इंदौर के चाचा नेहरू अस्पताल में बच्चों के लिए होंगे 200 बेड, जानिए मंत्री ने और क्या किया दावा

मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी में कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने की तैयारियां की जा रही हैं. (File)

मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी में कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने की तैयारियां की जा रही हैं. (File)

मध्य प्रदेश के मंत्री तुलसी सिलावट ने दावा किया है. सिलावट का कहना है कि इंदौर के चाचा नेहरू अस्पताल में बच्चों के लिए 200 बेड की व्यवस्था की गई है. प्रदेश की आर्थिक राजधानी कोरोना की तीसरी लहर से लड़की की तैयारी कर रही है.

  • Share this:

इंदौर. कोरोना वायरस की तीसरी लहर की आशंका से बच्चों को बचाने के लिए शासन-प्रशासन तैयारियों में जुटा हुआ है. इंदौर के चाचा नेहरू अस्पताल में कोविड पॉजिटिव बच्चों के लिए 200 बेड की व्यवस्था की जाएगी. इस अस्पताल में बच्चों की देख-रेख करने के लिए सीनियर डॉक्टरों की टीम भी तैनात की जाएगी.

इंदौर के प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि हम सभी कोरोना की तीसरी लहर को लेकर बच्चों के बारे में चिंतित हैं. इसे लेकर शहर के सभी चाइल्ड स्पेशलिस्ट के साथ बैठक की जाएगी. चाचा नेहरू अस्पताल में व्यवस्थाएं की गई हैं. यहां ऑक्सीजन भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होगी.

किसी तरह की समस्या नहीं होने देंगे- सिलावट

मंत्री सिलावट ने कहा कि अगर दवा व्यापारियों या फार्मा इंडस्ट्रीज को कोई दिक्कत होती तो मुख्यमंत्री से बात कर तत्काल समाधान निकाला जाएगा. उन्होंने बताया कि शहर में अब पर्याप्त ऑक्सीजन कंसंट्रेटर हैं. सभी संस्थाओं और समाजों के पास मिलाकर दस हजार से ज्यादा ऑक्सीनज कंसंट्रेटर मौजूद हैं. ऑक्सीजन सिलेंडर की भी कोई कमी नहीं है.
इंदौर के ये इलाके मानने को तैयार नहीं

शहर के दो इलाके सिंधी कॉलोनी और जेल रोड ऐसे हैं, जहां के लोगों ने प्रशासन का सिर दर्द बढ़ा दिया है. इन इलाकों में कोरोना गाइडलाइन का बिल्कुल भी पालन नहीं किया जा रहा. कलेक्टर और पूर्व महापौर ने इन इलाकों को दौरा किया और भविष्य में कड़ी कार्रवाई करने की बात कही. कलेक्टर ने कहा कि अब अगर यहां किसी ने कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं किया तो उसके खिलाफ सीधे धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी.

दरअसल, कलेक्टर मनीष सिंह, निगम आयुक्त और पूर्व महापौर सिंधी कॉलोनी के दौरे पर निकले थे. इन्होंने देखा कि यहां किसी भी तरह की कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा और कोरोना कर्फ्यू का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है. गलियों में बड़ी संख्या में सब्जी और फल के ठेले लगे हुए थे. इस पर कलेक्टर भड़क गए और व्यापारियों समझाइश दी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज