हरदा: फर्जी निकला महिला प्रताड़ना पर वायरल पत्र, कड़ी कार्रवाई के निर्देश
Bhopal News in Hindi

हरदा: फर्जी निकला महिला प्रताड़ना पर वायरल पत्र, कड़ी कार्रवाई के निर्देश
शिक्षा विभाग के सरप्लस शिक्षकों कीू सूची में मृतकों के नाम भी शामिल

हरदा (Harda) में जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में आए एक फर्जी पत्र (Fake letter) में महिला शिक्षकों को मानसिक रूप से परेशान करने का आरोप लगाया गया है. लोक शिक्षण आयुक्त जयश्री कियावत के नाम से जारी इस पत्र का जब भोपाल से सत्यापन कराया गया तो ये फर्जी निकला. इस मामले में रिपोर्ट दर्ज कराने के निर्देश दिए गए हैं.

  • Share this:
हरदा. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के हरदा जिले के शिक्षा विभाग में आए एक पत्र (Letter) से हड़कंप मचा हुआ है. भोपाल लोक शिक्षण आयुक्त जयश्री कियावत (Jaishree Kiyawat) के नाम से जारी हुए इस पत्र में उनकी शासकीय सील भी लगी हुई है. पत्र में हरदा जिले के डीपीसी द्वारा महिला शिक्षकों को शैक्षणिक व्यवस्था के नाम पर अन्यत्र शालाओं में पदस्थ कर मानसिक रूप (Mentally) से परेशान (Harassment) किए जाने की शिकायत प्राप्त हुई है. पत्र में कहा गया है कि शैक्षणिक व्यवस्था के नाम पर या अन्य प्रकार से महिला शिक्षकों (Women Teachers) को अध्यापन कार्य के लिए बाहरी शालाओं में नहीं भेजा जा सकता. पत्र के मुताबिक किसी भी परिस्थिति में महिला शिक्षकों शाम 4:30 बजे बाद शाला में नहीं रोका जाए.

पत्र को फर्जी बताकर थाने में रिपोर्ट कराने की बात कही गई
लोक शिक्षण संचनालय भोपाल के नाम से भेजा गया या पत्र 7 नवम्बर को भोपाल न्यू मार्केट टीटी नगर जीपीओ से स्पीड पोस्ट द्वारा हरदा भेजा गया था. हरदा जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय को 13 नवंबर को यह पत्र मिलने के बाद सत्यापन के लिए भोपाल लोक शिक्षण कार्यालय भेजा गया, जहां से 14 नवम्बर को इस तरह के कोई भी आदेश पत्र जारी नहीं होने की बात कही गई. प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी वीके नरवरिया ने न्यूज़ 18 को बताया की फर्जी पत्र का खुलासा होने के बाद 14 नवंबर को लोक शिक्षण संचनालय के संचालक गौतम सिंह द्वारा एक पत्र भेजकर फर्जी पत्र की जांच कर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ स्थानीय थाने में रिपोर्ट कराने की बात कही गई है.

News - फर्जी पत्र की जांच के लिए साइबर सेल की मदद लेगा ज़िला प्रशासन, Harda News
फर्जी पत्र की जांच के लिए साइबर सेल की मदद लेगा ज़िला प्रशासन

कलेक्टर ने कहा- साइबर सेल की मदद लेंगे


शासकीय सील लगे हुए और बड़े अधिकारी के नाम से जारी हुए इस पत्र के फर्जी निकलने के बाद जिला प्रशासन ने इस मामले को गंभीरता से लिया है. जिले के कलेक्टर एस विश्वनाथन न्यूज़ 18 से चर्चा में कहा कि किए पत्र आया था जिसमें कमिश्नर के हस्ताक्षर थे. देखने में ही यह पत्र फर्जी लग रहा था. उन्होंने इस मामले में साइबर सेल की मदद लेने की बात भी कही.

ये भी पढ़ें -
कांग्रेस सरकार में हूं, पार्टी में नहीं, गड़बड़ हुई तो कान पकड़ कर बाहर कर दूंगा- कम्प्यूटर बाबा
डंपर कांड पर IAS अधिकारी ने शिवराज को लिखी चिट्ठी, पूर्व CM बोले- कांग्रेस को सिर्फ मेरे सपने आते हैं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading