हरदा की सीताराम दयोदय गौशाला में 8 गायों की मौत से हड़कंप, सामने आई ये लापरवाही

Praveen Singh Tanwar | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 11, 2019, 10:15 PM IST
हरदा की सीताराम दयोदय गौशाला में 8 गायों की मौत से हड़कंप, सामने आई ये लापरवाही
हरदा में गायों की मौत से प्रशासन परेशान.

हरदा शहर (Harda City) में सीताराम दयोदय गौशाला (Sitaram Dayodaya Gaushala) में 8 से अधिक गायों की मौत से हड़कंप मचा गया. शुरुआत में इस मामले को दबाने की कोशिश की गई थी.

  • Share this:
हरदा. मध्‍य प्रदेश के हरदा शहर (Harda City) में सीताराम दयोदय गौशाला (Sitaram Dayodaya Gaushala) में आज 8 से अधिक गायों की मौत से हड़कंप मचा गया. सूचना मिलने पर पशु चिकित्सा विभाग का अमला और प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे. डॉक्टर्स ने अन्य गायों का परीक्षण किया. आपको बता दें कि ये सभी मवेशी सड़को से पकड़कर जिला प्रसाशन द्वारा गौशाला में भेजे गए थे, जिनके रखरखाव की जिम्मेदारी भाजपा शाषित नगर पालिका हरदा को दी गयी थी. पशु चिकित्सा विभाग के उपसंचालक ने परीक्षण कर बताया कि किसी प्रकार के संक्रमण से गायों की मौत नहीं हुई है. जबकि गायों की मौत पर सभी जिम्मेदार अलग-अलग तर्क देते रहे. हालांकि गायों की मौत होने के बाद मामले को दबाने का पूरा प्रयास किया गया और मौत के बाद उन्हें पास के मैदान में फेंक दिया गया था, जहां अन्य जानवर उन्हें खा रहे थे.

सामने आई मौत की वजह
गौशाला में क्षमता से ज्यादा मेवशी होने के कारण उनका रखरखाव भी नहीं हो पा रहा था और यही मौत की सबसे बड़ी वजह है. आपको बता दें कि विगत 29 अगस्त को किसानों द्वारा परेशान होकर कलेक्टर कार्यालय में मवेशी छोड़े गए थे. इसके बाद कलेक्टर द्वारा सभी मवेशियों को सीताराम गौशाला में रखने के निर्देश नगर पालिका को दिए गए थे. उसके बाद सड़कों से पकड़े गए आवारा मवेशियों को भी यहां लाया गया था, लेकिन उचित व्यवस्था न होने पर भी सभी मवेशियों को यहां रखा गया. गौशाला में न तो गायों के लिए पर्याप्त शेड था और न ही चारा और पानी की व्यवस्था. गौशाला में करीब 600 गायों को रखा गया था. मामले की सूचना देने वाले युवक दीपक ने बताया कि यहां जो गाय हैं उनमें से 10 से 15 गायों की मौत भूख और बारिश हो चुकी है. देखरेख नहीं हो रही थी इसलिए उन्होंने अधिकारियों को फोन लगाया.

चिकित्सा विभाग ने किया इलाज

इस घटना के बाद गौशाला में पहुंचे पशु चिकित्सा विभाग के डॉक्टर्स ने अन्य गायों का
परीक्षण कर उनका इलाज किया. चर्चा के दौरान डॉ राजेंद्र गौर (उपसंचालक पशु चिकित्सा विभाग) ने गायों की मौत का अजीब कारण बताया. उन्होंने कहा कि गायों की मौत संक्रमण से नहीं बल्कि बड़े जानवरो द्वारा छोटे और कमजोर को दबाने से हुई है. उनकी जानकारी में सिर्फ तीन गायों की मौत हुई है.

नगर पालिका अध्‍यक्ष ने कही ये बात
Loading...

हरदा में इतनी बड़ी संख्या में गायों की मौत के बाद भी गोवंश को लेकर राजनीति करने वाले खुद गौभक्त कहने वाले कहीं नजर नहीं आए. हरदा नगर पालिका के कमर्चारियों ने गायों की मौत के बाद उनके शव ट्रेचिंग ग्राउंड के मैदान में फेक दिए. जबकि नगर पालिका के अध्यक्ष सुरेंद्र जैन का कहना है कि आज सिर्फ 5 गायों की मौत हुई है. जबकि जो जानवर मीडियाकर्मियों ने देखे हैं वो हमारी गौशाल वाले नहीं हैं. पॉलीथिन खाने से आवारा मवेशियों की मौत हुई है.

एसडीएम ने लिया जायजा
गायों की मौत के बाद मौके पर पहुंचे एसडीएम एचएस चौधरी ने कहा की सूचना मिली थी की गौशाला में अव्यवस्था थी. अब कमजोर पशुओं को कृषि मंडी में रखा जाएगा. उन्हें गायों की मौत की जानकारी नहीं है, लेकिन जब मौजूद लोगों ने गायों की मौत के बारे में बताया तो उन्होंने कहा दिखवा लेंगे.

ये भी पढ़ें- गोपाल भार्गव का कमलनाथ सरकार पर तंज, बोले- MP में कांग्रेस की उम्र ज्योतिषी भी नहीं बता सकता

CM कमलनाथ ने शुरू की 'मुख्यमंत्री आवास मिशन' योजना, प्रदेश के शहरी गरीबों को मिलेगा पक्‍का मकान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 9:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...