Cyber Crime : लड़कियों के नाम से फर्ज़ी अकाउंट, खूबसूरत तस्वीरें और दिलकश बातें, ऐसे ठगते ये शातिर

आरोपियों के 35 बैंक खाते हैं जिसमें ये पैसा जमा करवाते थे

दोनों ठगों (thugs) ने सुनीता विलियम्स और सुनीता कपूर नाम से चैटिंग की. दोनों ने अपने आप को फॉरेनर बताया था. व्हाट्सअप डीपी और फेसबुक पर खूबसूरत लड़की का फोटो (photo) लगाया.

  • Share this:
हरदा. हरदा पुलिस ने ऑनलाइन ठगी (online) करने वाले जिन दो विदेशी ठगों (thug) को दिल्ली (delhi) से पकड़ा है, उनके शातिराना तरीके अब पूछताछ में पता लग रहे हैं. नाइजीरिया के रहने दोनों युवक सोशल मीडिया (social media) पर लड़कियों के नाम से फर्जी अकाउंट बनाकर चैटिंग करते थे. वो अपनी बातों में लड़कों को फंसा कर फिर उन्हें ठग लेते थे. उनके दर्जनों बैंक एकाउंट हैं जिनमें ये पैसा ट्रांसफर करवाते थे. इन शातिरों का पता लगाना और कोरोना संक्रमण (corona infection) के दौर में दिल्ली जाकर इन्हें पकड़ना आसान नहीं था.

30 मई को हरदा सिविल लाइन थाने में ग्राम कड़ोला के रहने वाले एक युवक आनंद जाट ने शिकायत दर्ज करायी थी.इसमें कहा गया कि अज्ञात व्यक्तियों ने उसके साथ ऑनलाइन ठगी कर 10 लाख रुपए जमा करवा लिए. पुलिस की टीम मामले में तफ्तीश करते हुए दिल्ली पहुंची. दिल्ली सुराग हाथ लगे और फिर बैंक एटीएम के फुटेज के आधार पर दोनों आरोपियों तक पुलिस पहुंच गयी.

10 लाख की ठगी
हरदा के सिविल लाइन थाने में आईटी एक्ट और धोखाधड़ी की धाराओं में दर्ज मामले में पुलिस ने दो विदेशी आरोपियों को गिरफ्तार किया था. नाइजीरिया के रहने वाले चीजीको प्रॉमिस और उचेना इमन्युंल नाम के दोनों आरोपियों ने हरदा के ग्राम कड़ोला के रहने वाले युवक आनंद जाट के साथ 10 लाख रुपए की ऑनलाइन ठगी की थी. दोनों आरोपी लड़कियों के नाम से नकली फेसबुक अकाउंट बनाकर चैटिंग करके शिकार को फंसाते थे. इन लोगों ने सुनीता विलियम्स और सुनीता कपूर नाम से आनंद जाट से चैटिंग की. दोनों ने अपने आप को फॉरेनर बताया था. व्हाट्सअप डीपी और फेसबुक पर खूबसूरत लड़की का फोटो लगाया.

मैं तुमसे मिलने इंडिया आयी हूं...
एक दिन आनंद जाट के पास सुनीता विलियम्स का एक मैसेज आया कि मैं सिर्फ तुमसे मिलने भारत आ रही थी. लेकिन एयरपोर्ट पर फंस गयी हूं. शातिर ठगों ने आरबीआई का एक फर्जी अकाउंट बनाकर उसमें दो लाख पौंड जमा करने के लिए कहा. आनंद ने भेज गए लिंक पर जाकर अकाउंट्स में पैसा भेज दिया. जब आनंद ने अपने बैंक खाते का स्टेटमेन्ट देखा तब उसे ठगी का पता चला. लेकिन तब तक वह 9 लाख से ज्यादा रुपए गंवा चुका था.

नामी साइट से डाउनलोड करते थे फोटो
दोनों विदेशी ठग 2015 से दिल्ली में रह रहे हैं. चीजीको प्रॉमिस रायपुर खुर्द विलेज दिल्ली और उचेना इमन्युंल मैदान गढ़ी विलेज नई दिल्ली में रह रहा था. हरदा के एसपी मनीष अग्रवाल ने पूरे मामले का खुलासा कर बताया कि आरोपी शिकार को फ़ंसाने के लिए शादी डॉट कॉम और जीवन साथी डॉट कॉम जैसी साइट से खूबसूरत लड़कियों के फोटो डाउनलोड कर अपने फेसबुक और व्हाट्सअप पर लगाते थे.आरोपी उन मोबाइल सिम का उपयोग करते थे जो डेड हो जाती थीं,ताकि कोई भी व्यक्ति उनके पते तक नहीं पहुंच सके.

18 दिन की मेहनत के बाद सुराग
आरोपियों तक पहुंचना आसान नहीं था.साइबर सेल की मदद से उन अकाउंट नंबरों को खंगाला गया जिनमें रुपए जमा हुए थे. मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली गयी. पुलिस को यह पता चला कि सभी बैंक खाते दिल्ली के हैं. 2 जुलाई को हरदा से पांच सदस्यीय टीम दिल्ली रवाना हुई. अनजान आरोपी और दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बीच सुराग मिलना पुलिस के लिए अँधेरे में तीर चलाने जैसा था. पुलिस ने संबंधित बैंको में जाकर पता किया तो 35 और बैंक खाते निकले जिसमे ठगी का रुपया जमा होता था. इस बीच पुलिस को इंडियन ओवरसीज बैंक के खाते में रुपए जमा होने की सूचना मिली और संबंधित कोड के आधार और एटीएम से रुपया निकलने की बात पता चली. पुलिस ने कोड के आधार पर मिले समय से बैंक के एटीएम फुटेज चैक किए. उसमें दो विदेशी युवक दिखाई दिए. पुलिस ने अन्य खातों के एटीएम फुटेज चैक किए. उसमें भी यही दो युवक पैसे निकालते दिखे.पुलिस ने घेराबंदी की और फिर इन दोनों को धरदबोचा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.