लाइव टीवी

खुशखबरी! कमलनाथ सरकार की पहल लाएगी रंग, अब 1 हेक्टेयर में 85 क्विंटल गेंहू की होगी पैदावार

Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 27, 2020, 10:49 PM IST
खुशखबरी! कमलनाथ सरकार की पहल लाएगी रंग, अब 1 हेक्टेयर में 85 क्विंटल गेंहू की होगी पैदावार
सीएम कमलनाथ के निर्देश पर तीन मंत्री गांव में पहुंचे.

कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) ने इंदौर जिले के गारी पिपल्या (Gari Pipalya) गांव को गोद लिया है, जोकि देश का सबसे ज्यादा उपज वाला गांव बनेगा. सरकार ने यहां 1 हेक्टेयर में 80 से 90 क्विंटल गेंहू उगाने का लक्ष्य रखा है.

  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर एक और छलांग लगाने की तैयारी कर रहा है. जिले का गारी पिपल्या (Gari Pipalya) देश का सबसे ज्यादा उपज वाला गांव बनेगा. राज्य की कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) ने इस गांव को गोद लिया है. किसानों को उत्पादन बढ़ाने के लिए सभी सुविधाएं मुहैया कराई गईं हैं. जबकि सीएम कमलनाथ के निर्देश पर सरकार के तीन मंत्री सचिन यादव, तुलसी सिलावट और बाला बच्चन (Bala Bachchan) ने खेतों में जाकर उगी गेहूं की फसल का जायजा भी लिया और किसानों की हौसलाअफजाई भी की.

गारी पिपल्या गांव की बनेगी नई पहचान
इंदौर से तकरीबन 15 किलोमीटर दूर सांवेर विधानसभा क्षेत्र का गारी पिपल्या गांव अपनी अलग पहचान बना रहा है. सरकार ने विशेष प्रयास कर गेहूं उत्पादन के क्षेत्र में इसे देश में अव्वल बनाने की तैयारी कर ली है. इसके लिए किसानों को कृषि बीज, खाद और तकनीकी सलाह देकर विशेष प्रयास किये गए हैं और अब इस गांव में बोई गेहूं की फसल लहलहा रही है.

खेतों में पहुंचे तीन मंत्री

सीएम कमलनाथ के निर्देश पर इंदौर जिले के प्रभारी और गृह मंत्री बाला बच्चन ने स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट और कृषि मंत्री सचिन यादव के साथ गारी पिपल्या गांव पहुंचे. उन्होंने खेतों में लहलहाती गेहूं की उन्नत खेती को देखा. जबकि खेतों में पहुंचे तीनों मंत्रियों ने किसानों का स्वागत किया और कहा कि यहां फसल देखकर लग रहा है कि गेहूं का बम्पर उत्पादन होगा और प्रदेश का ये गांव देश में गेहूं उत्पादन के क्षेत्र में नया रिकॉर्ड कायम करेगा. इस दौरान उन्होंने किसानों की समस्याओं को लेकर उनसे बातचीत की और हर संभव मदद का भरोसा दिलाया.

1 हेक्टेयर में 80 से 90 क्विटल  उत्पादन का है लक्ष्य
कृषि विभाग के सहायक संचालक गोपेश पाठक का कहना है कि हमारा लक्ष्य कि गारी पिपल्या गांव की औसत उत्पादकता पूरे मध्य प्रदेश में ही नहीं पूरे भारत में सर्वाधिक हो और इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए वैज्ञानिकों को गांव में ले जाकर किसानों को विशेष ट्रेनिंग दिलवाई गई. उनको बोने की तकनीकी, खाद डालने का तरीका बताया गया और उन्हें जो भी समस्या आती है कृषि विज्ञानिकों को ले जाकर हल कराई जाती है. किसानों को बीज, उर्वरक, कीटनाशक और खरपतवार नाशक उपलब्ध कराए गए हैं जिससे वे 1 हेक्टेयर में 80 से 90 क्विटल गेंहू उगाने का लक्ष्य प्राप्त कर सकें. इस गांव में करीब सौ हेक्टेयर से ज्यादा रकबे में गेहूं की फसल उगाई जा रही है.ये भी पढ़ें-
दिल्‍ली के 'दंगल' में उतरे शिवराज, बोले- केजरीवाल के झूठ को पहचान गई है जनता, BJP को मिलेगा बहुमत

 

CM कमलनाथ का बड़ा ऐलान, अब MP में कांग्रेस पढ़ाएगी राष्ट्रभक्ति का पाठ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 27, 2020, 10:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर