लाइव टीवी

MP: आंगनबाड़ियों में खिलौना बैंक बनाकर उन्हें शिक्षा केंद्रों में बदला जाएगा
Gwalior News in Hindi

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 8, 2020, 4:09 PM IST
MP: आंगनबाड़ियों में खिलौना बैंक बनाकर उन्हें शिक्षा केंद्रों में बदला जाएगा
आंगनबाड़ियों में बनेंगे खिलौना बैंक

एमपी की आंगनबाड़ियों में जल्द ही खिलौना बैंकों (Toy Bank) की स्थापना होगी, जिनमें दान दाताओं से खिलौने और पुस्तकों का दान लिया जाएगा. साथ ही प्रदेश की 800 आंगनबाड़ियों को बाल शिक्षा केंद्रों में बदला जाएगा

  • Share this:
ग्वालियर. शुक्रवार को डबरा विधानसभा के पिछोर में 'जय किसान फसल ऋण माफी योजना' और 'आपकी सरकार आपके द्वारा' कार्यक्रम आयोजित किया गया. कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक प्रदेश की केबिनेट मंत्री इमरती देवी (Imarti Devi) मुख्य अतिथि के रुप में शामिल हुईं. इस दौरान मंत्री इमरती देवी ने कहा कि उनकी सरकार आंगनबाड़ियों (Anganbadi) में आने वाले बच्चों को बेहतर शिक्षा और घर जैसा माहौल देने की भरपूर कोशिश कर रही है. इसी कड़ी में प्रदेश की आंगनबाड़ियों में जल्द ही खिलौना बैंक स्थापित किए जाएंगे.

आंगनबाड़ियों में बनेंगे खिलौना बैंक
आंगनबाड़ी केन्द्रों में आने वाले बच्चों के लिए पुस्तकें और खिलौनों के लिए खिलौना बैंक बनाए जाएंगे. इन बैंकों में कोई भी व्यक्ति कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों के लिए पुस्तकें और खिलौने भेंट कर सकेगा. इन खिलौनों और पुस्तकों का उपयोग आंगनबाड़ी केन्द्र में आने वाले बच्चे कर पाएंगे. इमरती देवी ने कहा कि विभाग के जरिए जल्द ही सभी आंगनबाड़ियों में खिलौना बैंक बनाने के निर्देश दिए जाएंगे.

बाल शिक्षा केंद्रों में बदलेंगी 800 आंगनबाड़ियां

केबिनेट मंत्री इमरती देवी ने बताय़ा कि पहले चरण में प्रदेश की 313 आंगनबाड़ी केन्द्रों को बाल शिक्षा केन्द्र के रूप में विकसित किया गया था. प्रायवेट स्कूलों की तर्ज पर बनाए गए बाल शिक्षा केन्द्रों की सफलता को देखते हुए दूसरे चरण में प्रदेश में 800 आंगनबाड़ी केन्द्र बाल शिक्षा केन्द्र के रूप में संचालित किए जाएंगे. पहले चरण में जहां 313 विकासखंडों की एक-एक आंगनबाड़ियों को बाल शिक्षा केंद्र में तब्दील किया गया था वहीं अब प्रदेश के हर जिले की 16 आंगनबाड़ियों को बाल शिक्षा केंद्र के रुप में विकसित किया जाएगा.

बाल शिक्षा केंद्रों में बच्चों का संपूर्ण विकास होगा
बाल शिक्षा केंद्र बनी आंगनवाड़ियों में बच्चों के मानसिक व शारीरिक विकास के लिए इंडोर और आउटडोर गेम्स की व्यवस्था है. इन केंद्रों को प्ले स्कूल की तरह सजाया गया है और बच्चों को आकर्षित करने वाली रंगीन दीवारें हैं. इन पर ज्ञानवर्धक पेंटिंग्स बनाई गई हैं. दीवारों पर वर्णमाला के अक्षर, अंग्रेजी वर्णमाला के लेटर के साथ कार्टून कैरेक्टर, पक्षी, फल, सब्जी, जानवरों के नाम सहित चित्रण किया गया है. आंगनबाड़ी केंद्रों की दीवारों पर बाल अनुकूल चित्रकला कराने, भौतिक बुनियादी ढांचे का निर्माण, बच्चों के अनुकूल शौचालय, कक्षा, रसोईघर का निर्माण, खेल उपकरण, खिलौना, डिस्प्ले बोर्ड, कम्प्यूटर आदि सबकुछ उपलब्ध है.ये भी पढ़ें -
मध्य प्रदेश को नये DGP की तलाश, UPSC की सिफारिश ठुकराने के बाद नये सिरे से माथापच्ची
भोपाल के हबीबगंज स्टेशन पर पकड़ी गयी महिला तस्कर,13 लाख की ड्रग्स ज़ब्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 8, 2020, 4:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर