Home /News /madhya-pradesh /

american magazine forbes 2022 ravish agarwal got place in the list of world 30 best young ceos mpsg

फोर्ब्स 2022 में हरदा के युवा इंजीनियर रवीश अग्रवाल को मिली जगह, जानिए वजह

Harda : रवीश इन दिनों बंगलुरु में एबल जॉब्स कंपनी चला रहे हैं. उनकी कंपनी युवाओं को रोजगार से जुड़ी ट्रेनिंग देती है.

Harda : रवीश इन दिनों बंगलुरु में एबल जॉब्स कंपनी चला रहे हैं. उनकी कंपनी युवाओं को रोजगार से जुड़ी ट्रेनिंग देती है.

Great Achievement : युवा रवीश अग्रवाल हरदा जिले के सिराली के रहने वाले हैं. उन्हें अमेरिका से प्रकाशित होने वाली इंटरनेशनल मैग्जीन फ़ोर्ब्स ने एशिया की अंडर 30 सूची में स्थान दिया है. रवीश सहित पूरे भारत से सिर्फ 5 लोगों को फ़ोर्ब्स पत्रिका जगह मिली है. रवीश बंगलुरू की एबल जॉब्स कम्पनी के सीईओ हैं. उनकी इस उपलब्धि पर माता पिता गौरवान्वित हैं. उनके नाते रिश्तेदार और शहर के लोग भी खुश हैं. सबने रवीश के घर पहुंचकर परिवार को बधाई दी.

अधिक पढ़ें ...

हरदा. हरदा का फिर नाम रौशन हुआ. यहां के एक चिराग रवीश अग्रवाल को प्रतिष्ठित अमेरिकी पत्रिका फोर्ब्स में जगह मिली है. उन्हें एशिया के 30 बेस्ट युवा सीईओ की सूची में शामिल किया गया है. ये लिस्ट 30 साल से कम उम्र के लोगों की है.

युवा रवीश अग्रवाल हरदा जिले के सिराली के रहने वाले हैं. उन्हें अमेरिका से प्रकाशित होने वाली इंटरनेशनल मैग्जीन फ़ोर्ब्स ने एशिया की अंडर 30 सूची में स्थान दिया है. रवीश सहित पूरे भारत से सिर्फ 5 लोगों को फ़ोर्ब्स पत्रिका जगह मिली है. रवीश बंगलुरू की एबल जॉब्स कम्पनी के सीईओ हैं. उनकी इस उपलब्धि पर माता पिता गौरवान्वित हैं. उनके नाते रिश्तेदार और शहर के लोग भी खुश हैं. सबने रवीश के घर पहुंचकर परिवार को बधाई दी.

एबेल जॉब्स कंपनी के CEO
फ़ोर्ब्स मैग्जीन ने रवीश का नाम 30 अंडर 30 एशिया वर्ष 2022 की सूची में शामिल किया है. एबल जॉब्स कंपनी को रवीश ने दो दोस्तों स्वतंत्र और सिद्धार्थ के साथ मिलकर 2019 में शुरू किया था. बिना पूंजी के शुरू हुई यह कम्पनी आज दो वर्षो में 80 करोड़ रूपये का बिजनेस कर रही है. कम्पनी ने 30 से ज्यादा लोगों को रोजगार भी दे रखा है. रवीश एबेल जॉब्स के सीईओ हैं. कम्पनी में युवाओं को रोजगार के लिए ट्रेनिंग दी जाती है. सेल्स, मार्केटिंग, बिजेनस ऑपरेशन, इंश्योरेंस के क्षेत्र में रोजगार के लिए तीन साल में अब तक 25 हजार से ज्यादा युवाओ को ट्रेनिंग दी जा चुकी है.

ये भी पढ़ें- बीजेपी चुनाव समिति- कोर ग्रुप का ऐलान : ज्योतिरादित्य को जगह, प्रभात झा, जटिया, विक्रम वर्मा बाहर

IIT कानपुर से पढ़ाई की
रवीश फिलहाल बंगलुरू में हैं. उन्होंने फोन पर बताया कि इस उपलब्धि पर वे बेहद खुश हैं. पीएम मोदी के मेक इन इण्डिया से प्रभावित होकर उन्होंने दोस्तों के साथ स्टार्टअप शुरू किया था. रवीश का लक्ष्य कम्पनी को यूनिकॉर्न में शामिल कराना है.  रवीश के पिता राजेश अग्रवाल मप्र विद्युत वितरण कम्पनी में उपमहाप्रबन्धक हैं और हरदा में पदस्थ हैं. रवीश की माताजी प्रीति अग्रवाल गृहिणी हैं. रवीश का छोटा भाई संकेत मुंबई आईआईटी से बीटेक कर रहा है. रवीश की स्कूली शिक्षा हरदा में हुई. बाद में उन्होंने कानपुर आईआईटी से बीटेक किया. पिता राजेश और माताजी प्रीति बेटे के उपलब्धि पर बेहद खुश हैं.| उन्होंने कहा यह उपलब्धि रवीश के संघर्ष का परिणाम है.

सब खुश हैं…
इस छोटे से शहर के बेटे का नाम अमेरिका की मैगजीन में नाम आने से पूरा शहर खुश है. खबर आते ही रवीश के घर बधाई देने वालों का तांता लग गया. सबने उनके घर पहुंचकर माता पिता का मुंह मीठा करवाया. और बेटे की उपलब्धि पर बधाई शुभकामनाएं दीं.

Tags: Forbes, Harda news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर