Home /News /madhya-pradesh /

फसलों का नुकसान जांचने हरदा पहुंची केन्द्रीय टीम, कार छोड़ किसानों की बाइक से किया मुआयना

फसलों का नुकसान जांचने हरदा पहुंची केन्द्रीय टीम, कार छोड़ किसानों की बाइक से किया मुआयना

हरदा में केन्द्रीय टीम के सदस्यों ने फसलों का मुआयना किया.

हरदा में केन्द्रीय टीम के सदस्यों ने फसलों का मुआयना किया.

भारत सरकार (Indian Government) की इंटर मिनिस्ट्रियल के केंद्रीय दल ने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के हरदा (Harda) जिले के खेतो में कीट प्रभावित फसलों का निरीक्षण किया.

हरदा. भारत सरकार (Indian Government) की इंटर मिनिस्ट्रियल के केंद्रीय दल ने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के हरदा (Harda) जिले के खेतो में कीट प्रभावित फसलों का निरीक्षण किया. इस दौरान केंद्रीय दल में शामिल अधिकारी कार को छोड़कर किसानों की बाइक पर बैठकर खेतों में पहुंचे. केंद्रीय दल जिले में कीट से फसल में हुए नुकसान का आंकलन कर अपनी रिपोर्ट भारत सरकार को देगा. हरदा जिले में दो सदस्यीय केंद्रीय दल ने कीट से प्रभावित हुई फसल में क्षति का आंकलन करने के लिए खेतों का निरीक्षण किया. केंद्रीय दल में शामिल अधिकारी भारत्तेन्दु सिंह और मनोज पावनिकर ने जिले के कृषि उपसंचालक एमपीएस चन्द्रावत, एडीएम जेपी सैयाम के साथ ग्रामीण इलाको के गांवो में खेतो का मुआयना किया.

दल ने जिले के हंडिया, भमोरी, खेड़ीनिमा, कुसिया, करताना सहित टिमरनी ब्लॉक के गांवों में कीट प्रभावित फसलों को देखा. केंद्रीय दल ने किसानों से फसल में हुए नुकसान को लेकर जानकारी ली. केंद्रीय दल में शामिल अधिकारी इस मोके पर मैदानि हकीकत जानने के लिए कार को छोड़कर बाइक से खेतो में पहुंचे. नई दिल्ली से आये वित्त विभाग के संचालक भारतेन्दु सिंह ने कहा नुकसान का आंकलन कर रिपोर्ट सरकार को देंगे. हरदा जिले में इस वर्ष कीट प्रकोप ओर लगातार बारिश से जिले में खरीफ फसलों को भारी नुकसान हुआ है. जिससे किसानों को बड़ी आर्थिक क्षति हुई है.

किस फसल को कितना नुकसान
हरदा जिले में इस वर्ष खरीफ फसलों की बोवनी का कुल रकबा 1 लाख 91 हजार 730 हेकेटेयर है. जिले में सोयाबीन फसल की बोवनी 1 लाख 67 हजार हेक्टेयर नुकसान लगभग 90 प्रतिशत, मूंग ओर उड़द की बोवनी 8750 हेकेटेयर में नुकसान 70 से 80 प्रतिशत, मक्का 12 हजार हेकेटेयर में बोवनी, नुकसान 50 से 60 प्रतिशत, राम तिल 350 हेक्टयर में बोवनी नुकसान 40 से 50 प्रतिशत, अरहर 2 हजार हेकेटेयर में बोवनी नुकसान 40 से 50 प्रतिशत, धान 1510 हेकेटेयर में बोवनी नुकसान 15 से 20 प्रतिशत होना बताया जा रहा है.

Tags: Harda news, Madhya Pradesh News Updates

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर