लाइव टीवी

हरदा के छोटे से गांव की ये 'कराते गर्ल' लड़कियों के लिए बनी प्रेरणा

Praveen Singh Tanwar | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 21, 2020, 9:16 AM IST
हरदा के छोटे से गांव की ये 'कराते गर्ल' लड़कियों के लिए बनी प्रेरणा
लड़कियों को कराटे सिखाती ब्लैक बेल्ट मना मंडेलकर

कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय कराते प्रतियोगिताओं में पदक जीत चुकी हरदा (Harda) की बेटी मना मंडेलकर लड़कियों को आत्मनिर्भर (self-sufficient) बनाने के लिए गांवों में निःशुल्क कराते क्लास चलाती हैं.

  • Share this:
हरदा. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के हरदा (Harda) जिले में ग्राम आलमपुर की रहने वाली मना मंडेलकर आज तमाम लड़कियों के लिए प्रेरणा (Inspiration) बन गई हैं. खेतों में काम करने वाले मजदूर परिवार की बेटी मना को आज जिले वासी कराते गर्ल (Karate girl) के नाम से जानते हैं. कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय कराते प्रतियोगिताओं में पदक जीत चुकी मना लड़कियों को आत्मनिर्भर (self-sufficient) बनाने के लिए गांवों में निःशुल्क कराते क्लास चलाती हैं. मना अब तक 30 हजार से ज्यादा लड़कियों और युवतियों को आत्मरक्षा के लिए कराते के गुर सीखा चुकी हैं. मना जिले में 40 स्थानों पर ट्रेनिंग सेंटर चला रही हैं.

एशियन गेम्स प्रतियोगिता 2018 में मना ने जीता था कांस्य पदक

हरदा जिले के ग्राम आलमपुर में रहने वाली कराते खिलाड़ी मना मंडेलकर ने नवंबर 2018 में आयोजित एशियन गेम्स प्रतियोगिता में कराते में कांस्य पदक जीता था. वहीं उससे पहले मई 2018 में आयोजित कराते की राष्ट्रिय प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक भी जीत चुकी हैं. इसके अलावा फरवरी 2018 में भोपाल में आयोजित महिला सशक्तिकरण के लिए मध्य प्रदेश शासन की और से मना को सम्मानित भी किया जा चुका है. मना मंडलेकर का चयन यूनिसेफ ने बालिका सशक्तिकरण के लिए किया था, जिसमे पूरे देश से सिर्फ 5 युवतियों का चयन किया गया था. कार्यक्रम में बतौर अतिथि मौजूद मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने भी मना की कहानी सुन उसकी तारीफ करते हुए अपनी 10 नंबर लिखी टी-शर्ट उपहार में दी थी. मना मंडलेकर कराते में फर्स्ट ब्लैक बेल्ट भी हैं.

कम उम्र में ही पिता ने कर दी सगाई

सात भाई-बहनों के परिवार में रहने वाली मना के परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी. आगे पढ़ने के लिए जब दूसरे गांव में जाने की बात आई, तो मना के पिता ने इंकार कर दिया. स्कूल जाते समय लड़के मना को परेशान करते थे बस इसी बात ने मना को अंदर से ताकत दी और उसने कराते सीखकर उन्हें सड़क पर सबक सिखाया. मना ने बताया कि उसके पिता ने उसकी कम उम्र में सगाई कर दी थी, जिसका उसने विरोध किया और कॉलेज तक पढ़ाई पूरी की.

कराते गर्ल मना का कहना है कि आज बदलते दौर में लड़कियों को आत्मनिर्भरता के लिए आत्मरक्षा जरूरी है. इसके लिए लड़कियों को आगे आना चाहिए. मना ने कहा कि वे सभी माता-पिता से कहना चाहती हैं कि बेटियों को आगे बढ़ाए उन्हें सपोर्ट करें, ताकि उनमें आत्मविश्वास पैदा हो.

ये भी पढ़ें:- आरोपी ने परिवार को फंसाने के लिए सांसद प्रज्ञा ठाकुर को भेजा धमकी भरा पत्रये भी पढ़ें:- भोपाल में सड़क हादसों पर लगा ब्रेक : ट्रैफिक पुलिस के प्लान ने किया ये कमाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2020, 8:01 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर