डबल मर्डरः हरदा में दो भाईयों की हत्या, 20 घंटे बाद अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए परिजन
Harda News in Hindi

डबल मर्डरः हरदा में दो भाईयों की हत्या, 20 घंटे बाद अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए परिजन
मध्य प्रदेश के हरदा जिले में दो भाईयों की अपहरण के बाद हत्या के मामले में करीब 20 घंटे तक चले विरोध प्रदर्शन के बाद परिजन उनका शव लेने के लिए राजी हुए. परिजन पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए टीआई को बर्खास्त और एसपी को सस्पेंड करने की मांग कर रहे थे.

मध्य प्रदेश के हरदा जिले में दो भाईयों की अपहरण के बाद हत्या के मामले में करीब 20 घंटे तक चले विरोध प्रदर्शन के बाद परिजन उनका शव लेने के लिए राजी हुए. परिजन पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए टीआई को बर्खास्त और एसपी को सस्पेंड करने की मांग कर रहे थे.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के हरदा जिले में दो भाईयों की अपहरण के बाद हत्या के मामले में करीब 20 घंटे तक चले विरोध प्रदर्शन के बाद परिजन उनका शव लेने के लिए राजी हुए. परिजन पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए टीआई को बर्खास्त और एसपी को सस्पेंड करने की मांग कर रहे थे.

चार दिन से लापता हरदा के होटल व्यवसायी सुधीर अग्रवाल और भोपाल में रहने वाले उनके भाई नवीन अग्रवाल की जमीन विवाद में अपहरण के बाद हत्या कर दी गई थी. गुरुवार सुबह होशंगाबाद जिले में नहर किनारे दोनों भाईयों के शव मिले थे.

आरोपियों ने दोनों भाईयों की हत्या करने के बाद पहचान छिपाने के लिए शवों को जला दिया था.



शव मिलने के बाद से ही परिजनों का पुलिस के खिलाफ आक्रोश फूट पड़ा था. परिजनों के अलावा हरदा के सैकड़ों व्यापारियों और स्थानीय लोगों ने थाने का घेराव कर दिया. परिजन एसपी प्रेमबाबू शर्मा को सस्पेंड और सिराली टीआई वीरेंद्र सिंह घुरैया को बर्खास्त करने की मांग कर रहे थे.
परिजन रात भर पुलिस थाने के बाहर अपना विरोध दर्ज कराते रहे. परिजन इस कदर आक्रोशित थे कि आईजी सतीश सक्सेना और एसपी प्रेमबाबू शर्मा करीब आठ घंटे तक अपने ऑफिस से बाहर नहीं निकल सके.

शुक्रवार सुबह परिजन किसी तरह दोनों भाईयों के अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए. जिला अस्पताल से दोनों भाईयों के शव लेने के बाद चांडक चौराहे से शवयात्रा शुरू हुई, जिसमें सैकड़ों लोग शामिल हुए.

क्या है पूरा मामला

मध्य प्रदेश के हरदा जिले से बीते 4 दिनों से लापता दो भाइयों की हत्या कर दी गई. होशंगाबाद जिले में नहर किनारे गुरुवार को दोनों के शव बरामद किए गए. वहीं पुलिस पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुए भीड़ ने थाने और पुलिस के वाहनों पर पथराव किया.

पुलिस के मुताबिक, अधिवक्ता नवीन अग्रवाल और सुधीर अग्रवाल का कुछ लोगों से जमीन संबंधी विवाद था. दोनों भाई गोहनपुर गांव से सोमवार की दोपहर से लापता थे.

गुरुवार की सुबह होशंगाबाद जिले में उनके शव मिले. दोनों के शव हरदा पहुंचने पर भीड़ का गुस्सा भड़क गया और उन्होंने पुलिस थाने के अलावा वाहनों पर पथराव किया.

हरदा के पुलिस अधीक्षक प्रेम बाबू शर्मा ने बताया कि अग्रवाल बंधुओं की हत्या के मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है, वहीं उनके अन्य साथियों की तलाश की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज