हरदा के बैंकों में कैश की किल्लत से परेशान हुए लोग

प्रभारी लीड बैंक मैनेजर हरदा,आर के सरजरे
प्रभारी लीड बैंक मैनेजर हरदा,आर के सरजरे

हरदा जिले के बैंकों में नगदी की किल्लत का असर दिख रहा है. बैंकों से उपभोक्ताओं को मांग के अनुसार नगद भुगतान नहीं दिया जा रहा है.नगद पैसा नहीं मिलने पर शादी ब्याह का सीजन होने से लोगो की परेशानी बढ़ गयी है.

  • Share this:
हरदा जिले के बैंकों में नगदी की किल्लत का असर दिख रहा है. बैंकों से उपभोक्ताओं को मांग के अनुसार नगद भुगतान नहीं दिया जा रहा है.नगद पैसा नहीं मिलने पर शादी ब्याह का सीजन होने से लोगो की परेशानी बढ़ गयी है.हरदा शहर में एसबीआई सहित अन्य शासकीय बैंको के 27 और प्राइवेट बैंको के 18 एटीएम है लेकिन अधिकाशं एटीएम से नगदी नहीं निकल रही है.उधर सहकारी बैंक में प्रतिदिन किसानों को भुगतान के लिए 5 करोड़ रूपये नगद की जरुरत है लेकिन उन्हें लीड बैंक से सिर्फ 50 लाख से 1 करोड़ रूपये ही मिल रहे हैं.जिले में सभी बैंको में प्रतिदिन 8 से 10 करोड़ रूपये नगद की जरुरत है.वहीं लीड बैंक के अधिकारी बड़े नोट और केश की किल्लत के लिए रिजर्व बैंक के
अधिकारियों से सम्पर्क करने की बात कह रहे है.

हरदा जिले के सहकारी बैंक में आ रहे किसान नगद भुगतान की समस्या से परेशान है.शादी का सीजन और पुराने कर्ज चुकाने के लिए किसानों को नगद रुपयों की आवश्यकता है. लेकिन बैंक से आधा भुगतान भी नगद नहीं दिया जा रहा.हरदा जिले में गेहूं खरीदी का भुगतान बैंक खातों में आने के बाद किसानों की बैंक में भीड़ बढ़ गई है.सहकारी बैंक में तीन दिन से आ रहे एक किसान ने बताया की बहन की शादी के लिए डेढ़ लाख रूपये खाते से निकालना है लेकिन केश की कमी के कारण प्रबंधन आधा भुगतान ही नगद कर रहा है.एसबीआई बैंक की मुख्य शाखा एटीएम से नगदी नहीं निकलने पर परेशान एक युवा ने बताया की उन्हें कालेज की फ़ीस भरना है लेकिन रुपये नहीं निकल रहे है. सहकारी बैंक के प्रबंधक ने बताया की केश का संकट है लेकिन किसानों के लिए निजी बैंको से नोट मंगवाकर भुगतान करने का प्रयास किया जा रहा है.







अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज