Assembly Banner 2021

इंदौर में 'डांसिंग कॉप' के बाद अब 'डांसिंग गर्ल' संभाल रहीं ट्रैफिक, वाहन चालकों को समझा रही नियम-कायदे

इंदौर में डांस करते हुए ट्रैफिक संभाल रही हैं सिम्बॉयसिस कॉलेज, पुणे की छात्रा शुभी जैन.

इंदौर में डांस करते हुए ट्रैफिक संभाल रही हैं सिम्बॉयसिस कॉलेज, पुणे की छात्रा शुभी जैन.

इंदौर (Indore) में डांस करते हुए ट्रैफिक संभालने वाले पुलिसकर्मी (Dancing Cop) तो याद होंगे न. कुछ ऐसा ही करतब डांसिंग गर्ल शुभी जैन (Dancing Girl handling traffic) भी इंदौर की सड़कों पर दिखा रही हैं.

  • Share this:
इंदौर. शहर में माइकल जैकसन की तरह डांस करते हुए ट्रैफिक (Dancing Cop) संभालने वाले पुलिसकर्मी रणजीत सिंह को तो आपने देखा होगा. इस समय पुणे के सिम्बॉयसिस कॉलेज (Symbiosis College Pune) की छात्रा शुभी जैन (Shubhi Jain) भी इंदौर में कुछ इसी अंदाज में लोगों को जागरूक करने के अभियान में जुटी हैं. शुभी न केवल ट्रैफिक संभाल रही हैं, बल्कि लोगों को ट्रैफिक रूल्स (Traffic Rules) बताकर उन्हें जागरूक भी कर रही हैं.

23 साल की ये छात्रा रेड सिग्नल (Traffic Signal) पर रुके वाहनों के पास जाकर लोगों को यातायात के नियम बता रही हैं. शुभी टू-व्हीलर वालों को जहां हेलमेट पहनने की सलाह देती हैं, तो कार चालकों से सीट बेल्ट लगाने का आग्रह करती हैं. ट्रैफिक नियम मानने वालों को धन्यवाद देती हैं, तो रूल्स तोड़ने वालों को नियम पालन की सीख भी देती हैं. हाईकोर्ट चौराहे पर तैनात ट्रैफिक कर्मी रणजीत सिंह की तरह शुभी का यह प्रयास इंदौर में आजकल चर्चा में है.

ट्रैफिक के लिए विजन-2022 योजना
इंदौर शहर में यातायात के सुगम प्रबंधन के लिए विजन 2022 के नाम से एक विस्तृत योजना लागू की गई है. इसके तहत शहर के यातायात में सुधार में लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करने की योजना को एक रूप दिया जा रहा है. इसके लिए शहर के पलासिया चौराहा से रीगल चौराहा तक के मार्ग को आदर्श मार्ग के रूप में चिह्नित किया गया है.
इस पर स्कूल व कॉलेज छात्र-छात्राओं के माध्यम से नागरिकों में यातायात के प्रति जागरूकता का प्रयास किया जा रहा है. इसी के तहत सिम्बॉयसिस कॉलेज से 10 दिन के लिए ये छात्रा इंदौर आई है. शुभी मूल रूप से बीना की रहने वाली हैं और इंदौर में पढ़ाई कर चुकी हैं. इसलिए वह इंदौर के ट्रैफिक से भी वाकिफ हैं. दो साल पहले शुभी डांसिंग कॉप के नाम से मशहूर ट्रैफिक सिपाही रणजीत सिंह से मिली थीं. उसी समय शुभी ने इसी स्टाइल में योगदान देने की बात कही थी. अब रणजीत खुद चौराहे पर खड़े होकर उसे ट्रेनिंग दे रहे हैं.



बीना की रहने वाली शुभी जैन इंदौर में पढ़ाई कर चुकी हैं, इसलिए शहर की ट्रैफिक व्यवस्था से भी वाकिफ हैं.


इंदौर में ट्रैफिक पुलिसकर्मियों की संख्या कम
35 लाख की जनसंख्या वाले इंदौर शहर के लिए 850 ट्रैफिक जवानों के पद स्वीकृत हैं, लेकिन वर्तमान में 390 पद खाली हैं. ऐसे में पूरे शहर की ट्रैफिक व्यवस्था महज 460 जवानों के हाथों में है. इसमें भी कई जवानों की ड्यूटी वीआईपी के साथ लगाए जाने के कारण इंदौर के चौराहों पर इनकी संख्या कम पड़ जाती है. ऐसे में शुभी जैसी जागरूक छात्राओं का साथ, इंदौर के ट्रैफिक को सुचारू रखने में मददगार साबित होता है. आपको बता दें कि इंदौर शहर के व्यस्त यातायात को देखकर हाईकोर्ट ये आदेश दे चुका है कि शहर में ट्रैफिक सिग्नल 24 घंटे चालू रखे जाएं. इसके अलावा सुबह 8 से 12 और शाम 5 से 11 बजे तक हर प्रमुख चौराहों और तिराहों पर दो ट्रैफिक पुलिस जवानों को तैनात किया जाए, ताकि लोगों को न केवल ट्रैफिक समस्या से निदान मिल सके बल्कि एक्सीडेंट की संख्या में भी कमी आ सके.

ये भी पढ़ें -

'बालिका वधू' बनने से बची 14 वर्षीय लड़की, 21 साल के युवक से होनी थी शादी

पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन से उनके घर पर मिलने पहुंचे खेल मंत्री जीतू पटवारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज