लाइव टीवी

बीजेपी विधायक कमल पटेल का बेटा फिर से ज़िला बदर, 5 ज़िलों में प्रवेश पर पाबंदी
Harda News in Hindi

Praveen Singh Tanwar | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 16, 2020, 11:35 PM IST
बीजेपी विधायक कमल पटेल का बेटा फिर से ज़िला बदर, 5 ज़िलों में प्रवेश पर पाबंदी
बीजेपी विधायक कमल पटेल का बेटा ज़िला बदर घोषित

कलेक्टर (collector) ने अपने आदेश में लिखा कि अनावेदक अपने आचरण में सुधार करे और आदेश में लिखे जिलों की सीमाओं में न्यायालय की इजाज़त के बिना ना लौटे.

  • Share this:
हरदा से भाजपा विधायक (BJP MLA) और पूर्व मंत्री कमल पटेल (Kamal patel) के बेटे सुदीप पटेल (sudip patel) को 1 साल के लिए ज़िला बदर कर दिया गया है. उन्हें 5 ज़िलों की सीमा से ज़िला बदर (zila badar)किया गया. कलेक्टर (collector) ने इसका आदेश दिया. सुदीप पटेल पर ज़िले के विभिन्न थानों में 19 केस दर्ज हैं. वो खिरकिया जनपद पंचायत का उपाध्यक्ष भी है. इससे पहले बीजेपी शासन के दौरान भी सुदीप को ज़िला बदर किया जा चुका है.

हरदा से भाजपा विधायक कमल पटेल एक बार फिर अपने बेटे के कारण मुसीबत में हैं. हरदा कलेक्टर ने उनके बेटे सुदीप पटेल को ज़िला बदर कर दिया है. सुदीप पर जिले के विभिन्न थानों में कुल 19 मामले दर्ज हैं. कलेक्टर ने जारी किए आदेश में राज्य सुरक्षा अधिनियम 1990 की धारा 5 बी के तहत सुदीप को 5 ज़िलों की सीमा से जिला बदर किया है. सुदीप पटेल इससे पहले भाजपा शासन काल में भी ज़िला बदर हो चुका है.

5 ज़िलों में प्रवेश पर पाबंदी
प्रदेश में भाजपा के कद्दावर नेताओ में शामिल पूर्व मंत्री और वर्तमान में हरदा से बीजेपी विधायक कमल पटेल को बड़ा झटका लगा है. कलेक्टर ने उनके छोटे बेटे सुदीप पटेल पर एक साल के लिए 5 जिलों की सीमा में घुसने पर पाबंदी लगा दी है. उस पर जि़ले के विभिन्न थानों में हत्या,बलवा,शासकीय कार्य में बाधा,एससी एसटी एक्ट,मारपीट जैसे 19 गंभीर अपराध दर्ज हैं. सुदीप पटेल पूर्व में भी भाजपा के शासन काल में 23 मई 2017 में जिलाबदर किया जा चुका है.

आदेश में लिखा
कलेक्टर और जिला दंडाधिकारी एस विश्वनाथन ने गुरुवार को आदेश दिया. अपने आदेश में विधायक पुत्र और खिरकिया जनपद पंचायत के उपाध्यक्ष सुदीप पटेल को जिले से 1 साल के लिए जिला बदर कर 48 घंटे में हरदा सहित पड़ोसी ज़िले होशंगाबाद, खंडवा, देवास, सीहोर और बैतूल से बाहर जाने का आदेश दिया. कलेक्टर ने अपने आदेश में लिखा कि अनावेदक अपने आचरण में सुधार करे और आदेश में लिखे जिलों की सीमाओं में न्यायालय की इजाज़त के बिना ना लौटे. साथ ही वो जहां भी रहेगा वहां के पुलिस अधीक्षक को उस क्षेत्र में उपस्थिति की सूचना देता रहेगा.

पत्नी ज़िला पंचायत अध्यक्षसुदीप पटेल की पत्नी कोमल पटेल भी हरदा जिला पंचायत अध्यक्ष हैं. कलेक्टर एस विश्वनाथन ने कहा, सुदीप पटेल को एक साल के लिए जिला बदर किया है. इस पूरे मामले पर भाजपा ज़िलाध्यक्ष अमरसिंह मीणा ने कहा सुदीप पटेल पर जिलाबदर की कार्रवाई राजनीतिक द्वेष से की गयी है.

कांग्रेस नेताओं ने कहा कानून ने किया अपना काम
सुदीप पटेल के ज़िलाबदर के आदेश जारी होने के बाद जिले की राजनीति गर्मा गयी है. कांग्रेस नेता और पूर्व विधायक आर के दोगने ने कहा कानून ने अपना काम किया है. कलेक्टर ने विधि अनुसार क़ानूनी कार्रवाई की है. उन्होंने कहा सुदीप पटेल भाजपा सरकार के दौरान भी ज़िला बदर हो चूका है इसलिए कांग्रेस सरकार ने राजनीतिक बदले की भावना से ये काम किया, ये कहना गलत है.

ये भी पढ़ें-जीतू सोनी के डांस बार में डांसर की मौत, 3 साल बाद फिर खुली फाइल

MP में 'छपाक' टैक्स फ्री करने के बाद अब खुले में नहीं बिकेगा एसिड!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 11:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर