लाइव टीवी

CMIE की रिपोर्ट के बाद बिफरी भाजपा, MLA आकाश विजयवर्गीय ने कमलनाथ सरकार को याद दिलाया 'वचनपत्र'

Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 22, 2019, 8:42 PM IST
CMIE की रिपोर्ट के बाद बिफरी भाजपा, MLA आकाश विजयवर्गीय ने कमलनाथ सरकार को याद दिलाया 'वचनपत्र'
कांग्रेस अपने वचनपत्र में किया वादा करे पूरा- आकाश विजयवर्गीय

कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) मध्‍य प्रदेश में बेरोजगारी (Unemployment) में आई कमी से गद्गद् है. जबकि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (Centre for Monitoring Indian Economy) की रिपोर्ट के बाद भाजपा के युवा विधायक आकाश विजयवर्गीय (MLA Akash Vijayvargiya) ने सरकार को बेरोजगारी भत्ता देने की याद दिलाई है.

  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश में बेरोजगारी (Unemployment) में आई कमी से राज्य की कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) गद्गद् दिखाई दे रही है, लेकिन बीजेपी इसी रिपोर्ट के बहाने सरकार को बेरोजगारी भत्ता देने की याद दिला रही है. भारतीय जनता पार्टी के युवा विधायक आकाश विजयवर्गीय (MLA Akash Vijayvargiya) ने कहा कि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (Centre for Monitoring Indian Economy) की रिपोर्ट तो ठीक है लेकिन कांग्रेस सरकार अपने वचनपत्र के मुताबिक युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देने का वादा पूरा करे.

आकाश विजयवर्गीय ने लगाए ये आरोप
सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी यानि सीएमआईई की रिपोर्ट में पिछले 10 महीने में बेरोजगारी की दर में आई कमी से भले की कमलनाथ सरकार अपनी पीठ थपथपा रही हो, लेकिन बीजेपी के वार से वो बच नहीं पा रही है. रिपोर्ट आने बाद बीजेपी के युवा विधायक आकाश विजयवर्गीय ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भले ही बेरोजगारी में कमी आई हो, लेकिन सरकार अपने वादे के मुताबिक बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता नहीं दे पाई है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने वचनपत्र में वादा किया था कि वो राज्य के युवा बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देगी. जबकि आज तक एक भी युवा को बेरोजगारी भत्ता नहीं मिला है और तो और बेरोजगारी भत्ता देने का प्रोसेस भी सरकार अभी तक शुरू नहीं कर पाई है. ऐसे में इस योजना के लागू होने पर भी संदेह है.

कांग्रेस ने युवाओं को ठगा

इसके अलावा आकाश विजयवर्गीय ने कहा कि युवाओं ने इसी आस में कांग्रेस का साथ दिया था कि उन्हें बेरोजगारी भत्ता मिलेगा, लेकिन उनकी आस पूरी नहीं हुई है. आज युवा निराश हैं ऐसे में जनता जनार्दन को बीजेपी और कांग्रेस सरकार का आकलन करना होगा.

रिपोर्ट में हुआ ये खुलासा
हम आपको बता दें कि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी की रिपोर्ट में पिछले 10 महीने में मध्‍य प्रदेश में बेरोजगारी की दर में कमी आई है. दिसंबर 2018 में बेरोजगारी 7 फीसदी थी, लेकिन सितंबर 2019 के अंत तक बेरोजगार दर गिरकर 4.2 फीसदी हो गई है. कमलनाथ सरकार अपने 10 महीने के छोटे से कार्यकाल में बेरोज़गारी दर को 40 फीसदी तक कम करने में कामयाब हुई है. सरकार इसे बड़ी उपलब्धि बता रही है, तो बीजेपी इसे कोई बड़ी उपलब्धि नहीं मान रही है.
Loading...

दिसंबर 2018 से पहले ये थी एमपी स्थिति
दिसंबर 2018 के पहले बीजेपी सरकार के दौरान मध्‍य प्रदेश में 21 से 30 साल के 53 फीसदी युवा बेरोजगार थे. राज्य के हर छठे घर में एक युवा बेरोजगार और हर 7वें घर में एक शिक्षित युवा बेरोजगार था. रोजगार कार्यालय के डाटा के अनुसार दिसंबर 2018 तक युवा बेरोजगारों की संख्या 30 लाख के पार कर गई थी. जबकि दिसम्बर 2017 में युवा बेरोजगारों की संख्या 23 लाख 90 हजार थी. आपको बता दें कि मध्‍य प्रदेश में ढाई लाख से ज्यादा सरकारी पद खाली हैं, लेकिन भर्तियां कछुआ चाल से की जा रहीं हैं.

ये भी पढ़ें-

बेरोजगारी को लेकर BJP-कांग्रेस में घमासान, सरकार 'छिंदवाड़ा मॉडल' को प्रदेश में करेगी लागू

दीपावली और धनतेरस में इस राशि के लोगों को होगा बंपर फायदा, जानिए क्या कहते हैं ग्रह-नक्षत्र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 8:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...