होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Good News : किसी प्ले स्कूल की तरह है ये आंगनवाड़ी, यहां से लौटना नहीं चाहते बच्चे

Good News : किसी प्ले स्कूल की तरह है ये आंगनवाड़ी, यहां से लौटना नहीं चाहते बच्चे

इस आंगनबाड़ी में ड्रेस कोड, बच्चों के लिए खाना, खेलकूद की सामग्री और कई आधुनिक सुविधाएं हैं.

इस आंगनबाड़ी में ड्रेस कोड, बच्चों के लिए खाना, खेलकूद की सामग्री और कई आधुनिक सुविधाएं हैं.

Adopted Anganwadi. मध्यप्रदेश के हरदा के केलझिरि में बनी आंगनबाड़ी एक प्ले स्कूल जैसी है. इस आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चो ...अधिक पढ़ें

हरदा. जिले के आदिवासी गांव केलझिरि की आंगनवाड़ी को देखकर हर कोई सुखद आश्चर्य से भर जाएगा. इस सरकारी आंगनवाड़ी की तस्वीर शहर के किसी प्ले स्कूल से मिलती है. राज्य सरकार की अडॉप्ट एन आंगनवाड़ी योजना के तहत  कलेक्टर ऋषि गर्ग ने इसे गोद लेकर मॉडल आंगनवाड़ी के रूप में विकसित किया है. इसमें ड्रेस कोड, बच्चों के लिए खाना, खेलकूद की सामग्री और कई आधुनिक सुविधाएं हैं.

आदिवासी ग्रामीणों का भी कहना है कि आंगनवाड़ी में सुविधाएं इतनी अच्छी हैं कि बच्चे घर लौटने के लिए तैयार नहीं होते. हरदा जिले में लाड़ली उत्सव के दिन आदिवासी बच्चों को एक विशेष सौगात दी गई है. कलेक्टर ऋषि गर्ग ने वनांचल के केलझिरी गांव में एक आंगनवाड़ी गोद लेकर उसे किसी प्ले स्कूल की तरह विकसित किया है. आंगनवाड़ी में सभी बच्चों के लिए ड्रेस कोड है. इसी ड्रेस को पहनकर सभी आदिवासी बच्चे आते हैं. लाड़ली उत्सव के अंतर्गत बालिका के हाथों आंगनवाड़ी का लोकार्पण कराया गया है. बच्चों के मनोरंजन के लिए आंगनवाड़ी में गार्डन बना है, इसमें झूले और खेलकूद के अन्य साधन लगे हैं. पूरे समय बिजली व्यवस्था रहे इसलिए छत पर सोलर पेनल भी लगाई गई है.

इसी तर्ज पर जिले की सभी आंगनबाड़ियां विकसित की जाएंगी
इस आंगनबाड़ी में स्कूल की तर्ज पर स्टील की प्लेटों में बच्चों खाना दिया जाता है. शहर से दूर गांव होने के चलते सप्ताह में एक बार सभी बच्चों के लिए स्वास्थ्य परीक्षण के लिए चिकित्सक गांव पहुचेंगे. आंगनबाड़ी की दीवारों पर बड़े-बड़े चित्र बनाए गए है. जिससे कि इन चित्रों को देखकर बच्चे समझ सकें और स्कूल जाने के लिए तैयार हों. गांव की एक आदिवासी महिला ने कहा की आंगनवाड़ी स्कुल जैसी है. यहां सभी सुविधाएं बेहतर हैं. महिला बाल विकास अधिकारी संजय त्रिपाठी ने कहा की पूरे प्रदेश में प्रतिष्ठित व्यक्ति और अधिकारी आंगनबाड़ियों को गोद लेकर डेवलप कर रहे हैं. हरदा कलेक्टर ने इस आंगनबाड़ी को गोद लिया था. पूरे जिले में इसे मॉडल के रूप में दिखाकर बाकी आंगनवाडियों को भी विकसित किया जाएगा.

ये भी पढ़ें- MP: जबलपुर हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा- आरटीआई की सुविधा ऑनलाइन क्यों नहीं…?

कलेक्टर ने ये कहा
केलझिरी में कलेक्टर ऋषि गर्ग और जिला पंचायत सीईओ रोहित सिसोनिया ने आंगनवाड़ी के बच्चों और ग्रामीणों से बात की और उनसे व्यस्थाओं के बारे में जाना. कलेक्टर ऋषि गर्ग ने बताया की वनग्राम केलझिरी में आंगनवाड़ी में ऐसी सुविधाएं दी गई हैं, जिससे बच्चों का मन लगे और सभी को शासन की योजनाओं का लाभ मिले. उन्होंने कहा आंगनवाड़ी एक प्ले स्कूल की तरह है. स्कूल जाने के पहले बच्चों को बेसिक ज्ञान मिले जैसे खाना खाने के पहले हाथ धोना, अक्षर ज्ञान जिससे वे स्कूल में जाने के लिए तैयार हों.

Tags: Harda news, Madhya Pradesh government, Madhya pradesh latest news, Madhya pradesh news, Madhya Pradesh News Updates, Nursery School

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें