MP: रेमडेसिविर के बाद favipiravir की ब्लैक मार्केटिंग, मेडिकल स्टोर पर छापा, संचालक गिरफ्तार

मप्र के हरदा में मेडिकल स्टोर संचालक खुलेआम लूट मचा रहा था.

मप्र के हरदा में मेडिकल स्टोर संचालक खुलेआम लूट मचा रहा था.

Favipiravir Tablet Blackmarketing: मध्य प्रदेश के हरदा जिले में favipiravir टैबलेट की ब्लैक मार्केटिंग होते पकड़ी गई है. यहां एक मेडिकल स्टोर पर कलेक्टर के आदेश पर छापा मारा गया. मेडिकल स्टोर का संचालक दोगुने दामों पर टैबलेट बेच रहा था. पुलिस संचालक को पकड़कर थाने ले गई है.

  • Last Updated: April 22, 2021, 11:36 AM IST
  • Share this:
हरदा. मध्य प्रदेश में अब रेमडेसिविर इंजेक्शन के बाद दूसरी दवाओं की भी ब्लैक मार्केटिंग शुरू हो गई है. हरदा जिले में पुलिस ने फैवीपिरावीर (favipiravir) टैबलेट को दोगुने दामों पर बेच रहे एक मेडिकल स्टोर संचालक को गिरफ्तार किया है. मेडकिल स्टोर के स्टॉक में भी प्रशासन को बड़े पैमाने पर गड़बड़ी मिली है.

दरअसल, ग्राम पीपलघटा का रहने वाला किसान दीपक विश्नोई अपने बीमार चाचा के लिए टेबलेट लेने मोहित मेडिकल स्टोर पर गया था. उन्होंने मेडिकल स्टोर के संचालक राजकुमार बंसल से फैवीपिरावीर (favipiravir) मांगी. राजकुमार ने उसे दवा तो दी, लेकिन उसकी कीमत 2200 रुपए मांगी. दीपक ने उनसे कहा कि दवा पर एमआरपी तो 1224 रुपए है. आप इतने दाम क्यों ले रहे हो. इस पर राजकुमार ने उनसे कहा कि कहा कि आपको टैबलेट लेनी हो तो वरना वापस दो. दीपक ने मजबूरी में चलते टेबलेट 2100 रुपए में खरीदी.

ग्राहक ने वीडियो बनाकर अफसरों को दिया

दीपक ने इस बीच इस पूरी घटना का वीडियो भी बना लिया. वीडियो बनाने के बाद उसने इसे प्रशासनिक अधिकारियों को भेज दिया और थाने में शिकायत की. शिकायत मिलते ही कलेक्टर ने कार्रवाई के निर्देश दिए. इसके बाद SDM पुलिस के साथ घंटाघर इलाके में स्थित मोहित मेडिकल स्टोर पर पहुंची और संचालक राजकुमार बंसल को गिरफ्तार कर लिया है.
मेडिकल स्टोर के स्टॉक में भी गड़बड़ी

दूसरी ओर, ड्रग इंस्पेक्टर ने जब मेडिकल स्टोर के स्टॉक की जांच की, तो उसमें भी गड़बड़ी पाई गई. इसके बाद संचालक को गिरफ्तार कर थाने भेज दिया गया. SP मनीष कुमार अग्रवाल ने बताया कि आरोपी पर धारा 188, 269, 270, आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 की धारा 3 और 7, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 53 और 57, महामारी अधिनयम 1897 की धारा 3, एमपी ड्रग कंट्रोल एक्ट 1949 की धारा 5 /13 सहित कुल 9 धाराओं में मामला दर्ज किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज