एमपी: हरदा डबल मर्डर केस में एसपी प्रेमबाबू शर्मा पर गिरी गाज, आदित्य प्रताप सिंह को सौंपी कमान
Harda News in Hindi

एमपी: हरदा डबल मर्डर केस में एसपी प्रेमबाबू शर्मा पर गिरी गाज, आदित्य प्रताप सिंह को सौंपी कमान
होटल व्यवसायी सुधीर अग्रवाल उनके वकील भाई नवीन अग्रवाल की अपहरण के बाद हत्या के मामले में एसपी प्रेमबाबू शर्मा पर गाज गिरी है. राज्य सरकार ने प्रेमबाबू शर्मा को एसपी पद से हटाते हुए पुलिस मुख्यालय में सहायक पुलिस महानिरीक्षक बनाया है.

होटल व्यवसायी सुधीर अग्रवाल उनके वकील भाई नवीन अग्रवाल की अपहरण के बाद हत्या के मामले में एसपी प्रेमबाबू शर्मा पर गाज गिरी है. राज्य सरकार ने प्रेमबाबू शर्मा को एसपी पद से हटाते हुए पुलिस मुख्यालय में सहायक पुलिस महानिरीक्षक बनाया है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के हरदा जिले में होटल व्यवसायी सुधीर अग्रवाल उनके वकील भाई नवीन अग्रवाल की अपहरण के बाद हत्या के मामले में एसपी प्रेमबाबू शर्मा पर गाज गिरी है. राज्य सरकार ने प्रेमबाबू शर्मा को एसपी पद से हटाते हुए पुलिस मुख्यालय में सहायक पुलिस महानिरीक्षक बनाया है.

प्रेमबाबू शर्मा की जगह युवा आईपीएस अफसर आदित्य प्रताप सिंह हरदा जिले के नए पुलिस कप्तान होंगे. आदित्य प्रताप सिंह वर्तमान में ग्वालियर में 13वीं बटालियन में पदस्थ हैं.

दरअसल, दोहरे हत्याकांड के बाद सरकार पर परिजनों, व्यापारियों और वकीलों का चौतरफा दबाव था. प्रदेश के कई जिलों में वकील इसके विरोध में हड़ताल भी चले गए थे. वहीं, परिजन करीब 20 घंटे बाद अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए थे.



बताया जा रहा है कि शुक्रवार दोपहर को गृहमंत्री बाबूलाल गौर और डीजीपी सुरेंद्र सिंह के बीच भी इस मुद्दे को लेकर चर्चा हुई थी. इसके बाद से ही हरदा एसपी की रवानगी तय मानी जा रही थी.
गौरतलब है कि चार दिन से लापता हरदा के होटल व्यवसायी सुधीर अग्रवाल और भोपाल में रहने वाले उनके भाई नवीन अग्रवाल की जमीन विवाद में अपहरण के बाद हत्या कर दी गई थी. गुरुवार सुबह होशंगाबाद जिले में नहर किनारे दोनों भाईयों के शव मिले थे.

आरोपियों ने दोनों भाईयों की हत्या करने के बाद पहचान छिपाने के लिए शवों को जला दिया था.

शव मिलने के बाद से ही परिजनों का पुलिस के खिलाफ आक्रोश फूट पड़ा था. परिजनों के अलावा हरदा के सैकड़ों व्यापारियों और स्थानीय लोगों ने थाने का घेराव कर दिया. परिजन एसपी प्रेमबाबू शर्मा को सस्पेंड और सिराली टीआई वीरेंद्र सिंह घुरैया को बर्खास्त करने की मांग कर रहे थे.

परिजन रात भर पुलिस थाने के बाहर अपना विरोध दर्ज कराते रहे. परिजन इस कदर आक्रोशित थे कि आईजी सतीश सक्सेना और एसपी प्रेमबाबू शर्मा करीब आठ घंटे तक अपने ऑफिस से बाहर नहीं निकल सके.

शुक्रवार सुबह परिजन किसी तरह दोनों भाईयों के अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए. जिला अस्पताल से दोनों भाईयों के शव लेने के बाद चांडक चौराहे से शवयात्रा शुरू हुई, जिसमें सैकड़ों लोग शामिल हुए.

जानिए, क्या है पूरा मामला ? 

मध्य प्रदेश के हरदा जिले से बीते 4 दिनों से लापता दो भाईयों की हत्या कर दी गई. होशंगाबाद जिले में नहर किनारे गुरुवार को दोनों के शव बरामद किए गए. वहीं पुलिस पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुए भीड़ ने थाने और पुलिस के वाहनों पर पथराव किया.

पुलिस के मुताबिक, अधिवक्ता नवीन अग्रवाल और सुधीर अग्रवाल का कुछ लोगों से जमीन संबंधी विवाद था. दोनों भाई गोहनपुर गांव से सोमवार की दोपहर से लापता थे.

गुरुवार की सुबह होशंगाबाद जिले में उनके शव मिले. दोनों के शव हरदा पहुंचने पर भीड़ का गुस्सा भड़क गया और उन्होंने पुलिस थाने के अलावा वाहनों पर पथराव किया.

हरदा के पुलिस अधीक्षक प्रेम बाबू शर्मा ने बताया कि अग्रवाल बंधुओं की हत्या के मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है, वहीं उनके अन्य साथियों की तलाश की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading