Home /News /madhya-pradesh /

shocking trainee captain nirmal shivraj missing after meeting with wife ndrf found car search for body is on mpns

MP: पत्नी से मिलने के बाद तीन दिन से लापता थे ट्रेनी कैप्टन, झाड़ियों में मिली लाश

Narmadapuram News: एमपी के पचमढ़ी में पदस्थ ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवराजन का शव माखन नगर के ग्राम बछवाड़ा के समीप झाड़ियों में फंसा मिला. वह नाले के बहाव का सही आंकलन नहीं कर सके.

Narmadapuram News: एमपी के पचमढ़ी में पदस्थ ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवराजन का शव माखन नगर के ग्राम बछवाड़ा के समीप झाड़ियों में फंसा मिला. वह नाले के बहाव का सही आंकलन नहीं कर सके.

Madhya Pradesh News: एमपी के हिल स्टेशन पचमढ़ी में पदस्थ आर्मी के ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवराजन का शव माखन नगर के ग्राम बछवाड़ा के पास झाड़ियों में फंसा मिला है. एसपी गुरकरन सिंह ने बताया कि कैप्टन निर्मल नाले के बहाव का सही आकलन नहीं कर सके. बताया जाता है कि लेफ्टिनेंट निर्मल 15 अगस्त की रात पत्नी से मिलकर जबलपुर से पचमढ़ी लौट रहे थे. उसके बाद उनकी लोकेशन नहीं मिल रही थी . उनकी आखिरी लोकेशन बाबई के पास मिली है. रेस्क्यू टीम को उनकी गाड़ी एक नाले से मिली है. बता दें, कैप्टन निर्मल की शादी तीन महीने पहले ही हुई है.

अधिक पढ़ें ...

नर्मदापुरम/जबलपुर. एमपी के हिल स्टेशन पचमढ़ी में पदस्थ आर्मी के ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवराजन 3 दिन से लापता थे. उनका शव माखन नगर के ग्राम बछवाड़ा के समीप झाड़ियों में फंसा मिला है. पुलिस ने पुष्टि कर दी है. एसपी गुरकरन सिंह ने बताया कि कैप्टन निर्मल नाले के बहाव का सही आकलन नहीं कर सके. यह हादसा दुर्भाग्यपूर्ण है. ट्रेनी कैप्टन निर्मल 15 अगस्त को पत्नी से मिलकर जबलपुर से पचमढ़ी लौट रहे थे. प्रशासनिक अधिकारियों ने रेस्क्यू ऑपरेशन के निर्देश दिए थे . इसके बाद होमगार्ड के जवान और एनडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया. रेस्क्यू टीम को उनकी गाड़ी पहले ही मिल गई थी.

जानकारी के मुताबिक, उनकी लास्ट लोकेशन बाबई थी. उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट पचमढ़ी आर्मी एजुकेशन सेंटर के कर्नल राजेश पाटिल ने पचमढ़ी थाने में की थी. उसके बाद तीन जिलों नर्मदापुरम, रासयेन, सीहोर और आर्मी एजुकेशन सेंटर का स्टाफ उनकी नर्मदा नदी में तलाश कर रहा था . बताया जा रहा है कि ट्रेनी कैप्टन निर्मल कर्नाटक के रहने वाले हैं. वे 13 अगस्त को जबलपुर में रह रहीं पत्नी लेफ्टिनेंट गोपीचंदा से मिलने गए थे. चूंकि, 16 अगस्त को सुबह उन्हें ड्यूटी जॉइन करनी थी, इसलिए भारी बारिश के बावजूद 15 अगस्त को वे कार से पचमढ़ी के लिए रवाना हुए.

पत्नी को बताया था रूट
16 अगस्त को जब वे ड्यूटी पर नहीं पहुंचे तो अधिकारियों ने कैप्टन की पत्नी लेफ्टिनेंट गोपीचंदा को कॉल किया. उन्होंने अधिकारियों को बताया कि पति 15 अगस्त को ही कार से दोपहर को पचमढ़ी के लिए रवाना हो गए थे. इसके बाद अधिकारी तनाव में आ गए और फिर पुलिस की मदद लेना ही उचित समझा. दूसरी ओर, पता चला कि कैप्टन ने आखिरी बार रात 8 बजे पत्नी को कॉल किया था. उन्होंने पत्नी को बताया था कि बाड़ी, बरेली, नसीराबाद मार्ग होते हुए पचमढ़ी जा रहे हैं, क्योंकि जबलपुर से बनखेड़ी, पिपरिया होते हुए पचमढ़ी पहुंचने वाला पुल भारी बारिश से टूट गया है. जानकारी के मुताबिक, कैप्टन की गाड़ी 15 अगस्त की शाम पौने आठ बजे रायसेन के बाडी के पास टोल पर देखी गई. उनकी गाड़ी सीसीटीवी फुटेज में स्पष्ट दिखाई दे रही है. रात 8 बजे उनके मोबाइल की आखिर लोकेशन बाबई में दिखाई दी.

Tags: Hoshangabad News, Mp news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर