होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /मध्य प्रदेश का 131 वर्ष पुराना यह स्कूल बेहद खास है, यहां बच्चे आज भी पहनकर आते हैं गांधी टोपी

मध्य प्रदेश का 131 वर्ष पुराना यह स्कूल बेहद खास है, यहां बच्चे आज भी पहनकर आते हैं गांधी टोपी

Harda News: पूरे संभाग में इसे गांधी टोपीवाले स्कूल के नाम से पहचाना जाता है

Harda News: पूरे संभाग में इसे गांधी टोपीवाले स्कूल के नाम से पहचाना जाता है

Harda News: हरदा जिले के छिपावड़ में अनोखा स्कूल है, जिसमें पढ़ने वाले विद्यार्थी आज भी गांधी टोपी पहनते हैं. आज के दौर म ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

आजादी से पहले हरदा जिले में आए थे महात्मा गांधी
मध्य प्रदेश के हरदा में 131 साल से चल रहा है यह शासकीय स्कूल

हरदा. आज गांधी जयंती है…इस मौके पर हम आपको मध्य प्रदेश के एक ऐसे स्कूल से रू-ब-रू कराएंगे, जहां आज भी गांधीजी की परंपराओं को संजोया जा रहा है. स्कूल के छात्रों का कहना है की उन्हें गांधीटोपी पहनने से गर्व महसूस होता है. साथ ही गांधीजी के आदर्शो पर चलने की प्रेरणा मिलती है. पूरे संभाग में इसे गांधी टोपीवाले स्कूल के नाम से पहचाना जाता है. हालांकि स्कूल में एडमिशन लेने वाले बच्चो की संख्या साल दर साल कम होती जा रही है. लेकिन स्कूल प्रबंधन और बच्चों का कहना है कि वो गांधीजी की परम्परा को जीवंत रखेंगे.

हरदा जिले के छिपावड गांव में स्थित इस शासकीय स्कूल की शुरुआत 1 जनवरी 1892 को हुई थी. इसकी विशेषता है की 131 वर्ष पुराने इस स्कूल में पढ़ने वाले छात्र से लेकर आज तक पढ़ रहे सभी छात्रों का रिकॉर्ड सुरक्षित रखा है. ऐसा बताया जाता है की आजादी की लड़ाई के दौरान खुद गांधीजी हरदा आये थे. उस समय यहां गांधीजी ने चरखा चलाया था.

अब कक्षा आठ तक पढ़ रहे 136 बच्चे
गांधीजी और उनके आदर्शों के प्रति लोगों में तभी से भावना हिलोरें लेने लगी थी. स्कूल में गांधी टोपी पहनने की शुरुआत आज स्कूल में परम्परा का रूप ले चुकी है. छात्र बलराम मीणा के मुताबिक यहां पढ़ने वाले सभी छात्र गांधी टोपी पहनकर आते हैं. स्कूल में कक्षा 1 से लेकर 8 तक कुल 136 बच्चे हैं. यहां छात्रों ने चरखा चलाना भी सीखा, ताकि वो आत्मनिर्भर बन सकें.

स्कूल में शुरू से ही बुनियादी शिक्षा पर जोर
इस स्कूल में शुरुआत से ही पढ़ाई के साथ-साथ ही बच्चों को बुनियादी शिक्षा पर भी जोर दिया जाता है. तब से इस ही स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को पढ़ाई के साथ जीवनयापन के लिए बुनियादी शिक्षा देने की परंपरा है. समय और जरूरत के हिसाब के कुछ परंपराएं कम हुईं हैं, लेकिन स्कूल की शिक्षिका बताती है कि बच्चे आज भी गांधी टोपी पहनकर गर्व महसूस करने की बात करते हैं. संभाग के सबसे पुराने स्कूल टीचर बताते हैं कि सभी छात्र स्वेच्छा से इस परंपरा का पालन कर रहे हैं.

Tags: Gandhi Jayanti, Government School, Harda news, Mahatma Gandhi news, MP news Bhopal

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें