Home /News /madhya-pradesh /

इंदौर में चूड़ी वाले को 108 दिन बाद मिली जमानत, नाबालिग से छेड़छाड़ के बाद हुई थी पिटाई

इंदौर में चूड़ी वाले को 108 दिन बाद मिली जमानत, नाबालिग से छेड़छाड़ के बाद हुई थी पिटाई

इंदौर हाई कोर्ट ने मॉब लिंचिंग के बाद गिरफ्तार किए गए तस्लीम को जमानत दे दी है.

इंदौर हाई कोर्ट ने मॉब लिंचिंग के बाद गिरफ्तार किए गए तस्लीम को जमानत दे दी है.

Indore Mob Lynching Case: चूड़ी वाले की पिटाई का वीडियो वाइरल होते ही इंदौर समेत देशभर की सियासत गरमा गई थी. इंदौर में तो एक समुदाय विशेष के लोगों ने सेंट्रल कोतवाली थाने का घेराव कर दिया और पुलिस का बंधक तक बना लिया. कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी से लेकर दिग्विजय सिंह और असद्दुदीन उवैसी तक ने वीडियो को शेयर कर शिवराज सरकार को निशाने पर ले लिया.

अधिक पढ़ें ...

इंदौर. देश भर में चर्चित रहे मॉब लिंचिंग के मामले में इंदौर हाई कोर्ट (Indore Hihg Court) ने चूड़ी वाले तस्लीम को जमानत दे दी. इसके बाद बुधवार को 108 दिन बाद तस्लीम की जेल से रिहाई हो जाएगी. इंदौर के वाणगंगा इलाके में चूड़ी बेचने वाले के साथ सामूहिक मारपीट की गई थी और बाद में नाबालिग से छेड़छाड़ के आरोप में उसे जेल भेज दिया गया था. इंदौर के वाणगंगा थाना क्षेत्र में गोविंद नगर कॉलोनी में रक्षाबंधन के दिन उत्तर प्रदेश का रहने वाला तस्लीम चूड़ी बेचने पहुंचा था. तभी उसके साथ भीड़ ने मारपीट कर दी थी, जिसका वीडियो वाइरल हुआ था.

दरअसल तस्लीम पर 13 साल की लड़की से छेड़खानी का आरोप लगाया गया था. बताया गया था कि एक मां बेटी ने चूड़ी बेचने वाले तस्लीम का नाम पूछा तो उसने अपना नाम गोलू बताया और अपना वोटर आईडी कार्ड भी दिखाया. उसके बाद मां बेटी ने उससे चूंड़ियां खरीद लीं और बच्ची की मां घर के अंदर पैसे लेने चली गई. उसी दौरान आरोपी ने बच्ची का हाथ पकड़ा और उसे बुरी नीयत से छूने लगा. आरोपी ने बच्ची के गाल पर भी हाथ लगाया. इससे बच्ची घबरा गई और उसने शोर मचाया. शोर सुनकर बच्ची की मां और आसपास के लोग इकट्ठा हो गए,ये देख चूड़ीवाला घबरा कर भागने लगा, लेकिन लोगों ने उसे पकड़कर जमकर धुनाई कर दी.

पॉक्से एक्ट में हुई थी कार्रवाई
इसके बाद पुलिस ने चूड़ी वाले पर पॉस्को एक्ट लगाकर गिरफ्तार कर लिया,अब जाकर हाई कोर्ट जस्टिस सुजय पॉल ने अपने फैसले में 22 अगस्त 2021 से जेल में बंद तस्लीम को जमानत दे दी. तस्लीम के वकील एहतेशाम हाशमी ने इसे संविधान की जीत बताया और कहा कि ये क्रिमिनल केस नहीं था. बल्कि पॉलिटिकल मोटीवेटिड केस था. राजनैतिक कारणों से ये केस दर्ज किया गया था. वोटों की राजनीति के लिए सरकारें हिंदू मुस्लिमों को लड़ातीं हैं, लेकिन इंदौर की सबसे खूबसूरती ये है कि यहां हिंदू मुस्लिम भाई भाई की तरह रहते हैं, जो मध्यप्रदेश की गंगा जमुनी तहजीब है वो हमेशा जिंदा रहेगी.

Tags: High Courts, Indore news, Madhya pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर