इंदौर में भी हो चुका है मुन्ना बजरंगी स्टाइल में 'शूटआउट एट जेल'

फाइल फोटो.

फाइल फोटो.

यह पहला मामला नहीं है जब किसी कुख्यात को किसी दूसरे गिरोह ने अपने जेल सेटिंग की मदद से हत्या करवा दी हो. इससे पहले भी कई बार बदमाशों की जेल सेटिंग के चलते हत्या की साजिशें रची गईं है.

  • Share this:
बागपत जेल की तरह इंदौर सेंट्रल जेल में भी एक शार्प शूटर अर्जुन त्यागी हत्याकांड हो चुका है. मामला 4 साल पहले का है जब उसकी बैरक में घुसकर एक दूसरे गैंग के बदमाशों ने उसके सीने में गोलियां दाग दी थी.



उत्तर प्रदेश के कुख्यात माफिया मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या कर दी गई. पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने के आरोप में सोमवार को बागपत कोर्ट में मुन्ना बजरंगी की पेशी होनी थी. यह पहला मामला नहीं है जब किसी कुख्यात को किसी दूसरे गिरोह ने अपने जेल सेटिंग की मदद से हत्या करवा दी हो. इससे पहले भी कई बार बदमाशों की जेल सेटिंग के चलते हत्या की साजिशें रची गईं है.



मामला मध्य प्रदेश के इंदौर शहर का है. यहां 4 सितंबर 2014 को सेंट्रल जेल में गोलीबारी हई थी. हत्या के आरोप में सजा काट रहे अपराधी जीतू ठाकुर ने एक अन्य शातिर अपराधी और सुपारी किलर अर्जुन त्यागी की उसकी बैरक में घुसकर हत्या कर दी थी. जीतू ठाकुर ने अर्जुन त्यागी के सीने में दो गोलियां मारी जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई.





बता दें कि अर्जुन त्यागी एक सुपारी किलर था. वह मुंबई के कुख्यात रवि पुजारा गैंग के लिए काम करता था. इस सुपारी किलर को सूरत जाते समय पकड़ा गया था. उसके पास से अत्याधुनिक हथियार मिले थे.
इंदौर सेंट्रल जेल में शार्प शूटर अर्जुन त्यागी की गोली मारकर हत्या के मामले में जेल प्रबंधन की लापरवाही भी सामने आई थी. घटना वाले दिन ही डीजी जेल सुरेंद्र सिंह ने पांच अफसर और कर्मचारी डिप्टी सुपरिंटेंडेंट सुजीत खरे, असिस्टेंट सुपरिंटेंडेंट रमेश मरावी, मुख्य प्रहरी और दो प्रहरियों को तत्काल निलंबित कर दिया था.



ये भी पढ़ें:  चार सगे भाइयों ने बंधक बनाकर पीटा, अस्पताल ले जाते समय युवक की मौत



सूखे से गुस्साए बुंदेलखंड के लोग, चक्का जाम के बाद पुलिस पर किया पथराव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज