होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /तवा डैम में जमा हो गई गाद...50 सालों में एक बार भी नहीं खुला स्लूज गेट, अब खर्च होंगे 1100 करोड़

तवा डैम में जमा हो गई गाद...50 सालों में एक बार भी नहीं खुला स्लूज गेट, अब खर्च होंगे 1100 करोड़

तवा डैम में जमा हो गई गाद.

तवा डैम में जमा हो गई गाद.

Narmadapuram Tawa Dam: तवा डैम में नीचे की ओर बनाया गया स्लूज गेट 50 साल में एक बार भी नहीं खोला गया. अधिकारियों की लाप ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: दुर्गेश सिंह राजपूत

नर्मदापुरम: मध्य प्रदेश के नर्मदापुरम में वर्ष 1974 में 172 करोड़ से तवा डैम बनाया गया था. डैम में जमा होने वाली गाद को निकालने के लिए अंडर स्लूज गेट भी बनाया गया था. जिसे खोलने पर तलहटी में जमा होने वाली मिट्टी और गाद बाहर निकल जाती है. लेकिन, सिंचाई विभाग की लापरवाही के कारण पिछले 50 सालों में इस गेट को एक बार भी नहीं खोला गया.

बांध की तलहटी में जमी गाद जो हर साल साफ होनी चाहिए थी स्लूज गेट नहीं खोले जाने से जमा होती चली गई. अब बांध में नीचे जमी गाद को निकालने के लिए 1100 करोड़ रुपये का खर्च आएगा. अधिकारियों की लापरवाही के कारण सरकार को अब करोड़ों खर्च करने पड़ेंगे. जाहिर है, इसका बोझ जनता पर भी आएगा.

अगले 15 साल में तवा डैम की 250 एमएसीएम गाद की सफाई के लिए टेंडर जारी कर दिया गया है. वहीं इस स्लूज गेट को हमेशा के लिए बंद करने की तैयारी चल रही है. विभाग द्वारा डाउनस्ट्रीम के चैनल को बंद करने के लिए प्रस्ताव बनया जा रहा है, क्योंकि बांध के लिए अधिकारी अब इसे अनुपयोगी बताने लगे हैं.

निकलने वाली रेत से होगी कमाई
तवा डैम की उम्र 120 साल और एमसीएम लाइव स्टोरेज की क्षमता 1944 लीटर है. 250 एमसीएम गाद 57.9 मीटर बांध की ऊंचाई में जमा है. ऐसे में दो हजार करोड़ लीटर पानी संग्रहण क्षमता में कमी हो गई है. 15 साल में हर साल 20 एमसीएम गाद ड्रेजिंग मशीन से निकालने का लक्ष्य है. तीन बार टेंडर कॉल में कोई भी आगे नहीं आया. गाद निकालने के लिए लगभग 1100 करोड़ रुपए का खर्च 15 सालों में आएगा. इस दौरान इससे निकलने वाली रेत से रॉयल्टी की अच्छी कमाई होगी और साथ ही मिट्टी से खाद बनेगी.

स्लूज गेट की अब उपयोगिता नहीं
जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री एके ताम्रकार ने बताया कि 1944 एमसीएम पानी का स्टोरेज है. स्लज गेट खोलने में फंसने का डर है. पहले भी ऐसा ही मोहनपुरा में हो चुका है, क्योंकि तब गेट बंद नहीं होने से बांध का पूरा पानी निकल जाने का डर है. वहीं कार्यपालन यंत्री (सिविल) नर्मदापुरम वीरेन्द्र कुमार जैन ने बताया कि स्लूज गेट के डाउन स्ट्रीम चैनल को चेक कराया गया था, पर वह गाद से बंद हो गया हैं. अब उसकी उपयोगिता नहीं है. उसे बंद करने का एस्टीमेट तैयार करवा रहे हैं.

Tags: Hoshangabad News, Mp news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें