर में बना मालपुए का घोल, भंडारे में 20 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में परोसा खाना, देखें Video

Gwalior-Morena news: मुरैना में भागवत कथा के बाद विशाल भंडारे का आयोजन किया. इसमें 2 लाख लोगों ने प्रसादी पाई.

Gwalior-Morena news: मुरैना में भागवत कथा के बाद विशाल भंडारे का आयोजन किया. इसमें 2 लाख लोगों ने प्रसादी पाई.

Morena News: मुरैना में भागवत कथा के बाद जो विशाल भंडारा आयोजित किया गया, उसे जिसने भी देखा हैरान रह गया. भंडारे में 2 लाख भक्तों के लिए प्रसादी बनाई गई. इसे बनाना आसान नहीं था. बड़ी-बड़ी मशीनों का खाना बनाने में इस्तेमाल किया गया. सबसे ज्यादा खास था मालपुए का घोल बनाना. इस घोल को कंक्रीट मिक्सर में बनाया गया. दूसरी ओर, एक बार एक हजार लोगों को खाना परोसना था, इसलिए प्रसादी को लाने के लिए 20 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों का इस्तेमाल किया गया.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. ग्वालियर-चंबल संभाग में शनिवार को ऐसे महा भंडारे का आयोजन हुआ, जिस पर यकीन करना मुश्किल है. यह भंडारा करीब 2 लाख लोगों के लिए आयोजित किया गया था. भंडारा इतना विशाल था कि सभी के लिए भोजन प्रसादी बनाना आसान नहीं था. इसलिए बड़ी-बड़ी मशीनों का इस्तेमाल किया गया. प्रसादी के लिए मालपुए का घोल जहां कॉक्रीट मिक्सर में तैयार किया गया, वहीं पूड़ी, सब्जी और बाकी चीजों के लिए 20 ट्रैक्टर ट्रॉलियों का इस्तेमाल किया गया. करीब 100 गांवों से लोग दूध, सब्जी और आटा लेकर भंडारे में पहुंचे. जब भंडारा शुरू हुआ तो एक पंगत में हजारों श्रद्धालुओं ने भोजन प्रसादी ली.

गौरतलब है कि मुरैना जिले के क्वारी नदी के किनारे बसे मौनी बाबा के आश्रम में महा भंडारे का आयोजन हुआ. आश्रम में  पिछले एक महीने से भागवत कथा चल रही थी. भागवत कथा के समापन पर शनिवार को यह विशाल भंडारा किया गया. भंडारे में भोजन बनाने के लिए 12 ट्रैक्टर ट्रॉली में भरकर आटा लाया गया. सब्जी के लिए पांच ट्रॉली में आलू-गोभी भरकर लाए गए. वहीं, बड़े लोडिंग में घी और तेल के कनस्तर लाए गए. भंडारे की पूरी व्यवस्था जनता ने खुद की.

100 गांवों से जुटाया राशन और दूध

महा भंडारे के लिए आस-पास के करीब 100 गांवों के लोगों ने सहयोग किया. ये सभी गांव आश्रम के आस-पास बसे हुए हैं. उन्होंने ही राशन और दूध जमा किया. भंडारे में इन सौ गांवों के अलावा कई अन्य गांवों के भी लोग पहुंचे. भंडारे की खीर बड़े कड़ाहों में बनाई गई. वहीं, मालपुआ के आटे को घोलने के लिए कॉन्क्रीट मशीन का इस्तेमाल किया गया. 2 लाख श्रद्धालुओं के लिए बड़े-बड़े कड़ाओं में मालपुए बनाए गए. प्रसादी को 20 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों भरकर पंगत तक लाया गया.

Tags: Gwalior news, Morena news, Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर