लाइव टीवी

127 साल पुराने इस स्कूल के स्‍टूडेंट्स आज भी पहनते हैं गांधी टोपी, जानिए क्‍यों?
Harda News in Hindi

Praveen Singh Tanwar | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 1, 2019, 11:42 PM IST
127 साल पुराने इस स्कूल के स्‍टूडेंट्स आज भी पहनते हैं गांधी टोपी, जानिए क्‍यों?
देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है.

हरदा के सरकारी स्कूल (Government School) में 1892 से लेकर आज तक पढ़ने वाले सभी छात्रों का रिकॉर्ड सुरक्षित है. स्कूल में कक्षा 1 से 8 तक कक्षाएं संचालित होती हैं, जिसमें लगभग 157 छात्र पढ़ते हैं और सभी गांधी टोपी (Gandhi Topi) पहनकर आते हैं.

  • Share this:
हरदा. एक ओर पूरे देश में महात्‍मा गांधी (Mahatma Gandhi) के विचारों और आदर्शों को अपनाने की होड़ मची हुई है, तो वहीं दूसरी ओर हरदा जिले (Harda District) के छिपावड में सरकारी स्कूल (Government School) के बच्चे गांधी के विचारों पर चल रहे हैं. 127 साल पुराने इस स्कूल में पढ़ने वाले छात्र आज भी गांधी टोपी (Gandhi Topi) पहनते हैं. स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों का कहना है कि गांधी टोपी पहनने से गर्व महसूस होता है और इससे उनके आदर्शों पर चलने की प्रेरणा भी मिलती है. पूरे संभाग में इस स्कूल को गांधी टोपी वाले स्कूल के नाम से पहचाना जाता है.

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती
पूरा देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है. गांधी के विचारों और आदर्शों का पाठ पढ़ने के लिए हर वर्ग को प्रेरित किया जा रहा है ऐसे दौर में हरदा जिले के एक शासकीय स्कूल में पढ़ने वाले छोटे बच्चों का गांधी के विचारों की बात कराना एक सुखद अनुभूति कराता है. हम बात कर रहे है जिले के छिपावड में स्थित शासकीय उत्तर बुनियादी प्राथमिक माध्यमिक शाला की, जंहा स्कूली बच्चे आज भी बापू के आदर्शो पर चल रहे हैं. इस स्कूल की स्थापना 1 जनवरी 1892 को हुई थी. स्वतंत्रता संग्राम के समय से स्कूल में गांधी टोपी पहनने की शुरुआत आज स्कूल में परम्परा का रूप ले चुकी है. यकीनन यहां पढ़ने वाले छात्र स्वेच्छा से गांधी टोपी पहनकर आते हैं. स्कूल में पढ़ने वाले सभी छात्र स्कूल में गांधी टोपी पहनकर पढ़ाई करते हैं. स्कूल में कक्षा 8 में पढ़ने वाले छात्र राजकुमार ने कहा कि उनका स्कूल सारे स्कूलों से अलग है, क्‍योंकि यहां आज भी बच्चे गांधी टोपी पहनते हैं. गांधी टोपी पहनने से उन्हें गर्व महसूस होता है और उनके आदर्शों पर चलने की प्रेरणा मिलती है. साथ ही छात्र ने कहा कि जब वे स्कूल आते हैं तो बाजार में लोग उनके सिर पर टोपी देखकर गांधी टोपी वाले स्कूल का छात्र कहते हैं.

बापू के आदर्शों पर चलने की मिलती है सीख

भले ही आजादी के बाद देश के राजनेताओं ने गांधीजी के सत्य के मार्ग की बात भुला दी हो, लेकिन हरदा के इस टोपी वाले स्कूल में छात्र बापू के आदर्शों बात करते हैं. सर्वधर्म समभाव की भावना वाले इस स्कूल में पढ़ने वाले कक्षा 5 के छात्र राजा धुर्वे ने बताया कि गांधी टोपी पहनने से उन्हें मन की शांति मिलती है.

स्कूल के आगे क्यों जुड़ा बुनियादी शब्द
आजादी के पहले इस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चो को पढ़ाई के साथ जीवन यापन के लिए बुनियादी शिक्षा देने की शुरुआत हुई थी. उस समय यंहा छात्रों को चरखा चलाना सिखाया जाता था जिससे वे आत्मनिर्भर बने. आज भले ही यह चरखा चलाने की बात पुरानी हो गई हो लेकिन पुराने समय में स्कूल में बच्चे चरखा चलाना सीखते थे. इसलिए स्कूल के आगे बुनियादी नाम दिया गया.127 वर्ष पुराना रिकॉर्ड आज भी है सुरक्षित
संभाग का सबसे पुराना यह स्कूल और भी कई विशेषताएं अपने में समेटे हुए है. स्कूल में 1892 से लेकर आज तक पढ़ने वाले सभी छात्रों का रिकॉर्ड सुरक्षित है. स्कूल में कक्षा 1 से 8 तक कक्षाएं संचालित होती हैं, जिसमें लगभग 157 छात्र पढ़ते है और सभी गांधी टोपी पहनकर आते हैं. स्कूल में पढ़ाने वाली शिक्षिका पूर्णिमा पराशर ने बताया कि 1892 से गांधी टोपी स्कूली बच्चे पहन रहे हैं. यह स्कूल पूरे क्षेत्र में गांधी टोपी वाले स्कूल के नाम से मशहूर है.

रिटायर हो चुके पूर्व शिक्षक आज भी पहनते हैं गांधी टोपी
स्कूल में तीस वर्षों तक बच्चों को पढ़ाकर रिटायर हुए बुजुर्ग शिक्षक मोती सिंह महात्मा गांधी को अपना आदर्श मानते हैं. यही वजह है कि भले ही वे रिटायर हो गए हों, लेकिन आज भी गांधी टोपी पहनते हैं. हालांकि वह वर्तमान शिक्षा प्रणाली से दुखी नजर आते हैं. उनका कहना है कि स्कूलों में बुनियादी शिक्षा जरूरी है. पहले स्कूलों में प्राइमरी स्तर से ही पढ़ने के साथ-साथ बागवानी और छोटी- छोटी वस्तुए बनाना सिखाया जाता था, लेकिन वर्तमान में बुनियादी शिक्षा को किताबो में लाकर छोड़ दिया गया है.

ये भी पढ़ें-

दीवाली से पहले मध्‍य प्रदेश में फूटेगा 'महंगाई बम', ये है वजह

हनी ट्रैप मामले को लेकर गोपाल भार्गव का बड़ा बयान, बोले-मंत्री-अधिकारियों के बंगले पर CM लगवाएं CCTV कैमरे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 1, 2019, 11:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर