अपना शहर चुनें

States

सरकारी स्कूल के शिक्षक ने किया कुछ ऐसा अब बच्चे विज्ञान में लेने लगे रुचि

सरकारी स्कूल के  शिक्षक ने पेश की  मिसाल, खुद के लाखों रुपए खर्च कर बना दी खगोल विज्ञान की आधुनिक प्रयोगशाला
सरकारी स्कूल के शिक्षक ने पेश की मिसाल, खुद के लाखों रुपए खर्च कर बना दी खगोल विज्ञान की आधुनिक प्रयोगशाला

शिक्षा के बढ़ते व्यवसायिकरण और सरकारी शिक्षकों के समर्पण पर उठते सवाल के बीच एक शिक्षक ने मिसाल पेश की है. होशंगाबाद जिले के कसेला सरकारी स्कूल के एक शिक्षक ने छात्रों के लिए वो कर दिखाया है जिसे देखकर दूसरों को प्रेरणा मिल रही है.

  • Share this:
शिक्षा के बढ़ते व्यवसायिकरण और सरकारी शिक्षकों के समर्पण पर उठते सवाल के बीच एक शिक्षक ने मिसाल पेश की है. होशंगाबाद जिले के कसेला सरकारी स्कूल के एक शिक्षक ने छात्रों के लिए वो कर दिखाया है जिसे देखकर दूसरों को प्रेरणा मिल रही है. आज शिक्षक और छात्र-छात्राओं का रिश्ता पूरी तरह व्यवसायिक हो गया है. लेकिन होशंगाबाद जिले में केसला के सरकारी स्कूल के शिक्षक राजेश पारासर ने मिसाल कायम करते हुए खुद के करीब 90 हजार रुपये खर्च कर खगोल विज्ञान की आधुनिक प्रयोगशाला और विज्ञान की कक्षा बनाई है.

सरकारी शिक्षक, Government teacher
शिक्षक राजेश पारासर अपनी वेतन से बनाई प्रयोगशाला में छात्र-छात्राओं को विज्ञान के प्रयोग कराते हुए


विज्ञान में बढ़ी छात्र-छात्राओं की रुचि



आदिवासी छात्र-छात्राएं विज्ञान को अच्छे से समझ सकें इसके लिए जिले के आदिवासी ब्लॉक केसला के सरकारी उत्कृष्ट स्कूल में विज्ञान विषय को प्रयोगों के आधार पर समझाने के लिए शिक्षक राजेश पारासर ने अपनें पैसें से प्रयोगशाला बनाई  है जिससे बच्चों का विज्ञान के प्रति मन से डर को हट सकें. शिक्षक राजेश पारासर की इस सराहनीय पहल से स्कूल के बच्चे भी बहुत खुश हैं.  राजेश परासर की इस पहल से इस इलाके के छात्र-छात्राओं में विज्ञान को लेकर रुचि बढ़ी है.अब इस स्कूल का हर एक स्टूडेंट 11वीं कक्षा में पहुंचकर विज्ञान विषय लेना चाहता है.
सरकारी शिक्षक, Government teacher
शिक्षक राजेश पारासर अपनी वेतन से बनाई प्रयोगशाला को महान वैज्ञानिक सी वी रमन को समर्पित किया है.


प्रयोगशाला पर खर्च किए 90 हज़ार

राजेश पवार ने धीरे-धीरे अपने वेतन के पैसे में से कटौती कर 90 हज़ार रुपये इस प्रयोगशाला में लगा दिए. इस एक शिक्षक की इस एक कोशिश ने न सिर्फ पढ़ाने का तरीका बदला है. बल्कि विज्ञान के प्रति छात्र-छात्राओं का नज़रिया भी बदल दिया है.  इनकी इस पहल की जितनी तारीफ की जाए वो कम है.

ये भी पढ़ें-  लूट के आरोपी ने लगाए नारे, 'जुर्म करना पाप है, पुलिस हमारी बाप है'

ये भी पढ़ें- अस्पताल पर लटका था ताला, महिला ने सड़क पर दिया बच्चे को जन्म
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज